महाकाल मंदिर के स्वर्ण शिखर का टुकड़ा गिरा, पुजारी ने लौटाया

1923

उज्जैन से सुदर्शन सोनी की रिपोर्ट

उज्जैन। महाकाल मंदिर के शिखर पर लगे स्वर्ण शिखर का टुकड़ा अचानक नीचे गिर गया जिसे महाकाल मंदिर में दर्शन करने आए सालासर बालाजी राजस्थान के महाराज तथा महाकाल मंदिर के पुजारी यश गुरू द्वारा महाकाल मंदिर कंट्रोल रूम के सुपुर्द किया गया।

सालासर बालाजी राजस्थान के पुजारी राकेश महाराज महाकाल मंदिर में दर्शन हेतु आए थे, दर्शन के बाद बाहर निकलने के दौरान उन्हें महाकाल मंदिर के शिखर का बड़ा टुकड़ा गिरा मिला। उन्होंने स्वर्ण शिखर को उठाकर इसकी सूचना महाकाल मंदिर के पुजारी यश गुरू को दी। यश गुरू ने इस स्वर्ण शिखर को महाकाल कंट्रोल रूम में जमा कराया। इस दौरान यश गुरू के साथ मंदिर समिति कर्मचारी दयानंद परिहार भी मौजूद रहे। सालासर बालाजी के राकेश महाराज ने इस घटना पर महाकाल मंदिर समिति को सुझाव दिया कि लाखों रूपये कीमत का स्वर्ण शिखर महाकाल मंदिर में स्थापित है, इसकी सुरक्षा एवं नियमित देखरेख मंदिर प्रशासन करें, ताकि भविष्य में किसी प्रकार की आर्थिक हानि होने से बचा जा सके वहीं इस तरह यदि उपर से स्वर्ण शिखर के टूकड़े गिरने से किसी को चोट लगने से भी बचा जा सके।