योजनाओं के प्रति ढिलाई, कलेक्टर हुए सख्त, बैंकर्स और अधिकारियों को अप्रसन्नता पत्र जारी करने के दिए निर्देश 

जिला स्तरीय बैंकर्स सलाहकार एवं समीक्षा समिति की बैठक आयोजित 

323

योजनाओं के प्रति ढिलाई, कलेक्टर हुए सख्त, बैंकर्स और अधिकारियों को अप्रसन्नता पत्र जारी करने के दिए निर्देश 

 

ग्वालियर: केन्द्र एवं राज्य सरकार द्वारा संचालित स्वरोजगारमूलक योजनाओं के तहत हितग्राहियों को ऋण-अनुदान वितरण की धीमी प्रगति पर कलेक्टर श्री अक्षय कुमार सिंह ने सख्त नाराजगी जताई है। उन्होंने संबंधित बैंकों के प्रबंधकों एवं विभागीय अधिकारियों को अप्रसन्नता पत्र लिखकर वरिष्ठ अधिकारियों को सूचित करने के निर्देश दिए हैं। कलेक्टर श्री सिंह डीएलसीसी (जिला स्तरीय बैंकर्स सलाहकार एवं समीक्षा समिति) की बैठक में पीएम स्वनिधि, मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति, प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम एवं संत रविदास योजना सहित सरकार द्वारा संचालित अन्य स्वरोजगारमूलक योजनाओं की प्रगति की समीक्षा कर रहे थे।

शुक्रवार को यहाँ जिला पंचायत के सभागार में आयोजित हुई बैठक में बैठक में जिला पंचायत के सीईओ श्री विवेक कुमार सहित रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया व नाबार्ड के प्रतिनिधि, लीड बैंक अधिकारी, विभिन्न बैंकों के समन्वयक और संबंधित विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद थे।

कलेक्टर श्री सिंह ने बैंकर्स व विभागीय अधिकारियों को आगाह करते हुए कहा कि अगली डीएलसीसी की बैठक से पहले यदि योजनाओं की प्रगति ठीक नहीं हुई तो सख्त कार्रवाई प्रस्तावित की जायेगी। उन्होंने विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए कि जिन बैंकों द्वारा स्वरोजगारमूलक योजनाओं में रूचि नहीं ली जा रही है उनको कलेक्टर की ओर से पत्र लिखवाएँ और इसकी सूचना बैंकों के वरिष्ठ अधिकारियों को दें।

जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री विवेक कुमार ने बैंकवार सीडी रेशियो (ऋण-जमा अनुपात) की समीक्षा के दौरान बैंक ऑफ महाराष्ट्र, आईडीबीआई और यूबीआई की स्थिति ठीक न होने पर चिंता व्यक्त की और इसे सुधारने के निर्देश दिए। उन्होंने लाड़ली बहना योजना में सहयोग के लिये सभी बैंकों के प्रति धन्यवाद भी व्यक्त किया।

सीएम हैल्पलाइन को भी बैंकर्स अपना मूल काम समझें 

कलेक्टर श्री अक्षय कुमार सिंह ने बैठक में मौजूद विभिन्न बैंकों के समन्वयकों को आगाह करते हुए कहा कि वे सीएम हैल्पलाइन सहित राज्य शासन के प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों को अपना मूल काम समझें। इसमें किसी भी प्रकार की ढिलाई बर्दाश्त नहीं होगी। उन्होंने मत्स्य पालन के लिये मछुआ हितग्राहियों को तत्परता से ऋण वितरण करने पर बल दिया। साथ ही कहा कि लोगों को आत्मनिर्भर बनाना बैंकर्स की नैतिक जिम्मेदारी भी है।

चुनाव के मद्देनजर सभी बैंक अपने कर्मचारियों का डाटा जल्द से जल्द अपडेट करें 

कलेक्टर श्री अक्षय कुमार सिंह ने सभी बैंकों के समन्वयकों को निर्देश दिए कि विधानसभा चुनाव के लिये सभी बैंक अपने अधिकारी एवं कर्मचारियों का डाटा शनिवार 19 अगस्त तक अपडेट कर दें। इसमें ढ़िलाई होने पर भारत निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशों के तहत कार्रवाई की जायेगी।