Online Fraud With Collector’s Son : ऑनलाइन फ्रॉड करके गुना कलेक्टर के बेटे के खाते से 2.8 लाख उड़ाए!

704

Online Fraud With Collector’s Son : ऑनलाइन फ्रॉड करके गुना कलेक्टर के बेटे के खाते से 2.8 लाख उड़ाए!

जानिए, रिडीम पॉइंट कमाने के चक्कर में उनके साथ क्या हुआ!

Guna : यहां के कलेक्टर के बेटे के साथ करीब सवा महीने पहले 2.8 लाख का ऑनलाइन फ्रॉड हुआ। घटना 3 मई की है, पर उन्होंने 10 जून की रात कैंट थाने में घटना की शिकायत दर्ज कराई। कलेक्टर सत्येंद्र सिंह के बेटे प्रेमांशु ने दर्ज कराई अपनी शिकायत में बताया कि 3 मई को एक मोबाइल नंबर से एसबीआई रिवॉर्ड पॉइंट रिडीम करने के बारे में एक वेबलिंक आया। इस लिंक पर क्लिक करने पर ओटीपी आया। उन्होंने ओटीपी सबमिट किया तो उनके बैंक खाते से 50 हजार रुपए कट गए।

इसके बाद उन्हें एक फोन आया। फोन करने वाले ने एसबीआई कस्टमर केयर का एक्जीक्यूटिव बताया और कहाम कि गलत ओटीपी एंटर से पॉइंट रिडीम नहीं हो रहा है। इसके बाद उन्हें दो बार मोबाइल फोन पर ओटीपी भेजे गए। ये ओटीपी सबमिट किए तो खाते से दो बार में 98.5 हजार और 60 हजार रुपए कट गए। इसके बाद उन्हें समझ आया कि उनके साथ ऑनलाइन फ्रॉड हुआ है। प्रियांशु ने एसबीआई कस्टमर केयर पर अपने साथ हुए ईद ऑनलाइन फ्रॉड की शिकायत की। उन्होंने नेशनल साइबर क्राइम पोर्टल गवर्नमेंट ऑफ इंडिया पर भी शिकायत दर्ज करवाई।

पुलिस को की गई एफआईआर में उन्होंने बताया कि उन्हें रिवॉर्ड पॉइंट रिडीम करने के लिए वेब लिंक भेजी गई। जब इसे खोला गया तो स्टेट बैंक ऑफ इंडिया जैसा ही पेज खुला। उन्हें तीन बाद ओटीपी (वन टाइम पासवर्ड) भेजे गए। इन्हें एंटर करते ही अकाउंट से 3 बार में उनके बैंक खाते से 2.08 लाख रुपए गायब हो गए।

किस लालच में हुआ ये फ्रॉड

दरअसल, रिवॉर्ड पॉइंट क्रेडिट और डेबिट कार्ड का ज्यादा इस्तेमाल करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए बैंक करती है। जब कोई खाताधारी तय अंक जमा कर लेता हैं, तो उसे अलग से कुछ लाभ दिए जाते हैं। यही अंक रिडीम पॉइंट होते है। इसी रिडीम पॉइंट के चक्कर में प्रियांशु को 2 लाख 8 हजार का ऑनलाइन चूना लग गया।