Thursday, October 24, 2019
बल्लाकांड' पर PM Modi के कड़े रुख के बाद प्रदेशाध्यक्ष का बैठक से किनारा, उपाध्यक्ष को भेजा

बल्लाकांड' पर PM Modi के कड़े रुख के बाद प्रदेशाध्यक्ष का बैठक से किनारा, उपाध्यक्ष को भेजा

मीडियावाला.इन।

  इंदौर यह दूसरा मौका था जब भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह का इंदौर आना टल गया। उनकी इंदौर नहीं आने की वजह को बल्ला कांड पर आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रुख से जोड़कर देखा जा रहा है। प्रधानमंत्री ने संसदीय बैठक में जो फरमान 

सुनाया, उससे गेंद अब प्रदेश संगठन के पाले में आ गई। प्रदेशाध्यक्ष बैठक में आते तो उन्हें 'आगामी कार्रवाई" के बारे में भी मीडिया को बताना पड़ता। ऐसे में उन्होंने इंदौर में बैठक लेने का इरादा ही टाल दिया।

मंगलवार को रखी गई बैठक में स्थानीय नेताओं ने प्रदेशाध्यक्ष के आगमन के मद्देनजर तैयारी कर रखी थी, लेकिन उन्हें संदेश मिला कि प्रदेशाध्यक्ष ने प्रदेश उपाध्यक्ष रामेश्वर शर्मा को भेजा है। वे भी एक बजे बाद बैठक में शामिल हो पाए। बैठक में शामिल नहीं होने की वजह के बारे में भाजपा नगर अध्यक्ष गोपी नेमा से पूछा तो उन्होंने कहा कि वे सुबह 11 बजे दिल्ली की फ्लाइट से आने वाले थे, लेकिन संसदीय समिति की बैठक देरी से शुरू हो पाई। उधर, बैठक में जिले के सभी विधायक आमंत्रित थे, लेकिन विधायक आकाश विजयवर्गीय नहीं आए। बैठक शुरू होने से पहले संभागीय संगठन मंत्री जयपालसिंह चावड़ा ने मंच पर लगी कुर्सियों के पीछे विधायकों और कुछ पदाधिकरियों को बुलाया और करीब पांच मिनट तक चर्चा की।

बड़े नेताओं को दी जाए हार वाले केंद्रों की जिम्मेदारी

सदस्यता अभियान की बैठक में भाजपा उपाध्यक्ष शर्मा ने कहा कि इस बार केंद्रीय संगठन ने ज्यादा सदस्य बनाने का लक्ष्य रखा है, क्योंकि अभी संघर्ष बाकी है। कांग्रेस अपनी वर्तमान स्थिति के हिसाब से अंतिम लड़ाई लड़ रही है। गत चुनाव में जिन मतदान केंद्रों पर भाजपा की हार हुई है, उन सभी केंद्रों की जवाबदारी बड़े नेताओं को दी जानी चाहिए। बैठक में जिलाध्यक्ष अशोक सोमानी, बाबूसिंह रघुवंशी, रमेश मेंदोला, मालिनी गौड़, उषा ठाकुर, महेंद्र हार्डिया, सुदर्शन गुप्ता आदि मौजूद थे।

न्यूज स्त्रोत -naidunia.jagran.com

0 comments      

Add Comment