सरकारी विभाग में लेखापाल एवं 10 कर्मचारियों के बीच मारपीट

भ्रष्टाचार के खिलाफ़ आवाज उठाना महंगा पड़ा संभागीय लेखापाल को

965

छतरपुर से राकेश चौरसिया की रिपोर्ट

छतरपुर:  जिले में PHE विभाग के लेखापाल के एवं कर्मचारियों बीच विवाद पर हुई मारपीट का मामला सामने आया है। जहां यह वीडियो अब सोशल मीडिया पर जमकर वॉयरल हो रहा है।

जानकारी के मुताबिक PHE विभाग के लेखापाल आनंद दयाल का कई दिनों से विवाद चल रहा था। जहां आज इसने विकराल रूप ले लिया और कार्यालय में आधा दर्जन कर्मचारियों ने एकसाथ मिलकर लेखापाल को कमरे में बंद करके जमकर मारपीट की। जिसवक्त यह घटना घटी उस समय आनंद दयाल अपना मोबाईल कैमरा चालू किए हुए थे।

घटना की जानकारी लगते ही मौके पर SDM यूसी मेहरा, सिटी कोतवाली TI अनूप यादव सहित पुलिस बल मौके पर पहुंच गया था। जहां अब कर्मचारियों के बीच हुई मारपीट का मामला थाने पहुंच गया है।

*घायल अस्पताल में भर्ती..*
छतरपुर: में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग में संभागीय लेखापाल आनंद दयाल जो कि भारत सरकार के कर्मचारी हैं। विगत एक वर्ष से पीएचई कार्यालय में हुए भ्रष्टाचार की शिकायतें करते आ रहे हैं।
जहां पूर्व कार्यपालन यंत्री महेन्द्र सिंह भाऊ के कार्यकाल में नलजल योजनाओं में हुए भारी भ्रष्टाचार की शिकायत होने के बाद कार्यवाही होने से पीएचई विभाग के एक दर्जन से ज्यादा कर्मचारियों ने आज आनंद दयाल को उसी के कमरे में बंद करकर मारपीट की। जिसकी शिकायत आनंद दयाल ने सिटी कोतवाली छतरपुर में दर्ज करा दी है।

*●पुलिस ने दर्ज की FIR..*
पुलिस के मुताबिक फरियादी आनंद दयाल संभागीय लेखापाल पीएचई छतरपुर ने थाना पर रिपोर्ट लेख कराई कि आज दिनांक 21/1/22 के शाम करीब 4:21 बजे  ऑफिस के अन्य  कर्मचारियों ने कार्यालय के कक्ष में आकर फरियादि के साथ पुराने विवाद पर लात घूँसों, स्टील के थरमस से मारपीट कर, गंदी-गंदी गाली देकर मारपीट की ।

*●इन धाराओं में हुआ मामला दर्ज..*
मामले की गंभीरता पर कोतवाली पुलिस ने उक्त PHE कर्मचारियों पुरुषोत्तमदास रैकवार, नंद किशोर रावत, सौरभ पटैरिया, कालका प्रसाद प्रजापति, प्रभात प्रताप सिंह एवं अन्य पांच लोगों के खिलाफ अपराध क्रमांक 53/22 धारा 294, 323, 506, 34 IPC , 3(1) द, ध 3(2)V A, की धारा के अलावा एससीएसटी एक्ट के तहत प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया है।

मीडिया से बात करते हुए आनंद दयाल ने बताया कि मेरे द्वारा भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाना मेरी पिटाई का मुख्य कारण है। फिलहाल आनंद दयाल जिला चिकित्सालय में डाक्टरों ने भर्ती करा दिया है। वहीं दूसरी ओर जिले के अजाक्स के अध्यक्ष केडी अहिरवार ने इस संबंध में जिला कलेक्टर से मिलने के लिए कहा है और दलित कर्मचारियेां को न्याय दिलाने की बात कही है।

*●अजाक्स का आरोप..*
तो वहीं कर्मचारियों द्वारा मारपीट के
मारपीट के इस मामले में अजाक्स के जिला अध्यक्ष केडी अहिरवार ने भेदभाव और मारपीट का आरोप लगाते हुए कहा कि आनंद दयाल को कई दिनों से प्रताड़ित किया जा रहा था।

*●SDM ने कहा..*
मामले में छतरपुर एसडीएम UC मेहरा ने कहा कि मामले में निष्पक्ष जांच कर दोषियों के विरुद्ध कार्यवाही की जाएगी। साथ ही छतरपुर कलेक्टर को इस पूरे मामले में अवगत कराकर शिकायत की जाएगी।

*●TI ने कहा..*
मामले में सिटी कोतवाली टीआई अनूप यादव की मानें तो निष्पक्ष जांच कर दोषियों पर विधिसंवत कार्रवाई की जाएगी।

*●यह है पूरा मामला..*
गौरतलब हो कि पीएचई कार्यालय में दो वर्ष से प्रधानमंत्री की महत्वाकांक्षा योजना जल जीवन मिशन के तहत जिले के सभी आंगनबाड़ी केन्द्रों एवं स्कूलों में नलजल योजना के तहत पाइप लाइने बिछाई गई हैं जिसमें लोहे के पाइप न डालकर प्लास्टिक के पाइप डालकर नलजल योजनाओं में भारी भ्रष्टाचार किया गया है। जिसकी शिकायत संभागीय लेखापाल आनंद दयाल के द्वारा विभाग के प्रमुख वरिष्ठ अधिकारियों से की थी। उसके फलस्वरूप एक जांच दल भी आया था जिसे पीएचई विभाग के सभी शाखाओं के प्रभारी कर्मचारियों ने दस्तावेज और कैशबुक उपलब्ध नहीं कराई।

जांच दल ने भी एक पत्र इस संबंध में जिला कलेक्टर को लिखा था जिसमें उन्होंने उल्लेख किया है कि लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग में भारी भ्रष्टाचार और आर्थिक अनियमितताएं हुई हैं।

इसी सब कारण से आज पीएचई के एक दर्जन से ज्यादा कर्मचारियों ने लामबंद होकर संभागीय लेखा पाल को उसी के कमरे में जमकर पीटा और मौके पर एसडीएम, सिटी कोतवाली के थाना प्रभारी अनूप यादव पहुंचे।