टापू पर फंसे 9 लोगों व 300 बकरी, ऊंट ,भेड़ों को होमगार्ड, एसडीआरएफ जवानों ने सुरक्षित बाहर निकाला

नरेरा में आटो सहित तीन लोग,उफनती नदी में बहे

2429

टापू पर फंसे 9 लोगों व 300 बकरी, ऊंट ,भेड़ों को होमगार्ड, एसडीआरएफ जवानों ने सुरक्षित बाहर निकाला

संभागीय ब्यूरोचीफ चंद्रकांत अग्रवाल की नर्मदापुरम व बैतूल जिलों की खास रपट

नर्मदापुरम। जिले में लगातार हो रही बारिश एवं तवा व बरगी बाँध से पानी छोड़े जाने के कारण कलेक्टर नीरज कुमार सिंह के निर्देशन में जिले में राहत एवं आपदा बचाव कार्य हेतु होमगार्ड एवं एसडीईआरएफ की 06 क्यूआरटी टीम एवं 10 डीआरसी केन्द्रो की स्थापना की गई है। टीमो के द्वारा राहत बचाव कार्य एवं रेस्क्यू कार्य हेतु निचली बस्तियों में सतत निगरानी रखी जा रही है एवं जल भराव की स्थिति निर्मित होने पर प्रशासन द्वारा चिन्हित राहत शिविरों में भेजे जाने की तैयारी सतत रूप से की गई है।

तवा बांध के कल खुले 13 गेट में से 8 बंद हो चुके हैं। अब केवल पांच गेट छह फिट तक खुले हैं। नर्मदापुरम में सेठानी घाट पर नर्मदा का जलस्तर भी घट गया है। शाम 6 बजे नर्मदा का जलस्तर 960 फिट था। कल 1166 फिट से अधिक पहुंचा तवा बांध का जलस्तर घटकर आज शाम 6 बजे 1165.20 फिट दर्ज किया है।

WhatsApp Image 2023 09 16 at 7.32.12 PM

डिस्ट्रिक्ट कमांडेंट होमगार्ड श्री राजेश जैन ने बताया कि 16 सितंबर को तहसील शिवपुर के ग्राम बिसोनीकला में पोपवती नदी में बाढ़ की स्थिति निर्मित होने पर राजस्थान के विभिन्न ग्रामों से आए 8 से 10 व्यक्ति टापू पर फंस गये थे, साथ में 300 से अधिक भेड़ें, बकरी, ऊंट आदि भी थे। जिसकी सूचना मिलने पर तत्काल डीआरसी पॉपनगॉव में तैनात सैनिकों के द्वारा ग्राम बिसोनीकला पहुचकर टापू पर फॅसे सभी व्यक्तियों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया। सूचना पर जिला मुख्यालय से भी एसडीईआरएफ की 06 सदस्यीय टीम को मय आपदा उपकरणों के घटना स्थल पर रवाना किया गया। एसडीईआरएफ टीम द्वारा टापू पर फॅसे सभी भेड़, बकरी, ऊंट आदि अनुमानित संख्या 300-350 को सुरक्षित स्थान पर पहुचाया गया। रेस्क्यू के दौरान किसी भी प्रकार की जनहानि नही हुई।

पूरे रेस्क्यू कार्य में प्लाटून कमांडर अमृता दीक्षित, एसडीआरएफ टीम से श्री मेराम, रूपेंद्र सौर, अजय यादव , केशव यादव, शिवकुमार, अभिषेक राजपूत एवं होमगार्ड बल चतुर्भुज और श्री अखलीश ने सक्रिय भूमिका निभाई। थाना शिवपुर के बिसोनी कला गांव में नदी में बाढ़ आ गई जिसमें फंसे 9 लोगों के साथ भेड़ों को सुरक्षित निकाला गया है। शिवपुर थाना प्रभारी विवेक यादव अपनी पूरी टीम के साथ सुबह से नदी के किनारे पर ही मौजूद हैं। थाना प्रभारी ने बताया कि नदी में फंसी भेड़ों, बकरियों को नावों से बाहर सुरक्षित लाया गया है। इसके साथ ही 9 लोगों का सुरक्षित रेस्क्यू भी किया गया है। नदी के आसपास वाले इलाकों में ऊंट भी फंस गए थे जिन्हें सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी इस रेस्क्यू अभियान पर नजर रख रहे हैं। कई वरिष्ठ अधिकारी बाढ़ग्रस्त इलाकों में पहुंचकर स्थिति का जायजा ले रहे हैं। पानी चार फीट बढने पर बनेंगे बाढ़ के हालात नर्मदापुरम सिटी मजिस्ट्रेट संपदा सराफ ने बताया कि नर्मदा का जलस्तर 4 फीट और बढ़ता है तो बाढ़ के हालात बन सकते हैं। बीती रात से ही शहर में साथ राहत केंद्र बनाए गए हैं। नर्मदा महाविद्यालय, एसपीएम कामगार कल्याण केंद्र, ग्वालटोली साधु वासवानी स्कूल और मालाखेड़ी के नालंदा स्कूल को राहत शिविर में बदल दिया गया है। नारायण नगर पुलिया का नाला ओवरफ्लो हो चुका है, हालांकि अभी घरों में पानी घुसने की स्थिति नहीं बनी है। प्रशासन का कहना है कि बाढ़ के हालात पर सतत नजर रखी जा रही है। जमुनिया में फंसे लोगों को निकाल लिया है नर्मदा पुरम कलेक्टर नीरज कुमार सिंह ने मीडिया को बताया कि जिले में अभी बाढ़ की स्थिति तो नहीं है कि निचले इलाकों के लोगों को राहत शिविरों एवं उच्च स्थान पर शिफ्ट किया जाए। ग्राम जमुनिया में चार लोग बाढ़ के पानी में फंस गए थे, उन्हें भी सुरक्षित निकाल लिया गया है। जिले के सभी अनुविभाग क्षेत्र में अधिकारियों और कर्मचारियों को निचले इलाकों और तटीय ग्रामों में अलर्ट कर तैनात किया गया है।

