Dewas MP: स्वास्थ्य सुविधाओं का बीमार सच 1 बार फिर उजागर, Road पर करवानी पड़ी Delivery

185
MP Delivery

कुं पुष्पराजसिंह की विशेष रिपोर्ट

Delivery on Road in Dewas MP

Bagli (Dewas) MP: मंगलवार को Dewas शहर में एक महिला की Delivery साड़ी की आड़ में करवाई गई। महिला ज़िला चिकित्सालय में भर्ती थी लेकिन उसे लेबर पेन नहीं हुआ। जिस पर उसका पति उसे घर लेकर जा रहा था लेकिन घर से कुछ देर पहले शहर के त्रिलोकनगर क्षेत्र में उसे लेबर पेन हुआ। महिला के पति ने आसपास की महिलाओं से मदद मांगी। महिलाओं ने सड़क पर साड़ी लपेटकर Delivery करवाने की तैयारी की। इसी दौरान क्षेत्र में टीकाकरण के लिए कार्य कर रही आंगनवाड़ी कार्यकर्ता दाई को साथ लेकर आई और सभी महिलाओं ने मिलकर Delivery करवाई।

Delivery हुए बिना दी छुट्टी 

जानकारी के अनुसार शिवनगर की रहने वाली पेपाबाई पति मुकेश शनिवार को जिला अस्पताल में भर्ती हुई थी। उसे लेबर पेन नहीं हो रहा था, इस पर अस्पताल स्टाफ ने कह दिया कि अभी Delivery का समय नहीं है। आप चाहो तो अभी घर लेकर चले जाओ। इसके बाद पेपाबाई अपने पति मुकेश के साथ सुबह छुट्‌टी करवाकर घर जाने लगी।

Also Read: https://mediawala.in/cm-shivraj-suspended-3-officers-from-the-stage-itself/

Delivery के लिए फिर उठा दर्द, ऐसे करवाई Delivery

घर से कुछ दूर पहले ही उसे दर्द शुरू हो गया। पति उसे वापस Hospital लेकर जाने के लिए मुड़ा, लेकिन उसकी हालत ऐसी नहीं थी कि Hospital तक पहुंच पाती। मुकेश ने त्रिलोकनगर की महिलाओं से मदद मांगी इसकी सूचना टीकाकरण का काम कर रही आंगनबाड़ी कार्यकर्ता कल्पना पवार को लगी, तो वह दाई के साथ आ गई और दाई, सहायिका व महिलाओं ने मिलकर Delivery करवाई। इसके बाद एंबुलेंस को बुलाकर आंगनवाड़ी कार्यकर्ता ने फिर जच्चा-बच्चा दोनों को Hospital भिजवाया।

मुकेश ने बताया कि पत्नी को अस्पताल में भर्ती करवाया था। उसे हल्का दर्द भी हो रहा था। पता चला कि अभी समय नहीं आया है, तो छुट्‌टी करवाकर घर ले जा रहा था। रास्ते में Delivery हुई।

Also Read: https://en.wikipedia.org/wiki/Healthcare_in_India

Delivery के बाद जच्चा-बच्चा स्वस्थ

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता कल्पना पवार ने बताया कि पेपाबाई दो दिन से अस्पताल में भर्ती थी। उसे आशा कार्यकर्ता ने भर्ती करवा दिया था। नवजात पूरी तरह स्वस्थ है। जिला अस्पताल सिविल सर्जन डॉ. विजयकुमार ने बताया कि ड्यूटी पर जो Doctor और नर्स रहते हैं, वही तय करते हैं कि Delivery में कितना समय बचा है। Patient को घर भेजना है या भर्ती करना है। उनसे बातचीत के आधार पर हम जांच करेंगे। अगर कोई दोषी पाया जाएगा, तो उसके खिलाफ उचित कार्रवाई की जाएगी।