कोरोना पॉजिटिव पाये गये मरीजों के निवास स्थल एपिसेंटर घोषित, इनके तीन किलोमीटर परिधि का एरिया कन्टोनमेंट क्षेत्र रहेगा

कोरोना पॉजिटिव पाये गये मरीजों के निवास स्थल एपिसेंटर घोषित, इनके तीन किलोमीटर परिधि का एरिया कन्टोनमेंट क्षेत्र रहेगा

मीडियावाला.इन।

इंदौर. इंदौर जिले में कोरोना पॉजिटिव पाए गए मरीजों के निवास स्थल को एपिसेंटर घोषित किया गया है। इनके तीन किलोमीटर परिधि का एरिया कन्टोनमेंट एरिया घोषित किया गया है। कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी श्री लोकेश कुमार जाटव द्वारा इस संबंध में आदेश जारी किए गए हैं।
जारी आदेश के अनुसार कन्टोनमेंट एरिया के अंतर्गत पूर्ण रूप से आवागमन प्रतिबंधित रहेगा। कन्टोनमेंट एरिया के समस्त निवासियों का होम क्वारंटाइन में रहना उचित होगा। उसके बाद ही जो कर्फ्यू लगाया गया है, उसका सही तरीके से क्रियान्वयन हो सकेगा। कन्टोनमेंट एरिया के अंदर भी आवागमन पूर्ण तरह से प्रतिबंधित रहेगा। कन्टोनमेंट एरिया से तीन किलोमीटर की परिधि को पेरीमीटर कन्ट्रोल किया जाना होगा, जिसके अंतर्गत आवश्यक सुविधाओं के अतिरिक्त किसी भी प्रकार से लोगों का बाहर जाना प्रतिबंधित रहेगा। कन्टोनमेंट एरिया हेतु सीएमएचओ द्वारा विशेष आर.आर.टी. जिसके अंतर्गत एक फिजिशियन, एक एपीडिमियोलॉजिस्ट, पैथोलोजिस्ट, माईक्रोबायोलॉजिस्ट, डाक्यूमेंटेशन स्टाफ रखा जायेगा। मेडिकल मोबाईल यूनिट जिसके अंतर्गत एक मेडिकल ऑफिसर, एक पेरामेडिकल स्टाफ, लेब टेक्निशियन व डाम्यूमेंटेशन स्टाफ का गठन किया जायेगा। उक्त क्षेत्र के एक्जिट पाईंट पर स्वास्थ्य कर्मचारियों द्वारा सतत स्क्रीनिंग की जायेगी।
समस्त टीम COVID-19 सस्पेक्टेड केस की मॉनिटरिंग प्रतिदिन करेंगे एवं COVID-19 संक्रमण के संभावित लक्षण जैसे बुखार, खांसी, गले में दर्द एवं श्वास लेने में तकलीफ आदि लक्षण आने पर आर.आर.टी. टीम को सूचना देना सुनिश्चित करेंगे। समस्त COVID-19  संक्रमण के पॉजिटिव केस के परिजन, निकट सम्पर्क को होम क्वारंटाइन कराया जाना अति आवश्यक है, जिससे संक्रमण को समुदाय में फैलने से रोका जा सके।
जिनको होम क्वारंटाइन किया गया है उनका प्रतिदिन फॉलोअप लेना होगा (विजिट या दूरभाष के माध्यम से) जब तक कि सस्पेक्टेड केस का रिजल्ट नेगेटिव ना आ जाये और यदि रिजल्ट पॉजिटिव आता है तो संबंधित के TRUE कॉन्टेक्ट को 14 दिन तक होम क्वारंटाइन में रखना होगा एवं फोलोअप 28 दिन तक प्रतिदिन रखना होगा। आगे संक्रमण फैलाने से रोकने हेतु त्वरित कार्यवाही के अंतर्गत संदिग्ध संक्रमित की कांटेक्ट ट्रेकिंग करते हुए समस्त संबंधितों (सेल्फ डिक्लेरेशन फार्म में उल्लेखित) से अनिवार्यत: सम्पर्क किया जाकर उन्हें भी होम क्वारंटाइन करवाने की कार्यवाही व उनकी भी प्रतिदिन सम्पर्क करते हुए सम्पर्क एवं ट्रेकिंग की रिपोर्टिंग किया जाना सुनिश्चित करें।
नगर निगम के जोनल अधिकारी द्वारा क्षेत्र का सेनेटाईजेशन किया जाना सुनिश्चित होगा। सस्पेक्टेड केस को सेक्टर मेडिकल ऑफिसर/आर.आर.टी. द्वारा परीक्षण किये जाने तक एक अलग चिन्हित कमरे में आईसोलेशन में रखा जाना सुनिश्चित करना है एवं समस्त परिवार को फेस मास्क उपलब्ध कराते हुए हैण्ड हाईजीन और पर्सनल हाईजीन के प्रोटोकॉल पालन करवाना सुनिश्चित करने के निर्देश दिये गये हैं।

RB

 

0 comments      

Add Comment