Kissa-A-IPS: पति जहां पुलिस कमिश्नर रहे अब वही हैं पत्नी पुलिस कमिश्नर

2217

Kissa-A-IPS: पति जहां पुलिस कमिश्नर रहे अब वही हैं पत्नी पुलिस कमिश्नर

पूरे देश में यह अजूबा उदाहरण है जहां एक शहर में पति पुलिस कमिश्नर रहे हो और अब वही पत्नी पुलिस कमिश्नर हैं। हम बात कर रहे हैं गुरुग्राम की पुलिस कमिश्नर IPS अधिकारी कला रामचंद्रन की, जिनका नाम इन दिनों सुर्खियों में है। कुछ साल पहले उनके पति नवदीप सिंह विर्क गुरुग्राम के पुलिस कमिश्नर रह चुके हैं। फर्क केवल इतना है कि विर्क IG के रूप में पुलिस कमिश्नर थे जबकि कला ADG के रूप में पुलिस कमिश्नर है।

Kissa-A-IPS: पति जहां पुलिस कमिश्नर रहे अब वही हैं पत्नी पुलिस कमिश्नर

कला ने इसी सप्ताह गुरुग्राम का पुलिस कमिश्नर का पद संभाला। कला रामचंद्रन गुरुग्राम की पहली महिला पुलिस कमिश्नर हैं। वे 1994 बैच की IPS अधिकारी हैं और गुरुग्राम से पहले रेवाड़ी, फतेहाबाद और पंचकूला जिले में पुलिस अधीक्षक की जिम्मेदारी संभाल चुकी है। 2001 में उन्होंने इंटेलिजेंस ब्यूरो के लिए भी कार्य किया था।कला ने 2017 से 2020 तक मेघालय में उत्तर-पूर्वी पुलिस अकादमी का भी नेतृत्व किया था। अपने कामकाज के तरीके से IPS कला रामचंद्रन सशक्त महिला के रूप में उदाहरण बनकर सामने आईं और बहुत सी लड़कियों के लिए रोल मॉडल बनकर उभरी हैं। u

रामचंद्रन गुरुग्राम की पुलिस प्रमुख बनने वाली अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (ADG) रैंक की दूसरी IPS अधिकारी हैं। इससे पहले मोहम्मद अकील (फरवरी 2019 से जुलाई 2020) थे, जो अब जेल महानिदेशक हैं। नियम के मुताबिक, 2007 में गठित गुरुग्राम पुलिस कमिश्नरेट का नेतृत्व आईजी (इंस्पेक्टर-जनरल) रैंक या उससे ऊपर के अधिकारी करेंगे।

Kissa-A-IAS: पति जहां पुलिस कमिश्नर रहे अब वही हैं पत्नी पुलिस कमिश्नर

पिछले साल वे हरियाणा परिवहन विभाग की प्रिंसिपल सेक्रेटरी और पुलिस मुख्यालय में ‘क्राइम अगेंस्ट वूमेन सेल एंड विजिलेंस’ में अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक के रूप में कार्यरत थीं। कला रामचंद्रन मुख्यतः तमिलनाडु कैडर से हैं। उनकी शादी हरियाणा कैडर के IPS नवदीप सिंह विर्क से हुई है। इसके बाद उन्होंने अपना IPS कैडर बदलवाकर हरियाणा कर लिया।

 प्रिंसिपल सेक्रेटरी (IAS) पद पर नियुक्ति का विवाद

देश की वह संभवतः एकमात्र महिला IPS अधिकारी रही है जिन्होंने IAS अधिकारी के लिए पदस्थ पद पर कार्य किया हो। कला रामचंद्रन उन दिनों काफी सुर्खियों में रही, जब हरियाणा सरकार ने उन्हें परिवहन विभाग का प्रिंसिपल सेक्रेटरी बनाया था। ये मामला विवादित हो गया था। क्योंकि, प्रिंसिपल सेक्रेटरी पद पर IAS अधिकारी की नियुक्ति होना थी।

