Monday, October 14, 2019
Ind vs Nz: टीम इंडिया ने 4-1 से जीती सीरीज, मोहम्मद शमी रहे हीरो

Ind vs Nz: टीम इंडिया ने 4-1 से जीती सीरीज, मोहम्मद शमी रहे हीरो

मीडियावाला.इन।

टीम इंडिया ने पांचवें वनडे में न्यूजीलैंड को 35 रन से हरा दिया और सीरीज 4-1 से जीत ली.

वेलिंगटन वनडे में टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड को 35 रन से हरा दिया और इस तरह से 5 मैचों की वनडे सीरीज 4-1 से जीत ली. 2004-05 के बाद ये पहला मौका है जब किसी द्विपक्षीय वनडे सीरीज में न्यूजीलैंड ने 4 मैच हारे हैं. बहरहाल, सीरीज में भारतीय तेज गेंदबाजों के साथ स्पिनरों ने शानदार प्रदर्शन किया और चहल ने 9 विकेट लेते हुए कमाल कर दिया. इस मैच में पहले बैटिंग करते हुए टीम इंडिया ने 49.5 ओवरों में ऑलआउट होते हुए 252 रन बनाए. जवाब में न्यूजीलैंड टीम 44.1 ओवरों में 217 रन पर ऑलआउट हो गई और मैच हार गई. मैच में 90 रन बनाने वाले अंबाती रायडू को मैन ऑफ द मैच से नवाजा गया. वहीं मोहम्मद शमी को सीरीज में शानदार गेंदबाजी के लिए मैन ऑफ द सीरीज चुना गया.

गौर करने वाली बात है कि इस मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए टीम इंडिया ने 18 रन पर 4 विकेट गंवा दिए थे लेकिन उसके बाद लगा कि भारतीय टीम का हाल चौथे वनडे जैसा फिर से हो सकता है. लेकिन इस बार अंबाती रायडू ने मोर्चा संभाला और पांचवें विकेट के लिए ऑलराउंडर विजय शंकर के साथ 98 रन की साझेदारी की और स्कोर को 100 के पार ले गए. शंकर की आंखें जमने के बाद वह मैदान के चारों तरफ शॉट खेलने लगे.

लेकिन तभी वह रन आउट हो गए और टीम इंडिया फिर से मुसीबत में फंसने लगी लेकिन इन सब मुश्किलों में रायडू ने हिम्मत नहीं छोड़ी और सिंगल-डबल लेते रहे. उन्होंने छठवें विकेट के लिए केदार जाधव के साथ 74 रन जोड़े और स्कोर को 200 के करीब ले गए. ऐसे में लगा कि रायडू आज अपना चौथा वनडे शतक लगाएंगे. रायडू भी शतक लगाने के लिए खासे उत्साहित नजर आ रहे थे. दो ओवर पहले उन्होंने मनरो के ओवर में 2 छक्के लगाए थे और 44वें ओवर में मैट हेनरी के खिलाफ भी वह कुछ ऐसा ही करना चाहते थे.


पहली गेंद पर स्क्वेयर लेग का चौका लगाने के बाद. दूसरी गेंद जो ऑफ स्टंप के बाहर थी उसका पीछा करने चले गए. इस गेंद को वह एक्सट्रा कवर में मारना चाहते थे लेकिन गेंद स्वीपर कवर में चली गई और बोल्ट के हाथों लपके गए. इस तरह से रायडू 113 गेंदों में 90 रन बनाकर आउट हो गए और अपना शतक बनाने का मौका चूक गए.

46वें ओवर में भारत के 203 रन पर 7 विकेट गिर गए थे. ऐसे में अगर स्कोर को 250 के पार ले जाना था तो हिटिंग की जरूरत थी. इस वक्त बल्लेबाजी करने आए हार्दिक पांड्या ने 47वें ओवर में स्पिनर टोड एस्टल के खिलाफ हमला बोल दिया और उनके ओवर में लगातार 3 छक्के लगाए.

वह यहीं नहीं रुके और अगले ओवर में बोल्ट की गेंद पर भी छक्का लगाया. 49वां ओवर फेंकने आए नीशम के खिलाफ पांड्या ने दो चौके और 1 छक्का लगाया और इसी ओवर में वह लपके गए. इस तरह से उनकी 22 गेंदों में 45 रन की पारी का अंत हुआ. लेकिन अच्छी बात ये रही कि टीम इंडिया ने 49.5 ओवरों में ऑलआउट होते हुए 252 रन बना डाले. इस तरह से जिस कोशिश में पांड्या ने हिटिंग शुरू की थी वह रंग ले आई.

जवाब में 253 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी न्यूजीलैंड टीम ने निश्चित अंतराल में विकेट गंवाए. एक समय उन्होंने 38 रन पर 3 विकेट गंवा दिए थे. ऐसे में लगा कि वे जल्दी ही सिमट जाएंगे लेकिन तभी केन विलियमसन ने सधी हुई पारी खेली और स्कोर को 100 के पार ले गए. लेकिन विलियमसन छक्का लगाने की कोशिश में 39 रन बनाकर आउट हो गए और उसके बाद फिर से विकेटों का पतझड़ लग गया. लेकिन इसी बीच नीशम ने आते ही चौकों-छक्कों का अंबार लगा दिया. नीशम ने शमी से लेकर पांड्या तक, अमूमन हर भारतीय गेंदबाज के खिलाफ हमला बोला और उन्होंने न्यूजीलैंड को ड्राइवर सीट पर बिठा दिया था. लेकिन इसी बीच कुछ ऐसा हुआ जिसने सबको हैरान कर दिया.

ये बात पारी के 37वें ओवर की है. केदार जाधव की गेंद पर नीशम अक्रॉस द लाइन शॉट खेलने गए लेकिन गेंद को मिस कर गए और गेंद पैड पर लगी. जिसके बाद उनके खिलाफ LBW की जोरदार अपील हुई. अंपायर ने नीशम को नॉट आउट दिया. अंपायर को देखते हुए नीशम इसी बीच क्रीज के बाहर आ गए.

लेकिन धोनी की तो नजरें गेंद पर थीं, उन्होंने जैसे ही नीशम को बाहर जाते देखा. लपककर गेंद स्टंप्स पर मार दी और इस तरह अंपायर को LBW न सही रन आउट के तौर पर नीशम को आउट देना ही पड़ा. हाइलाइट्स में पता चला कि उस गेंद पर वास्तव में नीशम LBW आउट थे. चूंकि, नीशम रन आउट हो गए, इसलिए वह फैसला अब मायने नहीं रखता. नीशम 32 गेंदों में 44 रन बनाकर आउट हो गए. इस तरह से टीम इंडिया ने फिर से मैच में वापसी कर ली और मेजबान टीम को 44.1 ओवरों में 217 रन पर ऑलआउट करते हुए मैच 35 रन से जीत लिया.
 

0 comments      

Add Comment