सुनी सुनाई: कर्नाटक की तरह आत्महत्या की चेतावनी!

607

सुनी सुनाई: कर्नाटक की तरह आत्महत्या की चेतावनी!

आपको याद होजा कि कर्नाटक में एक मंत्री के कथित भ्रष्टाचार से तंग आकर एक ठेकेदार ने आत्महत्या कर ली थी। इस घटना ने कर्नाटक में चुनाव की हवा बदल दी और भाजपा सरकार को सत्ता से बाहर कर दिया था। मप्र में भी एक ठेकेदार ने ऐसी ही चेतावनी दी है। एक मंत्री ने ठेकेदार से काम के एवज में दो करोड़ एडवांस ले लिए। तीन वर्ष में काम नहीं हुआ और पूरी रकम भी वापस नहीं लौटाई है। ठेकेदार के पास मंत्री के दलाल की फोन रिकार्डिंग है। ठेकेदार ने मंत्री जी को संदेश भेजा है कि उसकी पाई पाई रकम वापस नहीं लौटाई तो वह ऑडियो रिकार्डिंग मीडिया को जारी करके मंत्री के बंगले पर आत्मदाह कर लेगा।

सीएम के साले की टिकट पक्की!

कांग्रेस की ओर से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के सगे साले संजय सिंह मसानी की टिकट पक्की मानी जा रही है। संजय सिंह रायसेन जिले की उदयपुरा सीट से चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा ने उन्हें टिकट नहीं दी तो नाराज होकर उन्होंने कमलनाथ का हाथ थाम लिया था।

मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में ताकत झोंकती भाजपा!

कमलनाथ ने उन्हें वारासिवनी से चुनाव लड़वाया, लेकिन वे बुरी तरह हार गए थे। इस बार किरार बहुल सीट उदयपुरा से चुनाव की तैयारी है। संजय सिंह ने इस क्षेत्र में अपना विशाल बंगला भी बनवा लिया है। इस क्षेत्र में वह सक्रिय तो हो ही गये हैं।

भिण्ड के तीन पूर्व विधायकों के इस्तीफे तैयार!

भिण्ड जिले से भाजपा के तीन पूर्व विधायक इस चुनाव में “करो या मरो” के मूड में दिखाई दे रहे हैं। यानि तीनों पूर्व विधायक “टिकट दो या इस्तीफा लो” जैसी स्थिति में बताए जा रहे हैं। सबसे उम्रदराज रसाल सिंह लाहार सीट से लड़ना चाहते हैं। राकेश शुक्ला ने मेहगांव से चुनाव लड़ने की तैयारी कर ली है।

1685635371 newbjp

भाजपा से टिकट नहीं मिला तो वे हाथी या सायकिल पर सवार हो सकते हैं। भिण्ड विधानसभा से नरेन्द्र सिंह कुशवाह ने ताल ठोक रखी है। वे हरहाल में चुनाव लड़ना चाहते हैं। कुशवाह को तो कांग्रेस में जाने से भी परहेज नहीं है बशर्ते टिकट की गारंटी मिल जाए।

क्यों परेशान हैं यह महिला आईएएस!

प्रमुख सचिव स्तर की एक महिला आईएएस बहुत परेशान और तनाव में हैं। दरअसल यह आईएएस केन्द्र सरकार में प्रतिनियुक्ति पर जाना चाहती हैं। इसके लिए राज्य सरकार ने एनओसी भी दे दी है। लेकिन दिल्ली में कोई मनपसंद विभाग इन्हें लेने तैयार नहीं है।

IAS 01

चर्चा है कि इस जोड़तोड़ के लिए उन्होंने एक सप्ताह दिल्ली में डेरा भी डाला, लेकिन अभी सफलता हाथ नहीं लगी है। मैडम के पति मप्र कैडर के आईएएस हैं और राज्य सरकार के सबसे खास भी हैं। वे भी अपने स्तर पर पहले मैडम को दिल्ली भेजने के प्रयास में हैं और चुनाव बाद वे भी धीरे से दिल्ली जाने की तैयारी में हैं। साहब को उम्मीद है कि मैडम को मनपसंद विभाग जल्दी ही मिल जाएगा।

कथा के नाम पर चुनाव खर्च की वसूली!

बुंदेलखंड के सत्ताधारी दल के एक विधायक इसी महीने एक बड़े कथावाचक को बुलाकर कथा का बड़ा आयोजन करने की तैयारी में जुटे हुए हैं। विधायक एक तीर से दो निशाने लगाना चाहते हैं। वे देश के सबसे चर्चित कथावाचक को बुलाकर अपना चुनावी माहौल बनवाना चाहते हैं। दूसरी ओर कथा के नाम पर इतनी वसूली कर रहे हैं कि चुनाव का खर्चा भी निकल आए। अधिकारियों और व्यापारियों से जमकर वसूली चल रही है। शिकायत भोपाल तक पहुंच गई है। चर्चा है कि पार्टी इनकी टिकट काटने की फिराक में है।

चर्चा में दो मंत्रियों की सीडी!

मप्र में विधानसभा चुनाव के दौरान दो मंत्रियों की कथित अश्लील सीडी की चर्चा भी तेज हो गई है। कांग्रेस के एक विधायक की सीडी आने के बाद दोनों मंत्रियों की धड़कनें बढ़ गई हैं। शिवपुरी से संचालित एक न्यूज वेबसाइट ने ग्वालियर चंबल संभाग के एक मंत्री की बेहद अश्लील सीडी होने की खबर दी है। दूसरी ओर मालवा क्षेत्र के एक मंत्री की सीडी किसी मीडियाकर्मी के पास बताई जा रही है। इस मंत्री को लेकर पहले भी एक महिला हंगामा कर चुकी है। मंत्री जी ने तब मामला रफादफा करा दिया था।

और अंत में…!

मप्र के सबसे तेजतर्रार नेता, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह अपनी एक आदत के कारण परेशान हैं। वे सुबह से ट्वीटर पर सक्रिय हो जाते हैं। वे बिना सोचे समझे कोई भी फोटो या सूचना ट्वीटर पर शेयर भी कर देते हैं। उनकी इस आदत के कारण कई बार उनकी फजीहत भी हुई है। इस सप्ताह भी ऐसा ही हुआ। दिग्विजय सिंह ने सुबह सुबह ट्वीट कर दिया कि बजरंग दल के लोगों ने प्रसिद्ध जैनतीर्थ कुंडलपुर में भगवान शिव की पिंडी रखकर उपद्रव शुरु कर दिया है। जबकि यह खबर सच नहीं थी। दिग्विजय सिंह के ट्वीट के बाद शासन प्रशासन सक्रिय हुआ। खबर गलत पाई गई। दिग्विजय सिंह को भी गलती का अहसास हुआ। उन्होंने ट्वीट डिलीट कर दिया। लेकिन तब तक खबर फैल चुकी थी। दमोह पुलिस ने दिग्विजय सिंह के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है। दिग्विजय सिंह के मित्रों ने उन्हें सलाह दी है कि सुबह सुबह भगवान की आरती करें। ट्वीटर की आरती बंद कर दें।