Thursday, October 24, 2019
10 साल पुरानी रंजिश का बदला लेने के लिए केमिस्ट ने की महिला ड्रग्स अधिकारी की हत्या!

10 साल पुरानी रंजिश का बदला लेने के लिए केमिस्ट ने की महिला ड्रग्स अधिकारी की हत्या!

चंडीगढ़ 
पंजाब के खरड़ में जोनल लाइसेंसिंग अथॉरिटी के पद पर तैनात महिला अधिकारी नेहा शौरी की उनके दफ्तर में घुसकर हत्या के मामले से पूरे राज्य में सनसनी फैल गई है। नेहा को मारने वाले आरोपी की पहचान बलविंदर सिंह के रूप में हुई है। बताया जा रहा है कि उसने 10 साल की रंजिश के चलते महिला अधिकारी की हत्या को अंजाम दिया। नेहा शौरी ने रोपड़ में जिला ड्रग्स अधिकारी के पद पर रहते हुए 2009 में आरोपी की मोरिंडा स्थित केमिस्ट शॉप पर छापेमारी की थी और उसका लाइसेंस रद्द कर दिया था। पंजाब पुलिस का कहना है कि इसी के चलते बलविंदर नेहा शौरी के खिलाफ बदले की भावना से भर गया था और उसने उनकी हत्या की साजिश रची थी। शुक्रवार सुबह जब नेहा खरड़ स्थित अपने दफ्तर में मौजूद थीं तो आरोपी बलविंदर सिंह ने सुबह 11 बजकर 40 मिनट में उनके कार्यालय में घुसकर .32 बोर लाइसेंसी रिवॉल्वर से 3 गोलियां मारकर उनकी हत्या कर दी। बलविंदर बैग में रिवॉल्वर लेकर आया था। बताया जा रहा है कि घटना के समय कार्यालय में एक ही सिक्यॉरिटी गार्ड तैनात था लेकिन वह बलविंदर को देख नहीं पाया। 

ड्रग इंस्पेक्टर नेहा के लिए इमेज परिणाम

अपनी भतीजी से बात कर रही थीं नेहा 
पूरी घटना सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई। उस समय नेहा शौरी अपनी 3 साल की भतीजी आराध्या के साथ वहां पर मौजूद थीं। आराध्या पहली बार ऑफिस आई थी और नेहा उससे बात कर रही थीं। जैसे ही बलविंदर वहां पहुंचा उसने नेहा पर तीन गोलियां चलाईं। पहली गोली सीने पर लगी, दूसरी गोली नाक और आंख के बीच और तीसरी गोली कंधे पर जिसकी वजह से उनकी मौके पर मौत हो गई। 
ड्रग इंस्पेक्टर नेहा के लिए इमेज परिणाम
2016 से जोनल लाइसेंसिंग अथॉरिटी पद पर थीं तैनात 
नेहा शौरी ने पंजाब यूनिवर्सिटी से बी फार्मा की पढ़ाई की थी। उसके बाद उन्होंने 2004 से 2006 तक नाइपर से एमएस फार्मास्यूटिक्स की डिग्री ली और ड्रग्स इंस्पेक्टर पद पर नियुक्त हो गईं। वह 2016 से जोनल लाइसेंसिंग अथॉरिटी पद पर तैनात थीं। पुलिस ने बताया कि हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया है और जांच शुरू की गई है। शुरुआती जांच में पता चला कि आरोपी बलिंदर मोरिंडा में दवा की दुकान चलाता था और 2009 में नेहा ने उसकी दुकान पर छापा मारा था। वहां से कथित तौर पर नशीली दवाएं बरामद हुई थीं, जिसके बाद उन्होंने उसके दवा दुकान का लाइसेंस रद्द कर दिया था। 

हत्या की मंशा का पता नहीं लगा है लेकिन लाइसेंस रद्द करने को ही हत्या की वजह माना जा रहा है। नेहा के पति चंडीगढ़ में ऐक्सिस बैंक में काम करते हैं और उनकी दो साल की बेटी भी है। वहीं हत्यारोपी बलविंदर सिंह कुराली स्थित एक निजी अस्पताल में नौकरी कर रहा था। 2009 में लाइसेंस रद्द होने के हाद उसने मोरिंडा में ही एक निजी अस्पताल खोला था लेकिन कुछ समय बाद वह भी बंद हो गया। 

कारोबार डूबा तो ड्रग्स अधिकारी से पाल ली दुश्मनी 
इसके बाद बलविंदर एक प्राइवेट कंपनी में नौकरी करने लगा लेकिन मेडिकल लाइन में दोबारा वापस आना चाहता था। इसके लिए काफी जोड़तोड़ की लेकिन कामयाबी नहीं मिली। इसी बात को लेकर उसने नेहा से रंजिश पाल ली। यह भी बताया जा रहा है कि बलविंदर गांव में रहता था लेकिन किसी से बातचीत नहीं थी। अपना कारोबार डूबने की वजह वह नेहा शौरी को मानता, इसलिए उसने दुश्मनी पाल ली थी। 

आचार संहिता लागू होने के बाद भी आरोपी के पास थी रिवॉल्वर 
घटना को लेकर सवाल यह भी उठ रहे हैं कि आचार संहिता लागू होने के बाद भी आरोपी के पास लाइसेंसी रिवॉल्वर कहां से आया। दरअसल आरोपी ने दो महीने पहले ही .32 बोर रिवॉल्वर खरीदी थी । हालांकि 11 मार्च से आचार संहिता लागू होने के बाद सभी हथियारों को नजदीकी पुलिस स्टेशन में जमा कराने का आदेश था लेकिन बलविंदर के पास हथियार मौजूद था जिसने उसने घटना को अंजाम दिया। 

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने डीजीपी दिनकर गुप्ता को मामले की जांच के लिए आदेश दिए हैं। घटना के बाद विपक्ष अकाली दल और आम आदमी पार्टी ने कांग्रेस सरकार का विरोध किया और आरोप लगाया कि राज्य में कानून-व्यवस्था ध्वस्त हो गई है। यहां तक कि अधिकारी भी अपने ऑफिस के अंदर सुरक्षित नहीं हैं। 

navbharattimes.

 

0 comments      

Add Comment