Heatwave Alert : 17 शहरों में 43 के पार पहुंचा पारा, लू के थपेड़ों से सहमे लोग! 

देश का बड़ा हिस्सा रेड झोन में बदला, लू के कहर से राहत की नहीं! 

456

Heatwave Alert : 17 शहरों में 43 के पार पहुंचा पारा, लू के थपेड़ों से सहमे लोग! 

New Delhi : प्रचंड गर्मी की मार से लोग बेहाल हैं। गर्मी के मौसम में आधे से ज्यादा देश झुलस रहा है। मौसम विभाग के मुताबिक भारत के 11 राज्य भीषण लू की चपेट में हैं। शुक्रवार को देश के दर्जनों शहरों में दिन का अधिकतम तापमान 43 से 44 डिग्री से बीच दर्ज हुआ। महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड, ओडिशा, गांगेय पश्चिमी बंगाल और पूर्वी उत्तर प्रदेश में 42 से 44 डिग्री के बीच रिकॉर्ड हुआ। महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश के दर्जनों शहरों का तामपान बीते कुछ समय से 40 डिग्री से अधिक बना हुआ है।      यूपी, एमपी, बिहार, गुजरात और तमिलनाडु में पारा बीते कुछ दिनों से 40-42 के बीच चल रहा है। यह भी सामान्य से 2-4 डिग्री ज्यादा है। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक पूरब में ओडिशा और बंगाल वहीं दक्षिण भारत में आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और तेलंगाना में अगले कुछ दिनों के बीच लू चलने का पूर्वानुमान लगाया गया है। अभी लू के कहर से राहत मिलने की संभावना दूर-दूर तक नहीं है। उत्तर भारत की बात करें तो दिल्ली में बीते कुछ दिनों से राहत बनी हुई है। लेकिन, दो दिन में दिल्ली, हरियाणा, पंजाब में पारा 40 डिग्री के पार चला जाएगा।

IMG 20240420 WA0057

कब शुरू होता है लू का कहर 

लू चल रही है या नहीं, यह जानने के लिए दुनियाभर के देशों में अलग-अलग मानक हैं। कुछ देशों में तापमान और नमी की स्टडी के बाद निकाले गए हीट इंडेक्स के हिसाब से लू चलने की घोषणा की जाती है। भारतीय मौसम विभाग (IMD) के मुताबिक, देश में लू डिक्लेयर करने के दो पैमाने हैं पहला, अगर मैदानी इलाकों में तापमान 40 डिग्री सेल्सियस या इससे अधिक पहुंच गया तो मान लिया जाता है लू चल रही है। दूसरा, पहाड़ी राज्यों में 30 या उससे ऊपर पारा पहुंचने पर लू चलने की घोषणा की जाती है।

सरकार ने जारी की एडवायजरी

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय मार्च महीने से ही लू चलने की एडवाइजरी जारी कर रहा है। राज्य सरकारें भी अपने अपने स्तर पर अलर्ट जारी कर रहे हैं। ऐसे में सभी को सावधानी बरतने की जरूरत है। ऐसे में जब तक बेहद जरूरी न हो तब तक घर या ऑफिस के बाहर न निकलें।