Blog

आलोक मेहता

पद्मश्री (भारत सरकार) से सम्मानित, उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान द्वारा भारतेन्दु हरिश्चन्द्र पुरस्कार, हिन्दी अकादमी का साहित्यकार-पत्रकार सम्मान-2006, दिल्ली हिन्दी अकादमी द्वारा श्रेष्ठ लेखन पुरस्कार-1999 पद्मश्री आलोक मेहता हिन्दी के वरिष्ठ पत्रकार हैं। वे "नई दुनिया" के प्रधान सम्पादक हैं।

संघ ,समाज ,राजनीति और पत्रकारिता के रिश्ते

संघ ,समाज ,राजनीति और पत्रकारिता के रिश्ते

मीडियावाला.इन। विजया दशमी का दिन  राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का स्थापना दिवस भी है | पत्रकारिता के अपने पचास वर्षों के कार्य के  दौरान संघ की विचार धारा , सफलता , कमजोरियों , पक्ष - विपक्ष , सत्ता से...

चीन से फारूक की खानदानी मोहब्बत घातक

चीन से फारूक की खानदानी मोहब्बत घातक

मीडियावाला.इन। फारूक अब्दुल्ला द्वारा जम्मू कश्मीर में पुराने दिन लौटाने के लिए चीन से सहायता लेने के बयान पर आश्चर्य नहीं होना चाहिए | चीन से उनके  खानदान का गहरा रिश्ता रहा है | वह तो भारत सरकार की उदारता...

महारथियों भारत का नाम बदनाम ना करो

महारथियों भारत का नाम बदनाम ना करो

मीडियावाला.इन। निजी रूप से यह स्वीकारना सही हो सकता है कि ' बुरा जो देखन चला, तो मुझसे बुरा न कोई '| लेकिन जब भारत की बात आती है तो हम और आप देश के विभिन्न क्षेत्रों...

मालवा की माटी में मामाजी का ध्वज

मालवा की माटी में मामाजी का ध्वज

मीडियावाला.इन। लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक , गणेश शंकर विद्यार्थी , माखनलाल चतुर्वेदी को देखने का सौभाग्य तो मुझे नहीं मिला , लेकिन मालवा क्षेत्र के उज्जैन , इंदौर और सिंधिया रियासत के ग्वालियर में उस समय पत्रकारिता के मामा...

क़ानूनी रास्ते से जय पराजय एन जी ओ की

क़ानूनी रास्ते से जय पराजय एन जी ओ की

मीडियावाला.इन। संसद के हंगामे में एक बहुत महत्वपूर्ण क़ानूनी परिवर्तन से सामाजिक क्षेत्र में स्वछता और स्वयंसेवी का चोला पहनकर राष्ट्र विरोधी गतिविधियां चलाने वाले कुछ संगठनों पर नियंत्रण पर हुई बहस और विधेयक पारित होने की...

नेता  किसानों के हमदर्द अथवा दुश्मन

नेता किसानों के हमदर्द अथवा दुश्मन

मीडियावाला.इन। चौधरी चरण सिंह ने 1978 में एक अनौपचारिक बातचीत के दौरान मुझसे कहा - " तुम कोट टाई वाले पत्रकार खेती किसानी और किसानों के बारे में कुछ नहीं जानते और उनकी समस्याएं नहीं समझ सकते | "  उन...

नरेन्द्र मोदी : बैलगाड़ी से अंतरिक्ष तक की सफलता के लक्ष्य

नरेन्द्र मोदी : बैलगाड़ी से अंतरिक्ष तक की सफलता के लक्ष्य

मीडियावाला.इन। सत्ता, संपन्नता, शिखर-सफलता अधिक महत्वपूर्ण है- संघर्ष की क्षमता और जीवन मूल्यों की दृढ़ता। इसलिए नरेन्द्र भाई मोदी के प्रधानमंत्री पद और राजनीतिक सफलताओं के विश्लेषण से अधिक महत्ता उनकी संघर्ष यात्रा और हर पड़ाव पर विजय की...

राष्ट्र भाषा पर सरकारी शिकंजे से मुक्ति का सवाल

राष्ट्र भाषा पर सरकारी शिकंजे से मुक्ति का सवाल

मीडियावाला.इन। प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी क्या अप्रसन्न होंगे? बात उनकी सरकार और व्यवस्था की है| हाँ उनके वरिष्ठ सहयोगियों के पास यह जानकारी नहीं होने से कुछ नाराजगी होगी| फिर भी  पूरा विश्वास है कि  किसी...

ऋषि तुल्य साहित्य पत्रकारिता

ऋषि तुल्य साहित्य पत्रकारिता

मीडियावाला.इन। साहित्य और पत्रकारिता दो नदियों के संगम स्थल के जल की तरह हैं। दोनों के जल के रंग, स्वाद, लाभ (हाँ विषैले जीवाणु हों तो हानि भी) में अंतर नहीं होता। अध्ययन करने वाले शोधार्थी साहित्य में इस...