Tuesday, October 15, 2019
इमरान खान की पार्टी के नेता ने भारत में मांगी राजनीतिक शरण, ये है पूरा मामला

इमरान खान की पार्टी के नेता ने भारत में मांगी राजनीतिक शरण, ये है पूरा मामला

मीडियावाला.इन।

नई दिल्ली: इमरान खान की सरकार जम्मू-कश्मीर में मानवाधिकार हनन का आरोप लगा रही है। आज यूएनएचआरसी की बैठक में इमरान सरकार इस मुद्दे को उठाने वाली भी है लेकिन उन्हीं की पार्टी के एक नेता ने अल्पसंख्यकों पर अत्याचार का आरोप लगाते हुए भारत में राजनीतिक शरण की मांग की है। सिख समुदाय से जुड़े पाकिस्तानी नेता बलदेव कुमार ने भारत में राजनीतिक शरण मांगी है।

 

वीडियो में सामने आया पाकिस्‍तान का झूठ, तस्‍वीरों में दिखे घुसपैठ की कोशिश में मारे गए 5 SSG कमांडो के शव

पाकिस्‍तान ने गुपचुप तरीके से रिहा किया आतंकी मसूद अजहर, भारत पर बड़े हमले की साजिश!

पाकिस्‍तान की कंगाली का काउंटडाउन, FATF में ब्‍लैकलिस्‍ट होने से पहले APG के सामने आज होगी पेशी

पाकिस्तान में इस्लामाबाद, कराची, रावलपिंडी और पेशावर में इंटरनेट सेवाएं बंद

पाकिस्तान की अंतरिक्ष यात्री ने चंद्रयान-2 के लिए इसरो को बधाई दी

मानवाधिकार का रोना रोने वाले पाकिस्तान में ठप पड़ा है मानवाधिकार आयोग

सीमा पार अब भी पड़े हैं पाकिस्तानी BAT के 5 घुसपैठियों के शव, एक महीने पहले हुई थी मुठभेड़

जिनेवा में बेनकाब हुआ पाकिस्तान, यूएन ऑफिस के बाहर नजर आए ये पोस्टर्स

भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव पर आया अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का बड़ा बयान

जब पाकिस्तान एयरपोर्ट पर एक्सरे मशीन से सामान की जगह निकलने लगे लोग.....

 

पाकिस्तान के पूर्व विधायक बलदेव कुमार पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों पर अत्याचार से दुखी हैं। बलदेव पाकिस्तान तहरीक-ए इंसाफ के नेता हैं और पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के बारीकोट रिजर्व सीट से विधायक रहे हैं। बलदेव कुमार इन दिनों पंजाब के खन्ना में पूरे परिवार के साथ रह रहे हैं।

बलदेव कुमार ने कुछ महीने पहले परिवार को यहां पंजाब के लुधियाना में अपने रिश्तेदारों के पास खन्ना शहर भेज दिया था। 12 अगस्त को तीन महीने के वीजा पर खुद बलदेव भी यहां आ गए थे, लेकिन अब वे वापिस नहीं लौटना चाहते।

बलदेव के मुताबिक साल 2016 में उनके विधानसभा क्षेत्र के विधायक की हत्या हो गई थी। इस मामले में उन पर झूठे आरोप लगाए गए और उन्हें दो साल तक जेल में रखा गया। हैरानी की बात यह है कि विधानसभा का कार्यकाल समाप्त होने के दो दिन पहले उन्हें हत्या के मामले में बरी कर दिया गया। ऐसे में बलदेव शपथ लेकर 36 घंटे के लिए विधायक रहे।

Source : "Khabar India TV"

0 comments      

Add Comment