Kalindi Festival: सवा लाख दीप से जगमगाया मौज गिरी घाट

दीपदान में पहुंचे हजारों संत

535
Kalindi Festival

Kalindi Festival: सवा लाख दीप से जगमगाया मौज गिरी घाट

प्रयागराज, संगम नगरी प्रयागराज में हर वर्ष होने वाले कालिंदी महोत्सव का आयोजन इस बाद भी बड़े धूमधाम से कीडगंज क्षेत्र स्थित मौज गिरी घाट पर वैदिक मन्त्रों के साथ किया गया। कार्यक्रम में कोसों दूर से आये ग्रामीणों और सैकड़ों संतों ने पहुंचकर दीपदान का हिस्सा बने।

कीडगंज क्षेत्र स्थित मौज गिरी घाट पर आयोजित कालिंदी महोत्सव में वैदिक मन्त्रों के साथ श्रद्धालुओं ने सवा लाख दीपों का दीपदान किया। श्रद्धालुओं ने कालिंदी यानी यमुना नदी में दीपदान कर पुण्य लाभ अर्जित किया। इस दौरान लाखों दीपों की रोशनी से यमुना घाट जगमग हो उठा।

Kalindi Festival
Kalindi Festival

देवोत्थान एकादशी की पूर्व संध्या पर दीपदान महायज्ञ एवं कालिंदी महोत्सव का आयोजन किया गया. इस मौके पर जूना अखाड़े के मौज गिरि घाट पर सवा लाख दीप जलाए गए. मां यमुना की भव्य आरती और आतिशबाजी की गई. एक साथ हजारों दीप जलने से यमुना नदी और उसका मौजगिरि घाट दूधिया रोशनी से नहा उठा.

Kalindi Festival

प्रोग्राम का आयोजन श्री पंच दशनाम जूना अखाड़े के प्रमुख संतों के संरक्षण वाली संस्था श्री दत्तात्रेय सेवा समिति की तरफ से किया गया था. दीपदान महायज्ञ और कालिंदी महोत्सव में जूना अखाड़े के सभापति श्री महंत प्रेम गिरि महाराज समेत तमाम दूसरे अखाड़ों के संत महात्मा मौजूद थे. इस मौके पर हाल के दिनों में दुनिया में कई जगहों हुए आतंकी हमले की निंदा की गई और समूचे विश्व में शांति वा भाईचारा कायम रहने की प्रार्थना खास तौर पर की गई. उत्तराखंड की टनल में फंसे 41 मजदूरों की सलामती के लिए भी प्रार्थना की गई. महोत्सव का शुभारंभ इलाहाबाद हाईकोर्ट की जज जस्टिस मंजू रानी चौहान ने दीप जलाकर किया.

hqdefault

स्पेशल गेस्ट के तौर पर जस्टिस शेखर कुमार यादव मौजूद थे. अध्यक्षता श्री पंच दशनाम नाम जूना अखाड़े के सभापति श्रीमंत प्रेम गिरि जी महाराज ने की. भजन गायक आशुतोष श्रीवास्तव और उनके सहयोगियों ने भजन वा सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश किए. महंत चैतन्य पुरी महाराज, शिवानंद गिरि जी महाराज, हरि शंकर गिरि महाराज, रवि शंकर जी महाराज, कल्याणी नंद गिरि, गंगा गिरि, सरस्वती गिरि खास तौर पर मौजूद रहीं. शुभारंभ केसर भवन स्थित वेद विद्यालय के वेदपाठी बटुकों के वेद मंत्रों के साथ हुआ. इस मौके पर प्रयागराज पुलिस की तरफ से सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे.

सनातन धर्म में पीपल को वृक्षों का राजा क्यों कहते है? 

Reached Village as SP : SP बनकर गांव पहुंची बहू का जोरदार स्वागत, पर पुलिस ने FIR दर्ज की!