School Teacher Cut Hair Of 30 Students: बच्चे अपमानित महसूस कर नहीं आ रहे स्कूल

.

1070

School Teacher Cut Hair Of 30 Students: बच्चे अपमानित महसूस कर नहीं आ रहे स्कूल

आये दिन शिक्षकों पर छात्रों को लेकर कोई ना कोई नया बवाल होता रहता है ,शिक्षक भी अपने फ्रस्टेशन अनुशासन के नाम पर निकालते रहते है ,कल एक स्कूल में शिक्ष ने बच्चे को दूसरी मंजिल से नीचे फेंक दिया था होमवर्क ना करने पर .यदि इस तरह की घटनाएँ होती रहेंगी तो भविष्य में बच्चे स्कूल से कतराने लगेंगे .

असम के एक स्कूल की टीचर ने असेंबली में 30 से ज्यादा छात्रों के बाल काटे. (Representative Image:Canva)

गुवाहाटी: असम के माजुली जिले में एक स्कूल में अनुशासन के नाम पर कथित रूप से 30 छात्रों के बाल काटने का मामला सामने आया है। जिले के डिप्टी कमिश्नर ने मामले में जांच के आदेश दिए है। घटना सुबह की असेंबली के वक्त की है। स्कूल के अधिकारियों ने अपनी सफाई में कहा कि बच्चों ने अपने बाल लंबे रखे हुए थे जो कि स्कूल की गाइडलाइन के मुताबिक वर्जित नहीं है। स्कूल अधिकारियों ने कहा, ‘उन्हें कई बार हिदायत दी गई और पैरंट्स को भी सूचित किया गया था लेकिन कुछ नहीं हुआ। यह सिर्फ अनुशासन सिखाने का एक तरीका था।’

डिप्टी कमिश्नर उपायुक्त कावेरी बी सरमा ने शुक्रवार शाम को संबंधित अधिकारियों को मामले की जांच करने और तुरंत रिपोर्ट देने को कहा। उन्होंने एक अंग्रेजी समाचार पत्र को बताया, ‘शुरुआती जांच के मुताबिक, टीचर ने बालों को काटकर सिर्फ लंबाई कम की है। पूरी तरह काटा नहीं गया है। जैसा कि कुछ रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है।’

घटना के बाद, छात्र कक्षाओं में जाने से इनकार कर रहे हैं। एक छात्र के पैरंट्स ने बताया कि उनका बच्चा रोता हुआ घर आया और अब वह स्कूल जाने से मना कर रहा है। वह बेहद अपमानित महसूस कर रहा है।रंट्स का कहना है कि स्कूल को अनुशासन लागू करने की छूट है लेकिन साथ ही इसकी सीमाओं का भी ख्याल रखना चाहिए। असेंबली के दौरान पूरे स्कूल के सामने बाल काटना अपमानजनक है।

Teacher Throws Student Off Roof : होमवर्क ना करने पर शिक्षक ने छत से छात्र को फेंका