कानून और न्याय :पर्यावरण में मददगार न्यायपालिका की अनूठी पहल!

436

कानून और न्याय :पर्यावरण में मददगार न्यायपालिका की अनूठी पहल!

 

दिल्ली उच्च न्यायालय ने एफआईआर रद्द करने के लिए ‘‘स्थानीय उद्यानों में पेड़ों के पचास पौधे लगाएं, जिनकी ऊंचाई तीन फीट तक हो। यह विषिष्ट शर्त लगाई। इस अनूठे निर्देश में, दिल्ली उच्च न्यायालय ने पक्षों के बीच एक समझौते के बाद उनके खिलाफ दर्ज प्रथम सूचना रिपोर्ट (एफआईआर) को रद्द करने की शर्त के रूप में एक परिवार को बगीचों में पचास पौधे लगाने का आदेश दिया है। न्यायमूर्ति अनूप कुमार मेंदीरत्ता की एकल पीठ ने आदेश दिया कि आरोपी परिवार के सदस्यों को सुल्तानपुरी पुलिस स्टेशन के अधिकार क्षेत्र में आने वाले आवासीय क्षेत्र में तीन फीट तक के पौधे लगाने चाहिए। वहां मूल रूप से प्राथमिकी दर्ज की गई थी।

IMG 20240522 WA0017

दिल्ली न्यायालय ने निर्दिष्ट किया कि लगाए गए पौधों की तस्वीरें, जांच अधिकारी या स्टेशन हाउस अधिकारी की रिपोर्ट के साथ, आठ सप्ताह के भीतर उसे प्रस्तुत की जानी चाहिए। इसके अतिरिक्त, पौधों और पेड़ों के रखरखाव की जिम्मेदारी संबंधित अधिकारियों की होगी। अदालत ने आगे कहा कि वृक्षारोपण के निर्देश का पालन करने में विफलता के परिणामस्वरूप याचिकाकर्ता लागत राशि 25 हजार जमा करने के लिए उत्तरदायी होंगे। इसके अलावा, पौधों/पेड़ों का रखरखाव संबंधित अधिकारियों द्वारा किया जाएगा।

उच्च न्यायालय ने अपने आदेष में प्राथमिकी भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत स्वेच्छा से चोट पहुंचाने, एक महिला की शील भंग करने, घर में अतिक्रमण, आपराधिक धमकी और सामान्य इरादे सहित आरोपों से उपजी थी। शिकायतकर्ता ने उसके पड़ोसियों पर ईंटों और लोहे की छड़ से हमला करने के साथ-साथ उसके साथ अनुचित तरीके से छेड़छाड़ करने का आरोप लगाया था। उसने यह भी आरोप लगाया था कि उसके भाई और पिता पर भी हमला किया गया, जब उन्होंने हस्तक्षेप करने का प्रयास किया। याचिकाकर्ताओं के वकील ने तर्क दिया कि मामले को 15 फरवरी, 2024 के समझौता ज्ञापन के संदर्भ में उभयपक्षों, जो पड़ोसी हैं, के बीच सौहार्दपूर्ण ढंग से सुलझा लिया गया है। उन्होंने यह भी बताया कि चोटों की प्रकृति सरल मानी जाती है। राज्य के लिए अतिरिक्त लोक अभियोजक ने कहा कि पक्षों के बीच सौहार्दपूर्ण समझौते को देखते हुए, संबंधित एफआईआर को रद्द करने के मामले में राज्य को कोई आपत्ति नहीं है।

उच्च न्यायालय ने कहा कि मानसिक भ्रष्टता या हत्या, बलात्कार और डकैती जैसे अपराधों से जुड़े जघन्य और गंभीर अपराधों को समझौते के बावजुद रद्द नहीं किया जा सकता है। हालांकि, गंभीर अपराधों, छोटी घटनाओं या अपराधों से अलग, जो बड़े पैमाने पर समाज को प्रभावित नहीं करते हैं या प्रकृति में व्यक्तिगत हैं, धारा 482 दंड प्रक्रिया संहिता के तहत अंतर्निहित शक्तियों के प्रयोग के रूप में एक अलग आधार पर आधारित है। पक्षों के बीच समझौते के मद्देनजर, इस तरह के मामले में दोषसिद्ध की संभावना कम है। कार्यवाही जारी रखने से आरोपी पर गंभीर उत्पीड़न और पूर्वाग्रह होना संभव है। उच्च न्यायालय ने कहा कि पक्ष पड़ोसी होने के नाते कार्यवाही को समाप्त करने का इरादा रखते हैं। समझौता पक्षों के बीच सद्भाव को बढ़ावा देगा। चूंकि मामले को पक्षों के बीच सौहार्दपूर्ण ढंग से सुलझा लिया गया है, इसलिए मामले को लंबित रखने से कोई उपयोगी उद्देष्य पूरा नहीं होगा। कार्यवाही जारी रखना और कुछ नहीं बल्कि न्यायालय की प्रक्रिया का दुरुपयोग होगा। नतीजतन, प्रथम सूचना रिपोर्ट आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत दर्ज और उससे उत्पन्न होने वाली कार्यवाही को रद्द कर दिया गया है।

