पोखरण की मिट्टी के कुछ नए सामान इस दिवाली आप भी ले सकते है एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा हैं ।

मिट्टी की कलाकृति के बर्तन और खिलौने

840

पोखरण की मिट्टी के कुछ नए सामान इस दिवाली आप भी ले सकते है एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा हैं

सन् 1974 में राजस्‍थान के जिस पोखरण में परमाणु परीक्षण कर भारत दुनिया को अपनी ताकत का अहसास कराया था आज इसी इलाके में स्‍थित शिकारपुरा के कुम्‍हार और कलाकार अपनी कला का लोहा मनवा रहे हैं। पोखरण के पास शिकारपुर के कुम्‍हारों ने इन 40 साल में इस इलाके की पहचान ही बदल दी है।पोखरण की मिट्टी से बर्तन काफी खूबसुरत बनते हैं। उन्‍होंने बताया कि यहां बनी मिट्टी की मूर्तियों का निर्यात दुनिया के कई देशों में होता है। साथ ही राजस्‍थान और गुजरात के भी कई घरों की शोभा बढ़ाते हैं,एक वीडियो वायरल हो रहा है ,कुछ नए प्रयोग मिट्टी के सामान के —आधिकारिक बुलेटिन - 4 (21-June-2020)केवीआईसी ने पोखरण के बर्तन बनाने की प्राचीन कला को पुनर्जीवित किया(KVIC starts reviving ancient glory of Pokhran potteries)