अफ्रीका की बोराना ओरोमा जनजाति: महिलाओं को है विशेष अधिकार

शादीशुदा महिलाओं को गैर-मर्दों के साथ संबंधों की भी इजाजत 

825

अफ्रीका की बोराना ओरोमा जनजाति: महिलाओं को है विशेष अधिकार

अनिल तंवर की खास रिपोर्ट

अफ्रीका में विभिन्न जनजाति समुदाय निवास करते है . इन सब के रीति रिवाज और जीने के तरीके भी अनोखे है. विश्व में जहाँ महिलाओं के अधिकार की बात करें तो हर देश में इनकी स्थिति दोयम दर्जे की ही होती है .बावजूद इसके कहीं कहीं अपवाद स्वरूप महिलाओं को अनोखे अधिकार प्राप्त होते है.

भारतीय मूल के भूगर्भ वैज्ञानिक श्री रत्नेश पाण्डेय जो पिछले अनेक वर्षों से अफ्रीका में सेवारत है, ने चर्चा में बताया कि अफ्रीका में निवास करने वाली जनजातियों की कई अजीब-ओ-गरीब प्रथाएं और नियम उन्होंने देखे हैं. इसमें सबसे आश्चर्यजनक प्रथा बोराना ओरोमा जनजाति की है .

यहां शादीशुदा महिलाओं को गैर-मर्दों के साथ संबंधों की भी इजाजत होती है. इस समुदाय की महिलाओं को विवाहेतर शारीरिक संबंध बनाने की न सिर्फ इजाजत होती है बल्कि समर्थन भी मिलता है.

इस जनजाति की महिलाएं एक लौकी को सुखाकर बर्तन बनाकर उसमें दूध रखती हैं. वह इन बर्तनों को तरह-तरह से सजाती है. महिलाएं सुन्दर मनकों से अंगूठियां बनाकर पहनती हैं. यहां महिलाओं को विशेष अधिकार प्राप्त होते हैं। विवाहित महिलाएं अपनी मर्जी से अपने पति के अलावा किसी और पुरुष के साथ भी शारीरिक संबंध रख सकती हैं. उसके इस फैसले से किसी को भी आपत्ति नहीं होती है .

उसके इस फैसले का सम्मान किया जाता है बल्कि पूरा समुदाय समर्थन भी करता है.

विवाहित स्त्री अपनी इच्छा से हमेशा यह तय करती है कि कौन उसके घर में प्रवेश करेगा और शारीरिक संबंध बनाएगा. गैर मर्द यदि किसी की पत्नी के साथ शारीरिक सम्बन्ध बना रहा होता है तो वह उस घर के बाहर जमीन में भाला गाड़ देता है . यह इस बात का सन्देश होता है कि पति घर में प्रवेश नहीं करे क्योंकि उसकी पत्नी किसी गैर मर्द के साथ शारीरिक संबंध बना रही है. जब वह गैर-पुरुष भाला जमीन से निकालता है, पति तभी अंदर जाता है.

(Photo: Gerhard Huber, Global Geography)