WhatsApp Image 2023 09 16 at 7.33.35 PM 1

होमगार्ड और एसडीआरएफ की टीम भी राहत एवं बचाव कार्य के लिए मुस्तेद है। उधर एक अन्य घटना में नर्मदापुरम में इटारसी रोड पर रसूलिया ओवरब्रिज से गिरे युवक की दूसरे दिन शनिवार को मौत हो गई। घायल युवक ने अस्पताल में उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। मौत के बाद युवक के गिरने के बाद का एक वीडियो सोशल मीडिया पर सामने आया। जिसमें युवक ब्रिज के नीचे सड़क पर घायल पड़ा दिख रहा। उसकी बाइक ब्रिज पर पड़ी है। युवक ओवरब्रिज से कैसे गिरा, यह अभी स्पष्ट नहीं हो पाया है। देहात पुलिस ने मर्ग कायम कर लिया है। मामले की जांच कर रही है। पुलिस के मुताबिक मृतक युवक अंकित कैथवास पिता प्रशांत कैथवास(22) निवास मालाखेड़ी नर्मदापुरम है। युवक इटारसी में कार पेंटिंग का काम करता था। शुक्रवार दोपहर करीब 2 बजे रसूलिया डबल फटक ओवर ब्रिज के ऊपर से युवक अपनी बाइक से जा रहा था। अज्ञात कारणों के चलते युवक ब्रिज के नीचे गिर गया। बाइक ब्रिज पर गिर गई। युवक ब्रिज से कई फीट नीचे लहूलुहान घायल पड़ा हुआ राहगीरों को नजर आया। घायल युवक को देख राहगीर सामने आए और युवक को इलाज के लिए नर्मदा अपना अस्पताल में भर्ती कराया। बताया जा रहा है युवक ब्रिज से कई फीट नीचे गिरने से घायल हुआ है। युवक के ब्रिज से नीचे गिरने के बाद घायल अवस्था का वीडियो सामने आया है। उधर बैतूल जिले से मिली जानकारी के मुताबिक ग्राम नरेरा से छिपन्या पिपरिया की ओर जा रही एक आटो नरेरा और छिपन्या पिपरिया के बीच नदी पार करते समय बह गई। बताया जाता है कि आटो में चालक समेत लगभग 4 लोग बैठे हुए थे। सभी लोग नदी के बहाव में बह गए। हालांकि सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक 1 व्यक्ति सही सलामत बाहर निकल चुका है। बाकी लोगो की जानकारी नहीं लगी है। आटो की सीट ग्राम देहलवाड़ा के पास दैय्यत बाबा के पास देखी गई है।

