फरवरी में होने जा रहे ये 5 बड़े बदलाव, आप पर कितना असर? जानिए

429

फरवरी में होने जा रहे ये 5 बड़े बदलाव, आप पर कितना असर? जानिए

बजट कल यानी एक फरवरी को पेश किया जाएगा. बजट पेश होने के बाद यह नए वित्त वर्ष एक अप्रैल 2023 से अमल में आएगा. बजट के सारे नियम कायदे एक अप्रैल से ही लागू होंगे, लेकिन अगले महीने यानी फरवरी में ही हमें कई बदलावों से गुजरना पड़ सकता है.

बैंक समेत सरकार से जुड़े ऐसे कई फैसले हैं जो नौकरीपेशा लोगों पर फरवरी के शुरुआती हफ्ते से ही असर डालना शुरू कर देंगे. ऐसे में कुछ काम आपको जरूर कर लेना चाहिए.

अगर आपने ने अपनी टैक्स प्लानिंग की शुरुआत नहीं की है तो इसे शुरू करना आपके लिए बेहद जरूरी है. ऐसा इसलिए क्योंकि वित्तीय वर्ष के अंत 31 मार्च से बस दो महीने ही दूर हैं. टैक्स प्लानिंग हमेशा आपके वित्तीय वर्ष में अभ्यास का हिस्सा होना चाहिए. अपने फाइनेंशियल टारगेट को ध्यान में रखते हुए पूरी समझदारी के साथ निवेश करें.

टैक्स सेविंग की प्लानिंग और निवेश पर विचार

इसके लिए आप सार्वजनिक भविष्य निधि (पीपीएफ), राष्ट्रीय पेंशन योजना (एनपीएस), सुकन्या समृद्धि योजना (एसएसवाई), इक्विटी से जुड़ी बचत योजना (ईएलएसएस) में मासिक एसआईपी, कर्मचारी शामिल हो सकते हैं। भविष्य निधि (ईपीएफ) या जीवन बीमा प्रीमियम में शामिल हो सकते हैं. इसके जरिए आप अपने टैक्स को बचा सकते हैं और उसका उपयोग इन जगहों पर कर सकते हैं.

8 फरवरी को होनी है बड़ी घोषणा

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) की ओर से 8 फरवरी को अगली मौद्रिक नीति की घोषणा की जानी है. मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) ने 2022 में रेपो दर को 225 आधार अंकों से बढ़ाकर 6.25 प्रतिशत कर दिया था. बढ़ाने के पीछे लगातार दरों में बढ़ोतरी बढ़ती महंगाई को नियंत्रित करना बताया गया था. अर्थशास्त्रियों को उम्मीद है कि आरबीआई अपनी फरवरी की नीति में रेपो दर में 25 या 35 आधार अंकों की और बढ़ोतरी कर सकता है.

T+2 की ओर बढ़ेंगी एसेट मैनेजमेंट कंपनियां

एसेट मैनेजमेंट कंपनियां 1 फरवरी से T+2 की ओर बढ़ेंगी. जिसका मतलब है कि म्यूचुअल फंड्स के निवेशकों को अब कोई भी फंड खरीदने में अब केवल दो दिन का ही समय लगेगा. इसके जरिए म्यूचुअल फंड को खरीदना और बेचना पहले की तुलना में थोड़ा आसान हो जाएगा. इसके साथ-साथ पैसे भी पहले की तुलना में लोगों के खाते में जल्दी आ जाएंगे.

इस बैक के कार्ड का बढ़ जाएगा चार्ज

केनरा बैंक 13 फरवरी से डेबिट कार्ड पर लगने वाले सर्विस चार्ज को बढ़ाने जा रहा है. बैंक अपने क्लासिक डेबिट कार्ड पर लगने वाले सालाना चार्ज को 125 रुपए से बढ़ाकर 200 रुपए करने जा रहा है. इसी तरह से प्लेटिनम और बिजननेस कार्ड पर लगने वाले सालाना चार्ज को क्रमश: 250 से 500 और 300 रुपए करने जा रहा है. हालांकि, कुछ कार्ड पर लगने वाले 1000 रुपए का चार्ज जस का तस रहेगा. ऐसे में बजट के अलावा यह भी चीजें आपको इफेक्ट कर सकती हैं.

HDFC मिलेनिया क्रेडिट कार्ड की शर्तों किया संशोधन

एचडीएफसी बैंक अपने मिलेनिया क्रेडिट कार्ड पर रिवॉर्ड रिडेम्पशन की शर्तों में संशोधन किया है. एक फरवरी से कार्ड होल्डर कुछ चुनिंदे प्रोडक्ट पर अपने क्रेडिट कार्ड के रिवार्ड प्वाइंट के 70 फीसदी हिस्से का भुगतान कर सकते हैं. साथ ही, कैशबैक के लिए रिवॉर्ड पॉइंट रिडेम्पशन प्रति कैलेंडर माह 3,000 रिवॉर्ड पॉइंट तक सीमित है.