Mumbai Rave Party: शाहरुख़ के बेटे को पकड़ने वाले Sameer Wankhede की जांबाजी के किस्से!

1033

मुंबई। रविवार की Rave Party से शाहरुख़ खान के बेटे आर्यन खान (Aryan Khan) को पकड़ने वाले NCB के के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े (Sameer Wankhede) की जांबाजी के कई किस्से मशहूर हैं। उन्होंने इससे पहले भी कई सेलिब्रिटी को हवा बिगाड़ी है। जानने वाले उन्हें मुंबई NCB का Singham कहते हैं।
कई मामलों में उन्होंने साबित किया कि वे किसी के दबाव (Pressure) में नहीं आते! फिर वो कोई फिल्मवाला हो, नेता हो या बड़ा कारोबारी।

समीर वानखेड़े (Sameer Wankhede) ने ही Rave Party पर छापा मारकर Drugs जब्त की थी। इस छापामारी में आर्यन खान सहित 8 लोगों को पकड़ा गया था, जिनमें से 3 को कल रात कोर्ट में पेश करके एक दिन के रिमांड पर लिया गया।

Celebrities पर शिकंजा
पिछले साल फिल्म कलाकार सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की आत्महत्या के बाद बॉलीवुड में Drugs की बात सामने आई थी। उस मामले की जाँच में भी समीर वानखेड़े का नाम सामने आया था। बताते हैं कि उस मामले में भी उन्होंने बिना किसी दबाव के अपना काम किया।

WhatsApp Image 2021 10 04 at 2.31.08 PM

सुशांत सिंह मामले में समीर वानखेड़े ने रिया चक्रवर्ती (Riya Chakravarty) और उसके भाई से पूछताछ की थी। उन्होंने Actor अरमान कोहली को भी Drugs के एक मामले में गिरफ्तार किया था। अभिनेत्री सारा अली खान, दीपिका पादुकोण और श्रद्धा कपूर के नारकोटिक्स कनेक्शन की जांच भी समीर ने ही की थी। अर्जुन रामपाल की गर्लफ्रेंड के भाई को भी ड्रग्स के मामले में गिरफ्तार किया था। 2013 में समीर ने विदेशी मुद्रा मामले में मिक्का सिंह (Mikka Singh) को भी पकड़ा था।

Drug माफिया पर चोट
समीर वानखेडे की टीम ने दो साल में करीब 17 हजार करोड़ रुपए के नशे और Drug रैकेट का पर्दाफाश किया है। 2020 में मुंबई में एक Raid के दौरान उनकी टीम पर हमला भी हुआ था।

उन्हें बेहद सख्त ऑफिसर माना जाता है। उनकी Image ईमानदार अधिकारी की है और वो केवल अपनी ड्यूटी पर ही फोकस करते हैं। हाई प्रोफाइल मामलों में उन पर काफी दबाव रहता है, पर समीर वानखेड़े को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता।

Drugs मामलों के Experts 
समीर वानखेड़े को नशे और ड्रग्स से जुड़े मामलों का विशेषज्ञ माना जाता है। 2008 बैच के IRS समीर वानखेड़े महाराष्ट्र के रहने वाले हैं। उनकी पहली पोस्टिंग मुंबई के छत्रपति शिवाजी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर डिप्टी कस्टम कमिश्नर के तौर पर हुई थी।

बताते हैं कि वहां भी उन्होंने पूरी दमदारी से अपनी ड्यूटी पूरी की थी। बाद में उनकी पोस्टिंग आंध्र प्रदेश और फिर दिल्ली में हुई।