मोबाईल पर बात करते करंट लगने से दर्दनाक मौत

परिजनों ने छतरपुर MPEB के सामने लाश रखकर लगाया जाम..

675

छतरपुर से राजेश चौरसिया की रिर्पोट

छतरपुर: जिले के बड़ामलहरा थाना के ग्राम दरगुवा में बिजली विभाग के उप केंद्र में मोबाइल पर बात करते वक्त स्टेशन के अंदर ड्राइवर को करंट लगने से उसकी मौके पर ही दर्दनाक मौत का मामला सामने आया है। जहां अब पड़ोसियों और परिजनों ने उसके शव को छतरपुर मुख्यालय के MPEB आफिस के सामने NH सड़क पर रखकर जाम लगा दिया। जिससे भारी लंबा जाम लग गया और गाड़ियों की भारी कतार लग गई।

लोगों की मांग थी कि मृतक के परिवार में उसकी बीवी और दो बच्चों के अलावा कोई नहीं है वह किराए में मकान में रहते हैं, मौत के बाद अब सब बेसहारा और उनका जीवन बेकार हो गया है। उन पर समस्याओं का पहाड़ टूट पड़ा है, तो अब लोगों का कहना था कि उसकी पत्नी को विभाग में नौकरी दी जाए बच्चों की परवरिश के 10 लाख रुपये और अंतिम संस्कार के लिए तत्काल सहायता राशि दी जाए।

आंदोलनकारी

मामले की जानकारी लगते ही पुलिस, प्रशासन, और MPEB के अधिकारी मौके पर पहुंच गए उन्होंने आंदोलनकारियों से बात की और विभागीय रूल्स रेगुलेशन के हिसाब से हर संभव मदद की बात की तो वहीं कर्मचारियों द्वारा तत्काल 50 हजार की राशि मुहैया कराने की बात कही।

तत्पश्चात आंदोलन समाप्त हुआ जाम और शव को सड़क से हटाया गया टैब कहीं जाकर आवागमन सुचारू हो सका।

आर.ए. मिश्रा (कार्यपालन अभियंता)

विनय दुवेदी (SDM छतरपुर)

*●मृतक सरकारी कर्मचारी नहीं था..*

विधुत विभाग के अधिकारी कार्यपालन अभियंता आर.ए. मिश्रा की मानें तो मृतक शासकीय कर्मचारी नहीं था। वह प्राइवेट तौर पर विभाग में लगी प्राइवेट गाड़ी में बतौर ड्राईवर था हालांकि फिर भी विभागीय तौर पर रूल्स रेगुलेशन के हिसाब जो भी हो सकेगा हर संभव मदद करेंगे, जिसमें टाइम लगेगा हमें अधिकार नहीं है। तात्कालिक जो भी मदद हो सकती है हम कर्मचारी मिलकर कर देंगे।

*●यह है पूरा मामला..*

जानकारी के अनुसार बड़ामलहरा बिजली विभाग के दरगुवा सबस्टेशन के पैनल रिले खराब हो गए थे जिसे ठीक करने छतरपुर से बिजली विभाग की STM टीम जिसमें (घासीराम साहू, प्रकाश, धूराम को पिकअप केम्पर से ड्राईवर धर्मेन्द्र खरे) जो कि छतरपुर वार्ड नंबर 40 के शिव कालोनी निवाई है को लेकर लेकर शाम 5 बजे दरगुवा सबस्टेशन गए थे।

*●मोबाईल पर बात करते हुए हुई मौत..*

जहां STM टीम पैनल रिले ठीक करने चली गई तो इसी दौरान ड्राईवर धर्मेंद्र खरे किसी से मोबाइल फोन पर बात करते हुए स्टेशन के अंदर चला गया जहां ट्रांसफार्मर के पास लटकते हुए नंगे तार (को देख नहीं पाया और बातों में मस्त रहा) की चपेट में आ गया और उसे बिजली का करंट लगा जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई।

घटना की सूचना मिलते ही थाना प्रभारी जगत पाल सिंह, सहायक उपनिरीक्षक एम एल सोनी, आरक्षक सत्येंद्र पुलिस टीम के साथ घटना स्थल पहुंचे और मर्ग कायम कर मामले को जांच में लिया। साथ ही शव को PM के लिए भिजवा दिया।