New Patients of Dengue & Malaria : डेंगू और मलेरिया के नए मामले, स्वास्थ्य विभाग सतर्क हुआ!

शहर के साथ ग्रामीण इलाकों में भी मरीजों की संख्या बढ़ी!

374

New Patients of Dengue & Malaria : डेंगू और मलेरिया के नए मामले, स्वास्थ्य विभाग सतर्क हुआ!

 

Indore : देपालपुर क्षेत्र के कुछ गांवों में डेंगू और मलेरिया के मामले अचानक बढ़ने से स्वास्थ्य विभाग अमला सतर्क हो गया। भेजे गए 70 सैंपल्स में से 10 में डेंगू की पुष्टि हुई। इसके बाद उन गांवों में शिविर लगाए जा रहे हैं। फीवर व लार्वा सर्वे करवाया जा रहा है। चौपालों पर जाकर लोगों को बचाव के लिए जागरूक किया जा रहा है। मामले बढ़ने के पीछे एक कारण बारिश के सीजन में बाढ़ आना बताया जा रहा।

शहर और ग्रामीण इलाकों में डेंगू के केस लगातार सामने आ रहे हैं। जिले में रोज औसतन 5-6 केस दर्ज हो रहे हैं। इसका कारण जलजमाव बताया जा रहा है, जिससे डेंगू के मच्छर बढ़े। इस साल जनवरी से अब तक 434 डेंगू केस सामने आ चुके हैं। इनमें 284 पुरुष हैं। मंगलवार को 5 और बुधवार को 4 केस सामने आए। 10 मलेरिया के केस भी सामने आए हैं।

बुधवार को मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ बीएस सैत्या, आईडीएसपी नोडल अधिकारी डॉ अमित मालाकार, शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. संजय सिमलोट, जिला मलेरिया अधिकारी दौलत पटेल ने देपालपुर ब्लॉक के ग्राम चांदेर और अन्य गांवों का मुआयना किया। बुखार वाले मरीजों की एंटीजन जांच भी करवाई गई।

Rajouri Encounter: राजौरी एनकाउंटर में एक और जवान की मौत, शहीदों की संख्या हुई पांच

इन गांवों में कराया सर्वे

ग्राम चांदेर में 498 घरों का सर्वे किया गया, जिसमें से 12 घरों में डेंगू लार्वा पाया गया। आरोदा कोट में 118 घरों का सर्वे किया गया, जिसमें से 3 घरों में लार्वा पाया गया। सगड़ोद में 118 घरों का सर्वे हुआ, जहां 8 घरों और ग्राम कलमेर में 198 में से 6 घरों में लार्वा पाया गया। मलेरिया विभाग की टीम बीते 15 दिनों से वहां लार्वा नष्ट करने का काम कर रही है। आशा कार्यकर्ताओं से भी सर्वे करवाया जा रहा है।

MP Election 2023: राहुल गांधी के OBC राग का प्रभाव उलटा पड़ा, शिवराज सिंह चौहान भाजपा में मजबूत होते गए ! 

 

डेंगू से बचाव के तरीके बताए

अधिकारियों ने ग्राम पंचायत के लोगों से भी बात की। उन्हें कहा कि सप्ताह में एक बार घर में जल जमाव वाली जगहों का निरीक्षण करें और निकासी करें। यदि किसी को बुखार आए तो तुरंत निकट के स्वास्थ्य केंद्र में सूचित करें। डेंगू का मच्छर साफ पानी से भरे टैंक, टायर, सीमेंट की टंकियों, मटके, कूलर, छत पर रखे गमले में अंडे देता है।

इसके अलावा खुले में रखे कबाड़, पुराने टायर, पशुओं को पानी पिलाने के लिए रखे गए हॉज में भी लार्वा पनपता है। उन्हें समझाया गया कि पानी को जमा न होने दें। पानी को ढक कर रखें और छोटी चम्मच मीठा तेल डालें। बाहर गड्ढों तथा नालियों में जला हुआ तेल डालें। यह मच्छर दिन के समय काटता है, इसलिए पूरी आस्तीन के कपड़े पहनें। रात में मच्छरदानी का प्रयोग करें, घर में नीम की पत्तियों का धुंआ करें।