ट्रंप के जाने के बाद ट्विटर के शहंशाह बने नरेन्द्र मोदी

ट्रंप के जाने के बाद ट्विटर के शहंशाह बने नरेन्द्र मोदी

मीडियावाला.इन।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बन गए हैं ट्विटर के शहंशाह। ट्विटर पर  दुनिया के सबसे लोकप्रिय राजनेता।    नरेन्द्र    मोदी  ट्विटर पर 2009 से सक्रिय  हैं।  उनके फ़ॉलोअर्स की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है। प्रधानमंत्री मोदी के 6 करोड़ 47 लाख  फॉलोअर्स हैं।  अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के को 8 करोड़ 87 लाख लोग फॉलोअर्स थे, लेकिन ट्विटर ने ट्रंप के अकाउंट को बंद कर दिया है।  डोनाल्ड ट्रंप पर आरोप है कि उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट के जरिए समर्थकों को भड़काया और उन्हें हिंसा के लिए उकसाया।   ट्विटर ने   ट्रंप के अलावा उनके पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार माइकल फ्लिन और ट्रंप समर्थक अटॉर्नी सिडनी पॉवेल के अकाउंट पर भी प्रतिबंध लगा दिया।

वैसे तो पूर्व अमेरिकी-राष्ट्रपति बराक ओबामा के  12  करोड़ 79  लाख फॉलोअर्स हैं, लेकिन वे अब सक्रिय राजनेता नहीं हैं।  ओबामा किसी पद पर नहीं हैं . अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव जीतने वाले जो बाइडन के ट्विटर 2 करोड़ 33 लाख  फॉलोवर्स हैं। भारत के केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के फिलहाल 24.2 मिलियन यानि दो करोड़ 42 लाख फॉलोअर्स हैं।  दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के 21.2 मिलियन अर्थात दो करोड़ 12  लाख फॉलोअर्स हैं।

प्रधानमंत्री अपने ट्विटर अकाउंट पर मेगास्टार अमिताभ बच्चन को पहले ही पीछे छोड़ चुके हैं और शाहरुख खान को भी उन्होंने काफी पीछे छोड़ दिया है। प्रधानमंत्री  नरेन्द्र   मोदी ट्विटर का उपयोग मेक इन इंडिया, स्वच्छ भारत, मन की बात आदि को लोकप्रिय बनाने और नागरिकों से जुड़ने के लिए करते हैं। मोदी के ट्वीट पर  हर महीने। 17 करोड़  इंप्रेशन आते हैं। प्रधानमंत्री मोदी की ऑफिशल फेसबुक  को भी तीन करोड़ 33 लाख यूज़र लाइक करते हैं। प्रधानमंत्री कार्यालय का दावा है कि फेसबुक पर मोदी का अकाउंट सबसे ज्यादा व्यस्त रहता है। हर महीने में उन्होंने उनके पेज पर 20 करोड़ यूज़र  इंगेजमेंट मिलते हैं। इसके अलावा प्रधानमंत्री का अपना नमो ऐप तो है ही।

प्रधानमंत्री  नरेन्द्र    मोदी पोप फ्रांसिस से भी ज्यादा लोकप्रिय हैं। पोप फ्रांसिस को करीब 5 करोड़ 10 लाख लोग फॉलो करते हैं, जबकि मोदी को उससे कहीं अधिक लोग लाइक करते हैं।  नरेन्द्र    मोदी के एक ट्वीट की पहुँच करीब 4 करोड़ लोगों तक होती है जबकि डोनाल्ड ट्रंप के मामले में यह संख्या इससे लगभग आधी ही है।

0 comments      

Add Comment


डॉ. प्रकाश हिन्दुस्तानी

डॉ. प्रकाश हिन्दुस्तानी जाने-माने पत्रकार और ब्लॉगर हैं। वे हिन्दी में सोशल मीडिया के पहले और महत्वपूर्ण विश्लेषक हैं। जब लोग सोशल मीडिया से परिचित भी नहीं थे, तब से वे इस क्षेत्र में कार्य कर रहे हैं। पत्रकार के रूप में वे 30 से अधिक वर्ष तक नईदुनिया, धर्मयुग, नवभारत टाइम्स, दैनिक भास्कर आदि पत्र-पत्रिकाओं में कार्य कर चुके हैं। इसके अलावा वे हिन्दी के पहले वेब पोर्टल के संस्थापक संपादक भी हैं। टीवी चैनल पर भी उन्हें कार्य का अनुभव हैं। कह सकते है कि वे एक ऐसे पत्रकार है, जिन्हें प्रिंट, टेलीविजन और वेब मीडिया में कार्य करने का अनुभव हैं। हिन्दी को इंटरनेट पर स्थापित करने में उनकी प्रमुख भूमिका रही हैं। वे जाने-माने ब्लॉगर भी हैं और एबीपी न्यूज चैनल द्वारा उन्हें देश के टॉप-10 ब्लॉगर्स में शामिल कर सम्मानित किया जा चुका हैं। इसके अलावा वे एक ब्लॉगर के रूप में देश के अलावा भूटान और श्रीलंका में भी सम्मानित हो चुके हैं। अमेरिका के रटगर्स विश्वविद्यालय में उन्होंने हिन्दी इंटरनेट पत्रकारिता पर अपना शोध पत्र भी पढ़ा था। हिन्दी इंटरनेट पत्रकारिता पर पीएच-डी करने वाले वे पहले शोधार्थी हैं। अपनी निजी वेबसाइट्स शुरू करने वाले भी वे भारत के पहले पत्रकार हैं, जिनकी वेबसाइट 1999 में शुरू हो चुकी थी। पहले यह वेबसाइट अंग्रेजी में थी और अब हिन्दी में है। 


डॉ. प्रकाश हिन्दुस्तानी ने नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने पर एक किताब भी लिखी, जो केवल चार दिन में लिखी गई और दो दिन में मुद्रित हुई। इस किताब का विमोचन श्री नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के एक दिन पहले 25 मई 2014 को इंदौर प्रेस क्लब में हुआ था। इसके अलावा उन्होंने सोशल मीडिया पर ही डॉ. अमित नागपाल के साथ मिलकर अंग्रेजी में एक किताब पर्सनल ब्रांडिंग, स्टोरी टेलिंग एंड बियांड भी लिखी है, जो केवल छह माह में ही अमेजॉन द्वारा बेस्ट सेलर घोषित की जा चुकी है। अब इस किताब का दूसरा संस्करण भी आ चुका है।