चौथी बार CM बनने के बाद शिवराज ने सिंधिया और कांग्रेस के बागी 22 पूर्व विधायकों को कहा शुक्रिया

चौथी बार CM बनने के बाद शिवराज ने सिंधिया और कांग्रेस के बागी 22 पूर्व विधायकों को कहा शुक्रिया

मीडियावाला.इन।

भोपाल
करीब 15 महीने बाद फिर से मध्य प्रदेश की सत्ता संभालने वाले शिवराज सिंह चौहान ने सीएम के तौर पर शपथ लेने के कुछ देर बाद ही कांग्रेस के बागियों का खास तौर पर शुक्रिया अदा किया। इतना ही नहीं, उन्होंने कांग्रेस छोड़कर बीजेपी का दामन थामने वाले इन 22 पूर्व विधायकों को भरोसा दिलाया कि वह उनका विश्वास कभी टूटने नहीं देंगे। दरअसल, कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया की बीजेपी में एंट्री और 22 बागियों के चलते ही एमपी की सत्ता एक बार फिर शिवराज को नसीब हुई है।भरोसा कि भरोसा नहीं टूटने दूंगा...
सीएम पद की शपथ लेने के बाद शिवराज ने ट्वीट किया, 'जिन 22 पूर्व विधायकों ने अपनी पार्टी की सदस्यता त्याग कर BJP की सदस्यता ग्रहण की है, मैं उन साथियों के प्रति आभार प्रकट करता हूं और उन्हें धन्यवाद देता हूं। मैं उन्हें आश्वस्त करता हूं कि उनकी उम्मीदों पर खरा उतरूंगा और उनके विश्वास को कभी टूटने नहीं दूंगा।'.                                                       
 

Shivraj Singh Chouhan✔@ChouhanShivraj

जिन 22 पूर्व विधायकों ने अपनी पार्टी की सदस्यता त्याग कर @BJP4India की सदस्यता ग्रहण की है, मैं उन साथियों के प्रति आभार प्रकट करता हूँ और उन्हें धन्यवाद देता हूँ।

मैं उन्हें आश्वस्त करता हूँ कि उनकी उम्मीदों पर खरा उतरूंगा और उनके विश्वास को कभी टूटने नहीं दूंगा।

27.1K

9:32 PM - Mar 23, 2020

Twitter Ads info and privacy

4,405 people are talking about this

महाराज, शिवराज...और शुकराना
ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी में शामिल होने पर 'साथ हैं शिवराज-महाराज' कहने वाले शिवराज सिंह चौहान ने शपथ के बाद उनका भी शुक्रिया अदा किया। उन्होंने कहा कि वह सिंधिया के साथ मिलकर एमपी के विकास के लिए काम करते रहेंगे। सिंधिया पहले ही कांग्रेस के साथ बगावत में अपना साथ देने वाले सभी 22 पूर्व विधायकों को उपचुनाव में बीजेपी का टिकट दिलाने का वादा कर चुके हैं।                                   
 

Shivraj Singh Chouhan✔@ChouhanShivraj

श्री @JM_Scindia जी, मैं आपका हॄदय से आभारी हूँ और आपका अभिनंदन करता हूँ। हम मध्यप्रदेश की प्रगति और विकास के लिए साथ मिलकर सदैव कार्य करते रहेंगे। https://twitter.com/JM_Scindia/status/1242102762118057984 …

Jyotiraditya M. Scindia✔@JM_Scindia

मध्यप्रदेश में भाजपा की सरकार बनने और चौथी बार मुख्यमंत्री का पद संभालने पर श्री शिवराजसिंह चौहान जी को हार्दिक बधाई।प्रदेश के विकास प्रगति और उन्नति में मैं सदैव आपके साथ खड़ा हूं।मुझे पूरा विश्वास है कि आप के नेतृत्व में मप्र विकास के नए आयाम स्थापित करेगा।@ChouhanShivraj

View image on Twitter     शिवराज बोले- कोरोना से लड़ाई प्राथमिकता, पीएम मोदी ने दी बधाई

चौथी बार मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वाले शिवराज ने आगे कहा कि उनकी पहली प्राथमिकता कोरोना वायरस से मुकाबला है बाकी सब बाद में। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें एमपी के मुख्यमंत्री की शपथ लेने के लिए बधाई दी। प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर उन्हें एक अनुभवी प्रशासक और राज्य के विकास के लिए बेहद जुनूनी बताया।                           बताया।

 

Shivraj Singh Chouhan✔@ChouhanShivraj

आप की शुभकामनाओं के लिए हृदय की गहराइयों से धन्यवाद।

मेरी सबसे पहली प्राथमिकता से मुक़ाबला है।

बाक़ी सब बाद में...

48K

9:15 PM - Mar 23, 2020

Twitter Ads info and privacy

10.7K people are talking about this

 

Narendra Modi✔@narendramodi

Congratulations to Shri @ChouhanShivraj Ji on taking oath as CM of Madhya Pradesh. He is an able and experienced administrator who is extremely passionate about MP’s development.

Best wishes to him for taking the state to new heights of progress.

68.6K

9:45 PM - Mar 23, 2020

Twitter Ads info and privacy

12.1K people are talking about this


चौथी बार मध्य प्रदेश के सीएम बने शिवराज
चौहान ने सोमवार रात को भोपाल में मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। राज्यपाल लालजी टंडन ने उन्हें पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। इससे पहले कांग्रेस के 22 विधायकों के इस्तीफा देने के बाद मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार अल्पमत में आ गई थी। विश्वास मत से पहले ही कमलनाथ को इस्तीफा देना पड़ा।

                     


2018 में शिवराज जीते, पार्टी हार गई
साल 2018 में शिवराज लगातार चौथी बार मुख्‍यमंत्री बनने की तैयारी में थे। बुधनी सीट से शिवराज तो जीत गए मगर बीजेपी को विधानसभा चुनाव में 109 सीटें ही हासिल हो पाईं। कांग्रेस भी अपने दम पर पूर्ण बहुमत नहीं जुटा सकी थी मगर बसपा, सपा और निर्दलीयों को साथ लेकर कमलनाथ मुख्‍यमंत्री बने। उनकी सरकार को 15 महीने भी नहीं हुए थे कि मध्‍य प्रदेश में पासा पलट गया। शिवराज ने कांग्रेस के कद्दावर नेता ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया को अपने साथ कर लिया और 22 कांग्रेसी विधायक भी बागी हो गए। कमलनाथ सरकार गिर गई और शिवराज यानी 'मामा' की फिर से मध्‍य प्रदेश की सत्‍ता में वापसी हो गई।        

0 comments      

Add Comment