 

लेकिन, कला रामचंद्रन को IPS अधिकारी होने के बावजूद ये जिम्मेदारी दी गई थी। सितंबर 2021 में PS परिवहन (IAS कैडर) पद पर उन्हें नियुक्त किया गया था, उसके बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और गृह मंत्री अनिल विज के बीच तनातनी भी हुई थी। अनिल विज ने रामचंद्रन को IPS का पदभार संभालने के लिए उन्हें रिलीव करने से इनकार तक कर दिया। उन्होंने CM कार्यालय की और से कला रामचंद्रन को दी गई नियुक्ति पर सवाल भी उठाए थे।

Kissa-A-IPS: पति जहां पुलिस कमिश्नर रहे अब वही हैं पत्नी पुलिस कमिश्नर

महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा प्राथमिकता में

अपने हर कार्यकाल में वे महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा को पहली प्राथमिकता देती रही हैं। गुरुग्राम में भी उन्होंने यातायात प्रबंधन और सड़क सुरक्षा के अलावा सड़कों पर होने वाली गुंडागर्दी, छेड़खानी और शराब पीकर गाड़ी चलाने जैसे अपराधों से नागरिकों की सुरक्षा पर ध्यान देने की बात की।

Kissa-A-IAS: पति जहां पुलिस कमिश्नर रहे अब वही हैं पत्नी पुलिस कमिश्नर

रामचंद्रन ने कहा था कि उनकी पहली प्राथमिकता नागरिकों के जीवन में सुधार लाने और लोगों को कामकाज करने में आसानी देने की होगी। पुलिस का ध्यान आम नागरिकों के जीवन को बेहतर बनाने पर होना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि यातायात प्रबंधन और सड़क सुरक्षा उनकी प्राथमिकता वाले क्षेत्र हैं। यातायात सभी चीजों को प्रभावित करता है। गुंडागर्दी, स्नैचिंग, छेड़खानी और शराब पीकर गाड़ी चलाने आर्थिक अपराधों और साइबर अपराधों पर भी ध्यान देंगे।

Also Read: Kissa-A-IAS: डकैतों के इलाके से निकला एक IAS 

कुल मिलाकर कला रामचंद्रन ने IPS अधिकारी के रूप में जो नाम और ख्याति अर्जित की है वह Landmark मानी जाती है। आज की युवा पीढ़ी विशेषकर महिलाओं के लिए वे एक आदर्श उदाहरण के रूप में सामने हैं।

Author profile
Suresh Tiwari
सुरेश तिवारी

MEDIAWALA न्यूज़ पोर्टल के प्रधान संपादक सुरेश तिवारी मीडिया के क्षेत्र में जाना पहचाना नाम है। वे मध्यप्रदेश् शासन के पूर्व जनसंपर्क संचालक और मध्यप्रदेश माध्यम के पूर्व एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर रहने के साथ ही एक कुशल प्रशासनिक अधिकारी और प्रखर मीडिया पर्सन हैं। जनसंपर्क विभाग के कार्यकाल के दौरान श्री तिवारी ने जहां समकालीन पत्रकारों से प्रगाढ़ आत्मीय रिश्ते बनाकर सकारात्मक पत्रकारिता के क्षेत्र में महती भूमिका निभाई, वहीं नए पत्रकारों को तैयार कर उन्हें तराशने का काम भी किया। mediawala.in वैसे तो प्रदेश, देश और अंतरराष्ट्रीय स्तर की खबरों को तेज गति से प्रस्तुत करती है लेकिन मुख्य फोकस पॉलिटिक्स और ब्यूरोक्रेसी की खबरों पर होता है। मीडियावाला पोर्टल पिछले सालों में सोशल मीडिया के क्षेत्र में न सिर्फ मध्यप्रदेश वरन देश में अपनी विशेष पहचान बनाने में कामयाब रहा है।