Friday, September 20, 2019
कांग्रेस विधायक के विवादित बोल, 'अगर जरूरत पड़े तो अधिकारी को जूते से मारो'

कांग्रेस विधायक के विवादित बोल, 'अगर जरूरत पड़े तो अधिकारी को जूते से मारो'

मीडियावाला.इन।

नई दिल्ली। छत्तीसगढ़ कांग्रेस विधायक बृहस्पति सिंह ने किसानों को संबोधित करते हुए ऐसा बयान दिया है, जिसकी वजह से उनकी हर तरफ आलोचना हो रही है। किसानों को संबोधित करते हुए कांग्रेस विधायक ने अपनी सभी मर्यादाओं को ताक पर रख दिया और कहा कि अगर बैंक का कोई भी अधिकारी किसानों को झूठे लोन की वसूली के लिए परेशान करता है तो उसे जूता मारना पड़े तो मारिए। कांग्रेस विधायक ने यह बयान छत्तीसगढ़ के बलरामपुर में आयोजित एक कार्यक्रम में दिया।

विधायक ने कहा कि बैंक अधिकारियों किसानों के साथ धोखाधड़ी कर रहे हैं। किसानों को कर्ज की गलत नोटिस भेजी जा रही है। मैंने मुख्यमंत्री साहब को अवगत कराया है और कलेक्टर साहब को निर्देश प्राप्त हुए हैं। जो अधिकारी गड़बड़ करता है, किसानों को धोखा देता है, जो अन्नदाता है वह हमारा पेट भरने का काम करता है, कलेक्टर साहब, एसपी साहब का पेट भरने का काम करता है, उसके साथ कोई भी अधिकारी अगर गड़बड़ करेगा तो किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं करना है, इनको हर हालत में जांच कराकर जेल भेजो, जूता मारना पड़े तो जूता मारो, लेकिन किसानों को धोखा देगा, बर्दाश्त नहीं होगा।

कांग्रेस विधायक ने कहा कि किसानों ने लोन नहीं लिया है, लेकिन बैंक अधिकारियों ने किसानों से धोखे से हस्ताक्षर करवा लिए हैं और अब किसानों को नोटिस भेज रहे हैं, यह बहुत ही गंभीर बात है। मैंने मुख्यमंत्री साहब से बात की है और उन्हें इस बात से अवगत कराया है। कलेक्टर से बात की है और उन्हें निर्देश प्राप्त हुआ है। बृहस्तपित सिंह ने कहा कि किसानों के साथ किसी भी तरह की धोखाधड़ी को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ सरकार ने अपने चुनावी वादे के तहत किसानों का कर्ज माफ कर दिया है।

 

ANI✔@ANI

Chhattisgarh: Congress MLA Brihaspat Singh, in Balrampur, says, "...Jo anndata hai, uske sath koi adhikari gadbad karega to kisi kimat pe bardasht karenge nahi. Inko janch kara jail bhejo, joota maarna pade to maaro, lekin kisano ko dhokha dega, bardasht nahi hoga."(11.9)

87

2:07 AM - Sep 12, 2019

Twitter Ads info and privacy

19 people are talking about this

 

source: oneindia.com

0 comments      

Add Comment