यह पहली बार नहीं है जब इस तरह की सजा किसी को सुनाई गई हो। इससे पहले भी उच्चतम न्यायालय भी डाॅ सोलेमन के मामले में यही ठहरा चुका है। सर्वोच्च न्यायालय ने एक 32 वर्षीय डाॅक्टर को 16 साल की उम्र में हत्या का प्रयास करने की सजा के रूप में अगले एक साल सौ पेड़ लगाने का आदेष दिया है। पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद में प्रैक्टिस करने वाले इस डाॅक्टर को अपराध के लिए तीन साल के कारावास की सजा सुनाई गई थी। कलकत्ता उच्च न्यायालय ने सजा की पुष्टि की। लेकिन चीजों ने एक अप्रत्याशित मोड़ ले लिया जब सोलेमन ने सर्वोच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया और कहा कि अगस्त 2004 में घटना के समय वह नाबालिग था।

डॉक्टर की याचिका से परेशान होकर, न्यायमूर्ति एल. नागेश्वर राव और न्यायमूर्ति हेमंत गुप्ता की पीठ ने 25 फरवरी को जिला और सत्र न्यायाधीश, बरहमपुर, मुर्शिदाबाद, पश्चिम बंगाल के सुलेमान की कहानी की जांच करने के लिए कहा। जिला न्यायाधीश ने पुष्टि की कि डॉक्टर वास्तव में अपराध की तारीख को 16 साल सात महीने और 28 दिन का नाबालिग था। न्यायाधीश की रिपोर्ट में कहा गया है कि सोलेमन का जन्म 30 फरवरी, 1987 को हुआ था। उनके स्कूल के रिकॉर्ड उनकी उम्र के सबूत को मजबूत करते हैं। अदालत ने कहा कि कानून के तहत डॉक्टर को आदर्श रूप से कानूनी अर्थ में बच्चा माना जाएगा। न्यायालय ने माना कि फिर से, 32 वर्षीय डॉक्टर को अब किशोर बोर्ड के सामने भेजने से भी कोई फायदा नहीं है।

उच्चतम न्यायालय ने सुझाव दिया कि ‘इसके बजाय, याचिकाकर्ता, जो अब 32 वर्ष की आयु के एक पंजीकृत चिकित्सा व्यवसायी हैं, को सामुदायिक सेवा करने का निर्देश देकर न्याय के उद्देश्य को पूरा किया जाना चाहिए। उच्चतम न्यायालय के सुझाव का उत्तर प्रदेश राज्य ने समर्थन किया। उसने पेड़ लगाने को डाॅक्टर के लिए एक उपयुक्त सजा पाया। राज्य के वकील ने सुझाव दिया कि सामुदायिक सेवा करने के इस दायित्व को याचिकाकर्ता को पेड़ लगाने के निर्देष से पूरा किया जा सकता है। न्यायालय ने याचिकाकर्ता के वकील द्वारा दिए गए सुझाव को स्वीकार करते हुए याचिकाकर्ता को एक साल की अवधि के भीतर सौ पेड़ लगाने का निर्देश दिए।

यह भी जानना दिलचस्प है कि मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति आनंद पाठक के द्वारा भी कुछ दिनों पहले एक मामले में जमानत इस शर्त पर दी गई थी कि वह दस पेड़ लगायेंगे। मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय की ग्वालियर पीठ ने हत्या के प्रयास के एक मामले में एक आरोपी को पेड़ लगाने की शर्त पर जमानत दी। न्यायमूर्ति आनंद पाठक ने रिंकु शर्मा नामक आरोपी को एक लाख रूपये के निजी मुचलके पर जमानत दी थी। हाल ही में 13 अप्रैल के आदेश में, उच्च न्यायालय ने शर्मा को दस पौधे-फलों के पेड़ या नीम या पीपल लगाने और उनकी देखभाल करने का निर्देश दिया। न्यायाधीश ने कहा कि आरोपी अपनी पसंद के स्थान पर पौधे लगा सकता है, लेकिन वह उन्हें अपने खर्च पर सुरक्षित करेगा। आदेश में यह भी कहा गया है कि अभियुक्त 30 दिनों के भीतर पौधों की तस्वीरें पेश करेंगे।

उन्हें अगले छह महीनों के दौरान हर तीन महीने में पेड़ों के स्वास्थ्य के बारे में एक रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए भी कहा गया था। उच्च न्यायालय ने चेतावनी दी कि उसकी ओर से कोई भी चूक उसे जमानत के लाभ से वंचित कर सकती है। न्यायाधीश ने कहा कि यह शर्त इसलिए रखी गई थी। क्योंकि, आरोपी ने स्वेच्छा से सामुदायिक सेवा करने की इच्छा व्यक्त की थी। न्यायमूर्ति आनंद पाठक पूर्व में अपने कई फैसलों में इसी प्रकार वृक्षारोपण तथा सामुदायिक सेवा के आदेश दे चुके हैं। न्यायपालिका द्वारा इस प्रकार के आदेश दिए जाना न केवल सराहनीय है बल्कि पर्यावरण एवं सामुदायिक सेवा के क्षेत्र के लिये भी बहुत ही अनूठी एवं शानदार पहल है। साथ ही छोटे अपराध करने वाले व्यक्तियों को सुधारने का एक अभिनव अवसर भी है।