शिवराज कैबिनेट की बैठक में कई अहम निर्णय लिए गए, अजा वर्ग के विद्यार्थियों के लिए सरकार का तोहफा

शिवराज कैबिनेट की बैठक में कई अहम निर्णय लिए गए, अजा वर्ग के विद्यार्थियों के लिए सरकार का तोहफा

मीडियावाला.इन। भोपाल| मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की अहम बैठक में कई महत्वपूर्ण फैसले लिए गए हैं| चुनाव से पहले हायर स्टडीज की तैयारी करने वाले अनुसूचित जाति वर्ग के विद्यार्थियों को सरकार ने बड़ा तोहफा दिया है,  राष्ट्रीय प्रतियोगी परीक्षाओं जेईई, नीट, क्लैट, एम्स, एनडीए की तैयारी के लिए दो साल की कोचिंग का खर्चा सरकार उठाएगी| इस प्रस्ताव पर कैबिनेट ने मंजूरी दी है| 

कैबिनेट बैठक में लिए गए फैसलों की जानकारी सरकार के प्रवक्ता और जनसम्पर्क मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने दी| कैबिनेट की बैठक में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि दी गई, मंत्री मिश्रा ने कहा अटल जी जिस भी पद पर रहे उस पद की शोभा बढ़ी है, अटल जी का निधन मप्र के लिए क्षति है|  बैठक में फैसला लिया गया है 31अगस्त को 493 करोड़ रु के तेंदूपत्ता बोनस वितरण का कार्यक्रम किया जाएगा| 25 अगस्त को भोपाल में सम्बल योजना का कार्यक्रम होगा| कैबिनेट ने चार सिंचाई परियोजना को प्रशासकीय मंजूरी दी है| संविदा शिक्षकों के अध्यापक संवर्ग में शामिल करने का फैसला कैबिनेट ने लिया है| 

इसके अलावा कैबिनेट ने उमरिया में स्टेडियम बनाने के लिये मंजूरी दी है, पंडित कुंजीलाल दुबे संसदीय विद्यापीठ के लिये पद स्वीकृत किये गए हैं| एसटी छात्रवृत्ति के लिए आय सीमा छह लाख की गई|  31अगस्त को तेंदूपत्ता बोनस वितरण का कार्यक्रम किया जाएगा, 493 करोड़ रु का बोनस बांटा जाएगा| इसी दिन मिल बांचे कार्यक्रम का आयोजन प्रदेश भर में होगा| एससी पोस्ट मीट्रिक छात्रवृत्ति योजना जारी रहेगी| 

अजा वर्ग के छात्रों को दो साल कोचिंग कराएगी सरकार 

अनुसूचित जाति वर्ग के छात्रों के लिए सरकार ने नई योजना शुरू की है| इस योजना के तहत राष्ट्रीय स्तर के प्रतिष्ठित संस्थानों, चिकित्सा महाविद्यायल, विधि महाविद्यालय और रक्षा अकादमी संस्थानों में प्रवेश के लिए तैयारी कर रहे अनुसूचित जाति वर्ग के प्रतिभागियों को दो साल की कोचिंग करवाएगी, इन संस्थानों में प्रतिभागियों की संख्या कम रहने के कारण सरकार यह कदम उठाया गया है| जिसमे 100 छात्र छात्राओं के दो बैच के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू किया जाएगा| इस योजना के अंतर्गत विद्यार्थियों को छात्रावास में आवास, भोजन और प्रतिष्ठित कॉचिंग संस्थानों में कोचिंग सुविधा उपलब्ध कराई जायेगी| चयनित प्रत्येक विद्यार्थी को सरकार 75 हजार रुपए कोचिंग शुल्क, 35 हजार रुपए शिक्षण शुल्क, आवास, परिवहन तथा भोजन का खर्च सरकार उठाएगी| आवास परिवहन और भोजन के लिए मुख्यालय पर ढाई हजार रुपए प्रतिमाह और मुख्यालय के बाहर के विद्यार्थियों के लिए पांच हजार रुपए प्रतिमाह स्टायपेंड भी दिया जाएगा|

0 comments      

Add Comment