Shami’s Miracle : शमी का वो 33वां ओवर जहां से भारत की जीत की राह खुली!   

भारत को सेमीफाइनल में जाने का मौका 11 साल बाद मिला! 

251
Shami's Miracle

Shami’s Miracle : शमी का वो 33वां ओवर जहां से भारत की जीत की राह खुली!   

Mumbai : टीम इंडिया ने बुधवार को वानखेड़े स्टेडियम में जो किया वो किसी चमत्कार से कम नहीं रहा। 11 साल बाद करोड़ों भारतीयों को दिवाली का तोहफा देते हुए सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड को हराकर विश्व कप क्रिकेट के फाइनल में जगह बनाई। इससे पहले महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में 2011 में भारत में ही हुए विश्व कप के भारत ने फाइनल में प्रवेश किया था।

इसके बाद साल 2015 और 2019 के संस्करण में भारत का सफर सेमीफाइनल से आगे नहीं बढ़ सका। अगर भारत इस बार न्यूजीलैंड से बदला लेते हुए फाइनल का टिकट हासिल करने में सफल रहा, तो इसके पीछे सबसे बड़ी वजह बना एक टर्निंग प्वाइंट, जिसने मैच की दिशा बदल दी। करोड़ों भारतीयों को जिस बड़े टर्निंग प्वाइंट का इंतजार था, वह मोहम्मद शमी के 33 वें ओवर में आया।

शमी ने 181 रन की साझेदारी तोड़ते हुए तीन गेंदों में दो विकेट चटकाकर ऐसा टर्निंग प्वाइंट लाया कि न्यूजीलैंड दरक गया। एक छोर पर डारेल मिशेल जरूर पिच पर बने रहे, लेकिन दूसरे छोर पर कीवियों के विकेट गिरते रहे। मोहम्मद शमी ने मैच में सात विकेट लिए। मैच का सबसे बड़ा टर्निंग प्वाइंट रहा वो 33वां ओवर रहा, जिसने मैच पूरे को बदल दिया और भारत का रास्ता बनाया।

विलियमसन-मिचेल की जोड़ी जमी 

भारत ने पहले खेलते हुए 397 रन बनाए और कीवियों को जीत के लिए 398 रनों का लक्ष्य दिया। कीवी टीम ने 8 ओवर पूरा होने से पहले ही दो विकेट गंवा दिए। लेकिन, शतक बनाने वाले डारेल मिशेल और कप्तान केन विलियमसन (69) ने मिलकर दर्शक दीर्घा में बैठे हजारों भारतीय फैंस के चेहरे का रंग उड़ा दिया। इस बीच भारतीय खिलाड़ियों ने 2-3 आसान कैच छोड़कर कीवियों को जीवनदान भी दिए। इन दोनों बैट्समैन ने तीसरे विकेट के लिए 181 रन की साझेदारी की, तो मैच पर कीवियों की पकड़ बनने लगी थी। पर, उसके बाद जब शमी का जादू चला तो न्यूजीलैंड टीम बिखर गई।