Election Commission Ready : Election Commissioner बोले ‘हम चुनाव के लिए पूरी तरह से तैयार’

पंचायत चुनाव बैलेट पेपर से और नगरीय निकाय EVM से होंगे

1147
Election Commission

Election Commission Ready : Election Commissioner बोले ‘हम चुनाव के लिए पूरी तरह से तैयार’

Bhopal : राज्य निर्वाचन आयोग (Election Commission) के आयुक्त बसंत प्रताप सिंह ने कलेक्टर्स के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के बाद कहा कि आयोग चुनाव के लिए पूरी तरह तैयार है। मध्य प्रदेश में नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव दोनों साथ होंगे। दो से तीन दिन में तारीख की भी घोषणा कर दी जाएगी।

नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव कराने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद राज्य निवार्चन आयोग (Election Commission) ने भी तैयारी तेज कर दी। राज्य निर्वाचन आयोग (Election Commission) चुनाव को लेकर लगातार बैठकें कर रहा है। गुरुवार को आयोग (Election Commission) ने सभी जिला कलेक्टर्स के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बातचीत की। आयुक्त बसंत प्रताप सिंह ने कहा कि आयोग (Election Commission) चुनाव के लिए पूरी तरह तैयार है। पंचायत और नगरीय निकाय चुनाव दोनों के एक साथ होंगे। पंचायत चुनाव बैलेट पेपर से होंगे।

Also Read: Local Bodies And Panchayat Elections: चलते चुनाव को रुकवाने का पाप कांग्रेस ने किया जिसके कारण OBC का आरक्षण रुक गया- CM शिवराज का कांग्रेस पर करारा वॉर 

निर्वाचन आयुक्त ने कहा कि पंचायत चुनाव के हिसाब से प्रदेश में EVM नहीं है, इसलिए पंचायत चुनाव बैलेट पेपर से होंगे। नगरीय निकाय चुनाव EVM से होंगे। नगरीय निकाय चुनाव के लिए आरक्षण और परिसीमन का काम पूरा हो गया। बुधवार को राज्य निर्वाचन आयाेग (Election Commission) ने 24 मई तक दोनों चुनाव की तारीखें घोषित करने और हर हाल में जून में दोनों चुनाव कराने की बात कही थी। इसके बाद गुरुवार को आयुक्त ने सभी जिलों के कलेक्टर्स के साथ बैठक बुलाई थी।

यह भी पढ़े… इस चर्चित महिला IAS अधिकारी ने राष्ट्रपति को भेजा त्‍यागपत्र, दूसरी बार दिया इस्तीफा 

राज्य सरकार कोर्ट के फैसले को लेकर मॉडिफिकेशन ऑफ ऑर्डर (Modification of Order) का आवेदन लगाने जा रहा है। इस पर सुप्रीम कोर्ट कोई नया आदेश जारी नहीं करता, तो निर्वाचन आयोग (Election Commission) बिना OBC आरक्षण के चुनाव की प्रक्रिया शुरू करेगा। हालांकि राजनीतिक पार्टियों ने OBC वर्ग को साधने के लिए निकाय चुनाव में 27% सीटें देने का ऐलान किया है। फिर भी सारा मामला Modification of Order पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद ही तय होगा।