CM ने कहा, पुलिस ज्यादा एप लांच न करे

595
CM

Dehradun Uttarakhand: उत्तराखंड के CM पुष्कर सिंह धामी ने पुलिस मुख्यालय में पुलिस विभाग द्वारा तैयार की गई ‘पब्लिक आई एप’ और महिला सुरक्षा हेतु ‘मिशन गौरा शक्ति’ एप का शुभारम्भ किया। लेकिन, उन्होंने कहा कि CM ने कार्यक्रम में DGP अशोक कुमार से कहा कि ज्यादा एप बनाने से लोग भ्रमित होते हैं, सिस्टम का सरलीकरण कीजिए और जनता की समस्याओं का समाधान कीजिए। जब एक ही विभाग में बहुत सारे एप हो जाते हैं, तो लोगों में भ्रम की स्थिति हो जाती है। उन्हें वो लाभ नहीं मिलता जो मिलना चाहिए। हमारी प्राथमिकता चीजों का सरलीकरण कर पब्लिक को समाधान देने की होना चाहिए न कि जटिलता पैदा करने वाली।

पब्लिक-आई एप
उत्तराखंड प्रदेश की जनता अपनी शिकायतों के साथ-साथ आसपास घटित हो रहे आपराधिक या विधि का उल्लंघन करने वाले कृत्यों की फोटो या वीडियो बनाकर पुलिस को भेज सकते हैं. शिकायतकर्ता अपने द्वारा पूर्व में की गई शिकायत व उस पर हुई कार्यवाही की प्रगति के बारे में जान सकते हैं. साइबर क्राइम के बारे में शिकायत दर्ज की जा सकती है. किसी भी प्रकार की ट्रैफिक समस्या या सड़क दुर्घटना के संबंध में फोटो या वीडियो बनाकर कार्यवाही हेतु अपलोड किया जा सकता है. आपात स्थिति में 112 नंबर पर कॉल कर सकते हैं।

साइबर क्राइम पर अंकुश
Uttarakhand CM ने पुलिस विभाग की समीक्षा के दौरान अधिकारियों को निर्देश दिए कि साइबर क्राइम को रोकने के लिए लिए ठोस रणनीति बनाई जाए। यातायात के नियमों, रोड सेफ्टी के प्रति लगातार जागरूकता अभियान चलाया जाए। ट्रैफिक लाइट और सीसीटीवी निगरानी की समुचित व्यवस्था की जाए। कार्यों के प्रति प्रत्येक स्तर पर अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की जाए। थाना या चौकी स्तर के मामले जिले स्तर पर न आए। जिला स्तर के मामले मुख्यालय स्तर व शासन स्तर पर न आए, जिसकी जो जिम्मेदारी है, अपने स्तर पर शीघ्र उसका समाधान करें। महिला सुरक्षा, यातायात प्रबंधन, नशा मुक्ति और साइबर क्राइम जैसी चुनौतियों से निपटने के लिए विशेष योजनाएं बनाई जाए।
इस अवसर पर Uttarakhand CM ने एसडीआरएफ द्वारा पर्यावरण संरक्षण, कोविड जागरूकता, हानिकारक कूड़े के निस्तारण व जोखिम पूर्ण स्थानों के चिन्हीकरण के लिए चलाए जा रहे माउंट गंगोत्री-1 पर्वतारोहण अभियान का फ्लैग ऑफ भी किया। इंस्पेक्टर एसडीआरएफ अनीता गैरोला के नेतृत्व में 9 सितम्बर से 30 सितम्बर तक चलाया जा रहा है। अभियोगों की विवेचना में गुणवत्ता सुधार और सफल अनावरण हेतु मुख्यमंत्री द्वारा विवेचकों को स्मार्ट एविडेंस टूलकिट टेबलेट प्रदान किए है। Uttarakhand CM धामी ने पुलिस की समीक्षा बैठक भी ली। उन्होंने कहा कि पुलिस में खेल कोटे की भर्ती शुरू की जाएगी। पीएसी के जवानों को बसों की व्यवस्था की जाएगी। कोरोना काल में पुलिस द्वारा मिशन हौंसला के तहत सराहनीय कार्य किया है। उत्तराखंड पुलिस को आधुनिक बनाने में जो भी आवश्यकता होगी उसे पूरा करने का प्रयास किया जाएगा।

एंटी ड्रग पॉलिसी
उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में शीघ्र एंटी ड्रग पॉलिसी बनाई जाएगी. पुलिस विभाग में रिक्त पदों पर जल्द भर्ती की जाएगी। पुलिस विभाग के आरक्षियों के ग्रेड पे के संबंध में कैबिनेट सब कमेटी का गठन किया गया है. इसमें जल्द उचित समाधान निकाला जाएगा। उन्होंने कहा कि कांस्टेबल, हेड कांस्टेबल, सब इंस्पेक्टर और इंस्पेक्टर को कोविड-19 में उनके द्वारा किये जा रहे सराहनीय कार्यों व सेवाओं 10 हजार रुपए की प्रोत्साहन राशि जल्द दी जाएगी।

धर्म स्वतंत्रता अधिनियम
उन्होंने ‘उत्तराखंड धर्म स्वतंत्रता अधिनियम 2018’ को और सख्त बनाने का भी इशारा किया। बाहरी राज्यों से उत्तराखंड में आने वाले लोगों के सत्यापन की प्रक्रिया को और मजबूत किया जाएगा। पुलिस व्यवस्था किसी भी राज्य की सुरक्षा एवं समृद्धि का एक आवश्यक अंग है। उत्तराखंड पुलिस द्वारा राज्य में अच्छा कार्य किया जा रहा है। इनामी अपराधियों को पकड़ने के लिए पुरस्कार राशि भी बढ़ाई जाएगी।

मिशन गौरा शक्ति अभियान
महिलाओं की सुरक्षा के प्रति सजग और प्रभावी पहल के लिए उत्तराखंड में पुलिस द्वारा मिशन ‘गौरा शक्ति अभियान’ चलाया जाएगा। इसके तहत छेड़खानी जैसी घटनाओं में प्रभावी कार्यवाही, बालिकाओं को आत्मरक्षा के लिए प्रशिक्षण और शिकायत निवारण तंत्र को और अधिक मजबूत बनाया जाएगा। इसके तहत पीड़िता इमरजेंसी की स्थिति में डायल कर तुरंत पुलिस सहायता प्राप्त कर सकती है। ऑनलाइन ऑडियो, वीडियो और टेक्स्ट मैसेज के माध्यम से शिकायत दर्ज कर सकती हैं। आपात स्थिति में 112 पर कॉल कर सकते हैं। अपनी शिकायत पर संबंधित पर हुई कार्रवाई की जानकारी प्राप्त कर सकती है. एप के माध्यम से पुलिस के अन्य ऑफिशियल सोशल मीडिया अकाउंट पर भी संपर्क कर सकती हैं।