Master Mind of Atiq’s Murder : अतीक अहमद की हत्या के मास्टर माइंड का खुलासा, तीनों ने नाम बताया!

तीनों शूटरों को महंगे हथियार भी उसी मास्टर माइंड ने दिए!

4015
Master Mind of Atiq's Murder

Master Mind of Atiq’s Murder : अतीक अहमद की हत्या के मास्टर माइंड का खुलासा, तीनों ने नाम बताया!

Prayagraj : शनिवार रात माफिया सरगना अतीक अहमद और उसके भाई अशरफ की पुलिस के घेरे में हत्या के मामले में बड़ा खुलासा हुआ। अतीक और उसके भाई अशरफ पर गोलियां चलाने वाले तीनों हमलावरों ने पूछताछ में किया। उन्होंने बताया कि कानपुर के हिस्ट्रीशीटर बाबर ने उन्हें ये आधुनिक हथियार दिए थे। पुलिस की पूछताछ में शूटर सनी, अरुण और लवलेश ने सारे पत्ते खोल दिए। बाबर से सनी की हमीरपुर जेल में मुलाकात हुई थी। बाबर के पंजाब के बदमाशों से नजदीकी संबंध हैं।

इन शूटर के पास से एक 30 पिस्टल (7.62) कंट्रीमेड, एक 9-एमएम पिस्टल गिरसान (मेड इन टर्की) और एक 9-एमएम पिस्टल, जिगाना (मेड इन टर्की) जब्त की गई थी। इन तीनों की आर्थिक हालत इतनी अच्छी नहीं है कि वे 4-4 लाख के महंगे और आधुनिक हथियार खरीद सकें। ऐसे में सवाल काफी उठ रहा था कि आखिर ये हथियार इनके पास कहां से आए और इन्हें किसने दिया। आखिर इस हत्या के पीछे किसका हाथ है!

शनिवार को अतीक और उसके भाई अशरफ को प्रयागराज में मेडिकल कॉलेज के पास मेडिकल के लिए ले जाया जा रहा था। इस दौरान अतीक और अशरफ मीडिया से बात कर रहे थे। तभी नकली मीडियाकर्मी बनकर पहुंचे हमलावरों ने अतीक के सिर के पास गन सटाकर गोली मार दी।

इस दौरान हमलावरों ने कई राउंड फायरिंग की। गोली लगते ही अतीक और उसका भाई अशरफ जमीन पर गिर पड़े और दोनों की मौके पर ही मौत हो गई। पुलिस ने इस मामले में 3 हमलावरों को मौके पर ही गिरफ्तार कर लिया। इनकी पहचान सनी, अरुण और लवलेश के रूप में हुई। अतीक अहमद की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में ये बात सामने आई थी कि उसे 8 गोलियां लगी थी।

इस घटना को अंजाम देने वाले तीनों हमलावरों को प्रयागराज की कोर्ट में भी पेश किया गया था, जहां से इन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। पहले इन हमलावरों को प्रयागराज की नैनी जेल में रखा गया था। लेकिन, अतीक के बेटे अली और उसके गुर्गे भी नैनी जेल में बंद हैं। इसलिए सुरक्षा कारणों से इन हमलावरों को प्रतापगढ़ की जेल में शिफ्ट कर दिया गया। अब ये पता लगाया जा रहा है कि अतीक की हत्या बाबर ने क्यों करवाई।

Security Arrangements for Journalists: पत्रकार के भेष में अतीक हत्याकांड के बाद अब पत्रकारों की सुरक्षा की योजना!