Child Form in Statue of Ramlala : मंदिर में बाल रूप में विराजेंगे राम, 18 को गर्भगृह में प्रतिमा प्रवेश!

राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह की की तैयारियां पूरी, 12:20 से 1 बजे तक प्राण प्रतिष्ठा!

333

Child Form in Statue of Ramlala : मंदिर में बाल रूप में विराजेंगे राम, 18 को गर्भगृह में प्रतिमा प्रवेश!

Ayodhya : राम मंदिर में रामलला की प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा के लिए लगभग सभी तैयारियां पूरी कर ली गई। मंदिर में रामलला के प्राण प्रतिष्ठा 22 जनवरी को होगी जिसका समय 12.20 से 1 बजे तक होगा। कर्मकांड की सभी विधियां वाराणसी के पंडित लक्ष्मीकांत दीक्षित द्वारा संपन्न होगी।

प्राण प्रतिष्ठा की विधि आज 16 जनवरी से शुरू हो गई और पूजन विधि 21 जनवरी तक चलेगी। मंदिर में भगवान राम के बाल रूप को स्थापित किया जाएगा। राम मंदिर ट्रस्ट के चंपत राय ने बताया कि रामलला को 18 जनवरी को गर्भगृह में स्थापित किया जाएगा। मूर्ति का वजन 120 से 200 किलो तक होगा। खड़ी प्रतिमा 5 वर्ष के बालक का स्वरूप की होगी। चंपत राय के मुताबिक, मंदिर के इस अनुष्ठान में 121 आचार्य शामिल होंगे।

ये मेहमान होंगे प्राण प्रतिष्ठा के साक्षी 

गर्भगृह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, यूपी की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत, यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ, ट्रस्ट के अध्यक्ष नृत्य गोपाल दास मौजूद रहेंगे। इसके अलावा सभी ट्रस्टी लगभग 150 परंपरा के संत, धर्माचार्य मौजूद रहेंगे। भारत में हर तरह की रक्षा पुलिस से लेकर पैरा मिलिट्री फोर्स के अधिकारी, साहित्यकार, पद्म पुरस्कार विजेता शामिल होंगे।

मंदिर निर्माण करने वाली एलएंडटी, टाटा के इंजीनियर्स और मंदिर बनाने में लगे 100 लोग रहेंगे। इसके अलावा शैव, वैष्णव, सिख, बौद्ध, जैन, कबीर पंथी, इस्कॉन, रामकृष्ण मिशन, गायत्री परिवार, राधा स्वामी, गुजरात के स्वामी नारायण, लिंगायत के धर्मात्मा रहेंगे। भारत की सभी नदियों के जल से अभिषेक होगा भारत की सभी मुख्य नदियों का जल अयोध्या आ चुका है। सभी जलों से रामलला का अभिषेक होगा। इसके अलावा नेपाल में राम जी की ससुराल, उनके ननिहाल छत्तीसगढ़ से उपहार आए हैं।

 

बैलगाड़ी से घी आया 

जोधपुर से बैलगाड़ी पर घी आया हैं। शाम को घर-घर दीये जलाए जाएंगे। 22 जनवरी को सूर्यास्त 5 बजकर 45 मिनट पर होगा। उसके बाद अयोध्या में प्रभु की प्रसन्नता के लिए अयोध्या में दीप जलाए जाएंगे। प्रधानमंत्री ने पूरे देश के लोगों से दीये जलाने का आह्वान किया है। पूजा के समय सभी प्रकार के वाद्य यंत्र बजेंगे भारत में जितने प्रकार के वाद्य यंत्र है उत्तर प्रदेश का बांसुरी, ढोलक, छत्तीसगढ़ का तंबूरा, बिहार में भी पखावज , दिल्ली की शहनाई, राजस्थान का रावण हत्था, बंगाल का श्री खोल जैसे सभी वाद्य यंत्र होंगे। जो पूजा के दौरान बजाए जाएंगे।