Sanghvi’s in ​​ED Custody : छापे के बाद सुरेंद्र संघवी और प्रतीक संघवी हिरासत में!

दीपक मद्दा और मनीष शाहरा के यहां भी ED की टीम पहुंची!

669

Sanghvi’s in ​​ED Custody : छापे के बाद सुरेंद्र संघवी और प्रतीक संघवी हिरासत में!

Indore : जमीन कारोबारी सुरेंद्र संघवी और दीपक मद्दा उर्फ दीपक जैन उर्फ दिलीप सिसोदिया के घरों और दूसरे ठिकानों पर गुरुवार सुबह ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) ने छापामारी की। दोनों के घरों पर सुबह ईडी की टीम ने दबिश दी। यहां दस्तावेज खंगाले जाने की जानकारी मिली। कनाड़िया रोड स्थित संघवी के घर पर भोपाल और दिल्ली ईडी टीम के अधिकारी जांच में जुटे हैं। जानकारी के मुताबिक ED ने पूछताछ के बाद सुरेंद्र संघवी और प्रतीक संघवी को पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया है।

बताया गया कि यह छापा जिला प्रशासन ने फरवरी 2021 में भूमाफिया अभियान में कराई गई 6 एफआईआर को लेकर मारा है। इस मामले में शासन और जिला प्रशासन ने ईडी को जांच के लिए पत्र लिखे थे। ईडी ने इन मामलों की फाइल अपने पास बुलाई थी। इन दोनों के खिलाफ धोखाधड़ी की धाराओं में केस दर्ज है, जो ईडी की जांच शुरू करने के लिए अहम होती है। संघवी से हुए लेन-देन के चलते रुचि ग्रुप के प्रमुख व बिल्डर मनीष शाहरा के दफ्तर में भी ईडी के अधिकारी पहुंचे और उनसे लेन-देन का हिसाब मांगा और जानकारी लेकर चले गए। इसके बाद ही इस मामले में सुरेंद्र संघवी की गिरफ्तारी की भी संभावनाएं बन गई थी।

WhatsApp Image 2023 05 11 at 20.38.05

ईडी की इस कार्रवाई में मौके पर दर्जन भर अधिकारी मौजूद है। भोपाल की टीम का भी सहयोग लिया गया है। भोपाल से भी अधिकारी इसमें शामिल है। बताया जा रहा है कि असिस्टेंट डायरेक्टर व अन्य अधिकारी खुद मौके पर मौजूद है। पुलिस बल को भी साथ लिया गया। जमीन से जुड़े दस्तावेजों को खंगाला जा रहा है और इसकी जांच की जा रही है। संघवी जमानत पर हैं, तो दीपक मद्दा जेल में हैं। भूमाफिया अभियान के तहत सुरेंद्र संघवी के साथ प्रतीक संघवी, दीपक मद्दा पर अलग-अलग एफआईआर हुई थी। कई कंपनियों में संघवी परिवार और मद्दा व उनके परिवार के सदस्य डायरेक्टर बने हुए हैं और आपसी कारोबारी संबंध है।

इन्होंने कई सोसायटी की जमीन कौड़ियों के भाव खरीदी थी। सुरेंद्र संघवी इस मामले में कई दिनों तक भगोड़ा रहा और फिर हाईकोर्ट से जमानत हुई। दीपक मद्दा पर अभी तक 8 एफआईआर हो चुकी और एक बार रासुका भी लग चुकी है। अभी कल्पतरू जमीन घोटाले में वह जेल में ही है। करोड़ों के लेन-देन की लिंक तलाश रही ईडी इस मामले में जमीन घोटाले से कमाए गए करोड़ों रुपए की लिंक ट्रेस कर रही है, कि किसने कहां से रुपए लिए और किसे दिए।

इस लिंक के लिए ही दस्तावेजों की तलाश की जा रही है। ईडी की ताजा कार्रवाई जमीन के काले कारोबार से जुड़ी बताई जा रही है। इनमें से कुछ लोगों के नाम प्रशासन की भूमाफियाओं की सूची में भी शामिल रहे हैं। माना जा रहा है कि जमीन के खेल में काले धन की लिंक और मनी लांड्रिंग के सबूत मिलने पर ईडी ने कार्रवाई शुरू की है।