The criminal jumped into the pond and drowned : पुलिस से बचने के लिए कुख्यात अपराधी तालाब में कूदा और डूब गया

चार जिलों में कई मामले दर्ज, 50 हजार का इनामी, 8 मामलों में फरार घोषित

1065

Dhar : अलीराजपुर जिले के जोबट इलाके के बोरी के नजदीक रणजीतगढ़ तालाब में तीन दिन पहले पानी में डूबने से एक कुख्यात बदमाश मुकेश पिता बिशन उर्फ़ कैलाश वासुनिया की मौत हो गई। इस बदमाश के खिलाफ धार, देवास, झाबुआ और इंदौर जिले में करीब 10 मामले दर्ज थे। आठ मामलों में वह फरार था और पुलिस के अलावा इलाके के लोगों के लिए भी वह सिर दर्द बना हुआ था। बताया गया कि उसका इतना आतंक था कि कोई उसके खिलाफ मुंह खोलने की हिम्मत नहीं करता था। उसके खिलाफ विभिन्न थानों ने 50 हज़ार का इनाम घोषित कर रखा था। शनिवार को उसका शव तालाब से बरामद किया गया। धार जिले की बाग पुलिस के हाथ से बचने के लिए वह तालाब में कूदा था। रंजीतगढ थाना तालाब का एक छोर अलीराजपुर तो दूसरा बाग थाना क्षेत्र में लगता है।

इस मामले में पुलिस पर आरोप लगाया जा रहा है कि उसने गोली चलाई, जिसके लगने से मुकेश पानी में गिरा और उसकी मौत हुई! जबकि, प्रत्यक्षदर्शियों मुताबिक पुलिस ने गोली नहीं चलाई! वह पुलिस से बचने के लिए तालाब में कूदा था कि पार करके भाग जाऊं! पर, आधे से ज्यादा तालाब पार करने के बाद वह डूब गया। तीसरे दिन शनिवार को उसका शव निकाला गया। बिना गोताखोरों के पुलिस ने तालाब में तीन दिन तक नाव से शव की तलाश की। शनिवार को कुछ ग्रामीणों ने अलीराजपुर के जोबट थाने पर शव रखकर प्रदर्शन करने की भी कोशिश की थी। बाद में वे शव ले जाने को तैयार हुए।

मुकेश पर दस से ज्यादा मामले लूट, डकैती, और मारपीट के दर्ज हैं। इस वजह से लोग उससे बहुत परेशान थे। उसके खिलाफ धार, बड़वानी, देवास और इंदौर जिलों के कई थानों में मामले दर्ज हैं। मुकेश पेशेवर और आदतन अपराधी था। आठ मामलों में फरार था। कई थानों से उसके खिलाफ इनाम भी घोषित था। कानवन थाने में 10 हजार, बागली (जिला देवास) थाने में 20 हजार, हाटपिपलिया थाने में 10 हजार, उदय नगर थाने का स्थायी वारंटी था।

धार जिले की बाग थाना पुलिस बदमाश का पीछा कर रही थी। एसडीओपी एवी सिंह ने बताया कि बाग पुलिस को सूचना मिली थी कि आरोपी मुकेश गांव में मौजूद है । उसे पकड़ने के लिए बाग थाने की एक टीम उसके गांव रंजीतगढ गई। गांव में पुलिस को देखते ही मुकेश वासुनिया भागने लगा और भागता हुआ रंजीतगढ तालाब पहुंचा और छलांग लगा दी। मुकेश ने तालाब को आधा पार किया, लेकिन बाद में डूब गया। जबकि, पुलिस ने न तो मुकेश पर गोलियां दागी न वो इतने नजदीक ही था। बताया गया कि मुकेश पहले ट्रैक्टर से भागा, बाद में तालाब के पास उससे उतरकर पानी में कूद गया।

ये मामला दो जिलों के पुलिस के बीच का है। लूट सहित अन्य अपराधों में अपराधों में वांछित इनामी बदमाश का पीछा कर रही धार जिले की पुलिस से बचने के लिए बदमाश तालाब में कूद गया था। ग्रामीणों का आरोप है कि पुलिस की गोली से घायल होने के बाद बदमाश डूबा, लेकिन पुलिस ने गोली चलाने से इनकार किया।

धार के पुलिस अधीक्षक आदित्य प्रताप सिंह ने भी मुकेश पर 10 हजार का इनाम घोषित किया था। मुकेश के पिता पर भी लगभग चार मामले दर्ज है। एक मामला हत्या के प्रयास का है। धार के पुलिस अधीक्षक ने बताया कि गोली चलाने की बात अफवाह है। पुलिस दल ने गोली नहीं चलाई। बाग पुलिस को फरार इनामी बदमाश मुकेश की सूचना उसके गांव में होने की सूचना मिली थी। इसके बाद पुलिस गिरफ्तार करने पहुंची थी। पुलिस बचने के लिए उसने तालाब में छलांग लगा दी, जिससे डूबने से उसकी मौत हुई।