UPSC-2023 Result : MP से 45 परीक्षार्थियों ने UPSC में सफलता पाई, इंदौर से एक भी नहीं! 

1013

UPSC-2023 Result : MP से 45 परीक्षार्थियों ने UPSC में सफलता पाई, इंदौर से एक भी नहीं!  

 

Bhopal : संघ लोक सेवा आयोग-2023 (UPSC-2023) की परीक्षा में इस बार देशभर में 1016 कैंडिडेट्स इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस (IAS), इंडियन पुलिस सर्विस (IPS) और इंडियन फॉरेन सर्विस (IFS) के लिए चुने गए हैं। 180 IAS और 200 IPS अफसर बनेंगे। मध्यप्रदेश से भी 45 परीक्षार्थी सफल हुए हैं। सबसे ज्यादा 12 परीक्षार्थी भोपाल से चयनित हुए। दूसरे स्थान पर ग्वालियर रहा जहां से 5 परीक्षार्थी चुने गए। आश्चर्य की बात है कि इस बार इंदौर से एक भी परीक्षार्थी नहीं चुना गया। जबकि, कई छोटे-छोटे शहरों और कस्बों के युवाओं ने भी अपनी प्रतिभा का परचम लहराया।

यूपीएससी से जारी लिस्ट के मुताबिक मध्य प्रदेश से सफल होने वालों में भोपाल से 12, ग्वालियर से 5, रीवा से 2, होशंगाबाद से 3, छतरपुर से 2, सागर 2, भिंड 2 परीक्षार्थी सफल हुए। जबकि धार, सिंगरौली, खरगोन, अशोकनगर, जबलपुर, देवास, बैतूल, सीधी, गुना, मंडला, मुरैना, खंडवा, बालाघाट, नरसिंहपुर से एक-एक परीक्षार्थी ने सफलता हासिल की। तीन परीक्षार्थी आराधना चौहान, पारमिता झालानी और तनु जाट किस शहर से हैं, यह जानकारी नहीं मिल सकी।

यूपीएससी सिविल सर्विस एग्जामिनेशन में इस साल कानपुर के आदित्य श्रीवास्तव ने देशभर में AIR-1 पोजीशन हासिल की। अनिमेष प्रधान ने द्वितीय और डोनुरु अनन्या रेड्डी ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। मध्यप्रदेश से भोपाल के अजय जैन ने देश में 16वीं रैंक प्राप्त की। जबकि, भोपाल के तेजस अग्निहोत्री को 27वीं रैंक मिली। ग्वालियर की मान्या को 84 वीं रैंक प्राप्त हुई। धार जिले के राजगढ़ की माही शर्मा को 106वीं रैंक मिली और वे आईपीएस बनी हैं।

भोपाल की छाया सिंह ने पूरे देश भर में 65वी रैंक हासिल की। उन्होंने चौथे प्रयास में सफलता प्राप्त की। छाया सिंह के पिता भी आईएएस हैं। छाया के पिता फिलहाल राजस्व मंडल ग्वालियर में अपर आयुक्त के पर पदस्थ हैं।

धार जिले के राजगढ़ की एक किराना व्यवसायी की बेटी माही शर्मा ने 106वीं रैंक लेकर यूपीएससी में सफलता प्राप्त की है उनकी कोशिश तो आईएएस बनने की थी लेकिन रैंक की वजह से उन्हें आईपीएस मिली लेकिन माही का कहना है कि वह अपने अगले प्रयासों में आईएएस बनकर बताएगी। बैतूल जिले के मोरखा गांव निवासी शुभम रघुवंशी का चयन हुआ। शुभम ने तीसरे प्रयास में परीक्षा में 556 वीं रैंक प्राप्त की। अधिवक्ता भोजराज रघुवंशी और शिक्षिका अनीता रघुवंशी के पुत्र शुभम ने प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा मोरखा के शासकीय स्कूल में प्राप्त की। तीसरे प्रयास में शुभम ने यूपीएससी परीक्षा में सफलता हासिल करते हुए 556 वीं रैंक प्राप्त की।

IMG 20240417 WA0130

छतरपुर जिले की गौरिहार तहसील के छोटे से गांव रजौरा से 22 वर्ष की उम्र में कुलदीप पटेल पुत्र राजकुमार पटेल पेशा खेती किसानी (लघु किसान) ने समूचे मध्यप्रदेश में 181 वीं रैक से यूपीएससी की परीक्षा उत्तीर्ण की है। परिवार व क्षेत्र का नाम रोशन करने में कुलदीप ने आईएएस बनकर जिले का नाम रोशन किया। क्षेत्र से पहली बार किसान का पुत्र आईएएस बना है।

रीवा की वेदिका बंसल ने 96वीं हासिल की। सतना की काजल सिंह ने यूपीएससी परीक्षा पास करके सतना का नाम रोशन किया है। उसने यूपीएससी की परीक्षा में 485 रैंक हासिल की। काजल के पिता शहर के कोलगवां थाने में उपनिरीक्षक पद पर पदस्थ हैं। छतरपुर से दो युवाओं ने यूपीएससी के फाइनल रिजल्ट में अपनी जगह बनाई है। कुलदीप पटेल और प्रज्जवल चौरसिया आईएएस बन गए हैं।