महर्षि वाल्मीकि एयर पोर्ट पर उतरा पहला हवाई जहाज, पायलट ने जय राम का उद्घोष किया

833

महर्षि वाल्मीकि एयर पोर्ट पर उतरा पहला हवाई जहाज, पायलट ने जय राम का उद्घोष किया

ई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कई परियोजनाओं का उद्घाटन करने के लिए शनिवार की सुबह मंदिरों के शहर अयोध्या में थे. पीएम मोदी द्वारा उत्तर प्रदेश के अयोध्या में महर्षि वाल्मीकि इंटरनेशनल एयरपोर्ट का उद्घाटन करने के तुरंत बाद इंडिगो ने दोपहर को दिल्ली से उड़ान भरी.

मालूम हो कि ये फ्लाइट अयोध्या पहुंच चुकी है.

इंडिगो के पायलट आशुतोष शेखर ने फ्लाइट में सवार सभी यात्रियों का स्वागत किया. पायलट आशुतोष शेखर ने कहा, “मैं भाग्यशाली हूं कि इंडिगो ने मुझे इस महत्वपूर्ण उड़ान की कमान संभालने का मौका दिया. हमें उम्मीद है कि आपकी यात्रा अच्छी और सुखद होगी. हम आपको और अपडेट देंगे. जय श्री राम.” इसके बाद यात्रियों ने भी ‘जय श्री राम’ का उद्घोष किया.

 

पीएम मोदी ने किया कई परियोजनाओं का उद्घाटन
22 जनवरी को श्री राम मंदिर के अभिषेक समारोह से कुछ दिन पहले, पीएम मोदी कई परियोजनाओं का उद्घाटन करने के लिए शनिवार सुबह अयोध्या पहुंचे. नए हवाई अड्डे के अलावा, पीएम मोदी ने पुनर्विकसित अयोध्या रेलवे स्टेशन का भी शुभारंभ किया. इसके अलावा उन्होंने दो अमृत भारत ट्रेन को हरी झंडी दिखाई. छह वंदे भारत ट्रेनों और 15,700 करोड़ रुपये की विकास परियोजनाओं का उद्घाटन किया.

 

1,450 करोड़ रुपये की लागत आई है हवाई अड्डे पर
अत्याधुनिक नए अयोध्या हवाई अड्डे का पहला चरण 1,450 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से विकसित किया गया है. हवाई अड्डे के टर्मिनल भवन का क्षेत्रफल 6500 वर्गमीटर होगा, जो सालाना लगभग 10 लाख यात्रियों की सेवा के लिए सुसज्जित होगा. जबकि भवन का अग्रभाग आगामी राम मंदिर की मंदिर वास्तुकला को दर्शाता है.

टर्मिनल भवन में भगवान राम का जीवन
एक आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार, टर्मिनल भवन के अंदरूनी हिस्सों को भगवान राम के जीवन को दर्शाने वाली स्थानीय कला, पेंटिंग और भित्ति चित्रों से सजाया गया है. अयोध्या हवाई अड्डे का टर्मिनल भवन भी कई सुविधाओं से सुसज्जित है, जैसे एक इंसुलेटेड छत प्रणाली, एलईडी प्रकाश व्यवस्था, वर्षा जल संचयन, फव्वारे के साथ भूदृश्य, एक जल उपचार संयंत्र, एक सीवेज उपचार संयंत्र, एक सौर ऊर्जा संयंत्र, और कई अन्य सुविधाएं प्रदान की गई हैं.