Notice to Imarti on Jeetu’s Petition : जीतू पटवारी की FIR रद्द करने की याचिका पर हाईकोर्ट ने इमरती देवी से जवाब मांगा!

अब इस मामले की अगली सुनवाई 2 जुलाई को होगी!

372

Notice to Imarti on Jeetu’s Petition : जीतू पटवारी की FIR रद्द करने की याचिका पर हाईकोर्ट ने इमरती देवी से जवाब मांगा!

Bhopal : हाईकोर्ट ने पूर्व मंत्री व बीजेपी नेता इमरती देवी और मध्यप्रदेश शासन को नोटिस जारी किए हैं। हाईकोर्ट ने ये नोटिस सोमवार को मध्यप्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और राऊ-इंदौर के पूर्व विधायक जीतू पटवारी की याचिका पर सुनवाई के बाद दिए। अब इस मामले की अगली सुनवाई 2 जुलाई को होगी।

‘इमरती का रस खत्म हो गया’ बयान पर पीसीसी चीफ जीतू पटवारी के खिलाफ पूर्व मंत्री इमरती देवी ने ग्यालियर के डबरा थाने में धारा 509 (महिला के साथ अभद्र भाषा का प्रयोग कर उसके सम्मान को ठेस पहुंचाने की कोशिश) और अनुसूचित जाति/जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम की धरा 3 (1) (r) के तहत एफआईआर कराई थी। इस एफआईआर को रद्द कराने के लिए जीतू पटवारी ने हाईकोर्ट में याचिका लगाई है। जस्टिस संजय द्विवेदी की कोर्ट ने इमरती देवी और मध्यप्रदेश शासन से पूछा है कि पटवारी पर आरोप लगाने का आधार क्या है? पटवारी की ओर से पैरवी अधिवक्ता विभोर खंडेलवाल और जयेश गुरनानी ने की।

आरोप निराधार और राजनीतिक लाभ के लिए 

इंदौर के हाई कोर्ट एडवोकेट विभोर खंडेलवाल की ओर से बताया गया कि पूर्व मंत्री इमरती देवी ने एफआईआर में यह कहा है कि जीतू पटवारी के बयान से उनकी लज्जा भंग हुई है। वे एससी/एसटी एक्ट की बात कर रही हैं। एफआईआर में भी यह एक्ट लगा है। यह पूरी तरह गलत है, क्योंकि बयान में जातिसूचक शब्द का इस्तेमाल नहीं हुआ है। इस उद्देश्य से भी बयान नहीं दिया गया कि किसी एससी और एसटी की महिला की लज्जा भंग हो। एफआईआर सिर्फ पॉलिटिकल माइलेज गेन के लिए कराई गई है।

वोटिंग के चार दिन पहले दिया था बयान

3 मई को जीतू पटवारी का 16 सेकंड का वीडियो सामने आया था। इसमें वे पूर्व मंत्री इमरती देवी को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में हंसते हुए कह रहे थे, ‘देखो ऐसा है, अब इमरती जी का रस खत्म हो गया है। जो अंदर चाशनी होती है … उनके लिए अब मैं कुछ बात नहीं कर रहा।’

जीतू पटवारी लोकसभा चुनाव की तैयारियों के लिए ग्वालियर में कांग्रेस जिला अध्यक्ष देवेंद्र शर्मा से मिलने उनके घर पहुंचे थे। इसके बाद मीडिया से बात की थी। हालांकि मामले के तूल पकड़ने के बाद जीतू ने माफी भी मांगी थी। उन्होंने X हैंडल पर इमरती को बड़ी बहन जैसा बताया।

पूर्व मंत्री बोली थीं बयान से आहत हूं

डबरा थाना में मामला दर्ज कराने के बाद पूर्व मंत्री इमरती देवी सुमन 7 मई को मतदान होने बाद डबरा थाना पहुंची थीं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष जीतू पटवारी की महिलाओं के प्रति सोच और मेरे के लिए ऐसे शब्द बोलने से मैं आहत हूंं। उन्होंने एक पेन ड्राइव भी पुलिस को दी है, जिसमें कांग्रेस पीसीसी चीफ बयान देते नजर आ रहे हैं। साथ ही, कार्रवाई की मांग की है।