चलती ट्रेन में भी महिलाएं सुरक्षित नहीं ,महिला से बलात्कार की कोशिश

विरोध करने पर चलती ट्रेन से फेंक दिया

786

चलती ट्रेन में भी महिलाएं सुरक्षित नहीं ,महिला से बलात्कार की कोशिश

ग्वालियर: मध्य प्रदेश के ग्वालियर से एक शर्मनाक घटना सामने आई है यहाँ ग्वालियर के बिलौआ थाना इलाके में 19 जून को मजदूर महिला अपने रिश्तेदार के साथ सूरत एक्सप्रेस में सवार होकर लखनऊ से गुजरात के सूरत जा रही थी।

महिला झारखंड के पालमू जिले की रहने वाली है। इस ट्रेन में ग्वालियर से 5 यात्री सवार हुए। वह सभी महिला की सामने वाली सीट पर बैठे थे। कुछ देर पश्चात् ही अपराधियों ने महिला के साथ अभद्रता करना आरम्भ कर दिया।

पीड़िता ने बिलौआ थाना पुलिस को बताया कि अपराधी उसका फोटो खींच रहे थे। उसने विरोध किया तो उसे और उसके रिश्तेदार को पीटने लगे। तत्पश्चात, महिला एवं उसका रिश्तेदार ट्रेन के गेट के पास जाकर खड़े हो गए। अपराधियों ने वहां पहुंचकर महिला के साथ बलात्कार करने का प्रयास किया। जब महिला ने विरोध किया तो अपराधियों ने उसे और रिश्तेदार को चलती ट्रेन से बरौड़ी गांव के पास फेंक दिया। सोमवार को रातभर महिला और उसका रिश्तेदार रेलवे ट्रैक के पास बेहोश पड़े रहे। अगले दिन मंगलवार प्रातः गांव के लोगों ने देखा तो तत्काल खबर पुलिस को दी। वहीं महिला और उसके रिश्तेदार को गैंगमैन और गांव के लोगों ने चिकित्सालय पहुंचाया।

घटना की खबर प्राप्त होते ही पुलिस मौके पर पहुंची तथा पीड़िता के बयान दर्ज किए। ग्वालियर के एसपी राजेश सिंह चंदेल ने एसडीओपी डबरा एवं थाना प्रभारी बिलौआ को टीम बनाकर मामले की तहकीकात के निर्देश दिए। इस मामले में बिलौआ पुलिस के शिव सिंह गुर्जर ने बताया कि पुलिस यह पता लगा रही है कि ट्रेन के डिब्बे में कितने लोग सवार थे तथा घटना में कौन-कौन सम्मिलित था। यह घटना जनरल कोच की बताई गई है। पुलिस रेलवे स्टेशन के पास लगे CCTV खंगाल रही है।