Benefits of Unmarried Sisters Ladli Behna Scheme:मध्यप्रदेश में अब 21 से 23 वर्ष की अविवाहित बहनों लाड़ली बहना योजना का लाभ

454

समाज में बदलाव लाने के लिए निरंतर काम कर रही सरकार : मुख्यमंत्री श्री चौहान

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि राज्य सरकार लोगों की जिंदगी को बेहतर बनाने के लिये संकल्पबद्ध है। प्रदेश को परिवार मानकर चिंता करते हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज सीहोर के भैरून्दा के ग्राम मण्डी में विभिन्न निर्माण एवं विकास कार्यों के भूमिपूजन तथा लोकार्पण के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने 312 करोड़ रूपए के विभिन्न निर्माण एवं विकास कार्यों की सौगात दी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने गत दिवस की गई 21 से 23 वर्ष की अविवाहित बहनों को भी लाड़ली बहना योजना से लाभान्वित करने की बात को दोहराते हुए कहा कि लाड़ली बहना योजना से बहनों के जीवन में सकारात्मक परिवर्तन देखने को मिले हैं। उन्होंने कहा कि इस योजना से बहनों को घर परिवार के साथ ही समाज में भी सम्मान मिला है। उन्होंने कहा कि मैंने बहनों को पैसे ही नहीं, सम्मान भी दिलवाया है। लाड़ली बहना योजना के तहत मिलने वाली राशि से अब बहने अपनी आवश्यक जरूरतों को पूरा कर रही है। लाड़ली बहना योजना के तहत एक हजार रूपए प्रति महीने मिलने वाली राशि को अब 1250 रूपए कर दिया गया है। हर लाड़ली बहना को 250 रूपए के मान से बढ़ाते हुए 3000 रूपए की राशि प्रदान की जाएगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि किसान भाइयों को प्रधानमंत्री किसान कल्याण योजना के तहत केन्द्र सरकार द्वारा 6000 रूपए दिए जाते है, अब प्रदेश सरकार की ओर से भी मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना के तहत 6000 रूपए की राशि प्रदान की जा रही है। किसानों को सालाना 12000 रूपए की राशि मिल रही है। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत जिन लोगो को आवास नही मिल पाए है, उन्हें मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत आवास प्रदान किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि गरीबो को नि:शुल्क राशन दिया जा रहा है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि छठवीं और नवमीं कक्षा के दूसरे गांव स्कूल पढ़ने जाने वाले बच्चो को साइकिल खरीदने के लिए 4500 रूपए की राशि दी गई है। कक्षा 12वीं में 75 प्रतिशत से अधिक लाने वाले विद्यार्थियों को लैपटॉप के लिए 25000 रूपए दिए गए हैं। इसके साथ ही जो बच्चे 12वीं कक्षा में अपने स्कूल में टॉप आए है, उनमें बेटा और बेटी को स्कूटी दी गई है। इससे बच्चों में प्रतिस्पर्धा की भावना पैदा होगी और वे अच्छे प्रतिशत के साथ पास होकर बेहतर भविष्य का निर्माण कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि मेधावी छात्र-छात्राओं की आईआईटी, मेडिकल और दूसरी उच्च शिक्षा की फीस भी सरकार द्वारा भरी जाएगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने 312 करोड़ रूपए के निर्माण एवं विकास कार्यों का किया भूमि-पूजन तथा लोकार्पण 

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने 190 करोड़ 11 लाख रूपए की लागत से बनने वाली सीप अंबर सिंचाई परियोजना काम्प्लेक्स फेस-2 का भूमि-पूजन किया है। इस परियोजना के पूरा हो जाने के बाद 26 गांवो की 13 हजार 457 हेक्टेयर कृषि भूमि सिंचित होगी। इस परियोजना में नर्मदा नदी से पम्प हाऊस के माध्यम से पानी लिफ्ट कर प्रेशेराइज्ड पाइप प्रणाली और स्काडा तकनीकी द्वारा सिंचाई की जा सकेगी। उन्होंने 77 करोड़ 59 लाख की लागत से बनी नीलकंठ पेयजल परियोजना से पेयजल प्रदाय कार्य का शुभारम्भ किया गया है। इससे अब 44 ग्रामों के 6374 घरेलू नल कनेक्शनों के द्वारा लगभग 39,608 लोगो को शुद्ध पेयजल प्राप्त हो रहा है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आज मण्डी में 11 करोड़ 92 लाख की लागत से ग्राम टिगाली (त्रिवेणी संगम) में घाट, रिटेनिंग वॉल एवं एप्रोच रोड़ निर्माण कार्य, 11 करोड़ 64 लाख रूपए की लागत से सातदेव घाट एवं रिटेनिंग वॉल निर्माण कार्य, चार करोड़ 3 लाख रूपए की लागत से मण्डी में घाट एवं रिटेनिंग वॉल निर्माण कार्य,  2 करोड़ 80 लाख रूपए की लागत से खडगाँव बेराज, 2 करोड़ 76 लाख रूपए की लागत से सोयत बेराज, 2 करोड़ 59 लाख रूपए की लागत से रेमलबाबा बेराज, 2 करोड़ 47 लाख रूपए की लागत से आगरा 2 बेराज, दो करोड़ 9 लाख 60 हजार रूपए की लागत से सीलकंठ मेन रोड से मुक्तिधाम तक मार्ग निर्माण तथा 2 करोड़ 06 लाख रूपए की लागत से सतराना बेराज के निर्माण कार्य  का भूमि पूजन किया गया है। इन सभी निर्माण एवं विकास कार्यों के पूर्ण होने से आमजन को इसका लाभ मिलेगा। इस दौरान मुख्यमंत्री श्री चौहान ने एक करोड़ 56 लाख रूपए की लागत से नीलकंठ में घाट निर्माण कार्य तथा 81 लाख रूपए की लागत से मण्डी में घाट निर्माण कार्य का भी लोकार्पण किया। इस दौरान अनेक बहनों द्वारा मुख्यमंत्री श्री चौहान को राखी भेंट की गई। उन्होंने नल जल योजना के तहत लाभान्वित हितग्राही ग्राम सोंठिया निवासी श्रीमती मोनिका बाई से वर्चुअली बात कर घर में नल से जल पहुंचने की जानकारी ली और उन्हें बधाई दी। कार्यक्रम में वन विकास निगम के पूर्व अध्यक्ष श्री गुरू प्रसाद शर्मा ने भी संबोधित किया।