WhatsApp Image 2023 09 16 at 7.33.36 PM 1

बोरदेही थाना प्रभारी सरविंद धुर्वे ने बताया की आटो बहने की जानकारी लगी है। हम मौके पर पहुंच रहे है। क्षेत्र में लगभग 12 घंटे से अधिक समय से लगातार हो रही बारिश से नदी नाले उफान पर आ गए है । यहां तक कि ग्रामीण क्षेत्र लोगो का मुख्यालय से संपर्क भी टूट गया है विकास खंड की टप्पा तहसील बोरदेही की भैंसई नदी पुल के उपर से बह रही है इस नदी का पुल पहले तो काफी नीचे था लेकिन कुछ माह पूर्व ही नई पुलिया का निर्माण किया गया था। शनिवार सुबह तक बीते मात्र 24 घंटे में बैतूल जिले में 227.3 मिलीमीटर (9.09 इंच) बारिश हो चुकी है। यहां कुछ ब्लॉकों में तो स्थिति देखकर ऐसा लग रहा है जैसे बादल ही फट गए हो। सबसे ज्यादा बारिश भीमपुर ब्लॉक में 445 मिलीमीटर (17.8 इंच) हुई है। इससे थोड़ी कम 354 मिलीमीटर (14.16 इंच) भैंसदेही ब्लॉक में और 270.4 मिलीमीटर (10.8 इंच) चिचोली ब्लॉक में हुई है। यहां बारिश के हालात देख लोगों का कहना है कि ऐसा लग रहा था कि जैसे बादल ही फट पड़े हो । कई लोगों ने तो अपने जीवन में पहली बार ऐसी घनघोर बारिश देखी है। तेज बारिश का दौर पूरे जिले में ही चल रहा है। जिले का कोई भी ऐसा हिस्सा नहीं है जिसे मानसून ने तरबतर नहीं किया हो। जिले के हर ब्लॉक में पिछले 2 दिनों से जमकर बारिश हुई है। यही कारण है कि जिला औसत बारिश के आंकड़े के बिलकुल करीब पहुंच गया है। आज सुबह तक जिले में औसत 1042.1 मिलीमीटर बारिश हो चुकी है। जबकि जिले की औसत सामान्य वर्षा 1083.9 मिलीमीटर है। बीते साल जिले में हालांकि औसत से ज्यादा 1818.3 मिलीमीटर बारिश हुई थी। दरअसल बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव और ट्रफ लाइन के प्रभाव के कारण नर्मदापुरम, बैतूल में पिछले 24 घंटे से रुक-रुककर बारिश की हो रही है। शहर में करीब 5 इंच और पचमढ़ी में10 इंच बारिश हो चुकी है। जिलेभर में जोरदार बारिश से नदी-नाले उफान पर आ गए है।

WhatsApp Image 2023 09 16 at 7.33.36 PM

गंजाल नदी का पानी पुल से ऊपर बहने से नर्मदापुरम-हरदा खंडवा स्टेट हाइवे बंद है। 12 घंटे से हाइवे पर वाहनों के पहिए थमे हुए है। तवा डैम में भी तेजी से पानी बढ़ रहा है। जिस कारण डैम के सभी 13 गेट 20-20 फीट खोल सुबह 8 बजे तक करीब 4 लाख 8 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। सुबह 8 बजे गेटों की ऊंचाई 10 फीट कर दी गई। जिससे नर्मदा नदी उफान पर आ गई है। भारी बारिश के चलते नर्मदापुरम जिले में गंजाल नदी उफान पर आ गई है। छिदगांव के पास पुल के ऊपर से पानी बह रहा है। इससे नर्मदापुरम -खंडवा स्टेट हाइवे बंद हो गया है। शुक्रवार शाम 7 बजे से स्टेट हाइवे बाढ़ के कारण बंद है। नर्मदा में उफान आने से माखननगर क्षेत्र में गोरा और चांदला के बीच तिलबहरी नाले पर बनी पुलिया में नर्मदा का पानी रिर्टन हो गया है। जिससे पुल पर करीब 2,4 फीट पानी हो गया। गोरा, शक्तपुर, शुक्करबाडा जाने का रास्ता पूरी तरह बंद हो गया। माखननगर नसीराबाद रोड भी बंद हो गया है। शनिवार सुबह तक बीते मात्र 24 घंटे में बैतूल जिले में 227.3 मिलीमीटर (9.09 इंच) बारिश हो चुकी है। यहां कुछ ब्लॉकों में तो स्थिति देखकर ऐसा लग रहा है जैसे बादल ही फट गए हो। सबसे ज्यादा बारिश भीमपुर ब्लॉक में 445 मिलीमीटर (17.8 इंच) हुई है। इससे थोड़ी कम 354 मिलीमीटर (14.16 इंच) भैंसदेही ब्लॉक में और 270.4 मिलीमीटर (10.8 इंच) चिचोली ब्लॉक में हुई है। यहां बारिश के हालात देख लोगों का कहना है कि ऐसा लग रहा था कि जैसे बादल ही फट पड़े हो । कई लोगों ने तो अपने जीवन में पहली बार ऐसी घनघोर बारिश देखी है। उधर बैतूल जिले में तेज बारिश का दौर पूरे जिले में ही चल रहा है। जिले का कोई भी ऐसा हिस्सा नहीं है जिसे मानसून ने तरबतर नहीं किया हो। जिले के हर ब्लॉक में पिछले 2 दिनों से जमकर बारिश हुई है। यही कारण है कि जिला औसत बारिश के आंकड़े के बिलकुल करीब पहुंच गया है।