अनूठी सर्वधर्म सद्भाव की मिसाल!

एक ही मंडप में पंडितों ने मंत्र पढ़ कराए सात फेरे तो मौलाना ने पढ़ाया कबूलनामा! - हिंदू समाज के 45 जोड़े और मुस्लिम समाज के 29 जोड़ों ने की नए जीवन की शुरुआत!

713

अनूठी सर्वधर्म सद्भाव की मिसाल!

Ratlam : रविवार को शहर के फोरलेन के पास खाराखेड़ी पर एक ही छत के नीचे अनूठी सर्वधर्म सद्भाव की मिसाल देखने को मिली। अनूठा नजारा यह था खाराखेड़ी क्षेत्र स्थित हजरत दादा गैब शाह वली रहमतुल्लाह अलैह (झाड़ी वाले बाबा) दरगाह परिसर का। जहां एक ही मंडप के नीचे हिंदू समाज के 45 जोड़े ने मंत्रों के बीच अग्नि के सात फेरे लिए तो मुस्लिम समाज के 29 जोड़ों ने मौलाना से कबूलनामा पढ़वाकर कुबूल हैं, कुबूल है कहकर नए जीवन की शुरुआत की।

IMG 20240526 WA0044

उक्त भव्य और अनूठा कार्यक्रम ओवेस मेटल एंड मिनरल प्रोसेसिंग लिमिटेड कंपनी द्वारा आयोजित किया गया। कंपनी के सैयद ओवेस अली और सैयद मुर्तूजा अली ने बताया कि वृहद स्तर पर निशुल्क सर्वधर्म सामूहिक विवाह और उर्स समारोह में सर्वधर्म समाज ने उत्साह से हिस्सा लिया।

IMG 20240526 WA0045

कार्यक्रम में ग्रामीण विधायक मुथरालाल डाबर, भारतीय जनता युवा मोर्चा जिलाध्यक्ष विप्लव जैन, भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष राजेंद्र सिंह लुनेरा, भाजपा नेता सूरज जाट, शहर कांग्रेस के कार्यवाहक अध्यक्ष फैय्याज मंसूरी, समाजसेवी चंदू भंडारी, सुरेश कटारिया सहित मध्य प्रदेश, राजस्थान और गुजरात के अलग-अलग राष्ट्रीय पार्टी के जनप्रतिनिधि भी बड़ी संख्या में शामिल हुए। अतिथियों ने सर्वधर्म सद्भाव की मिसाल अंतर्गत 74 वर-वधुओं को मंच के माध्यम से आर्शीवचन दिए।

IMG 20240526 WA0042

ओवेस मेटल एंड मिनरल प्रोसेसिंग लिमिटेड कंपनी के डायरेक्टर विनोद बाफना और भरत राठौड़ ने बताया कि रविवार को आयोजित वृहद कार्यक्रम में रतलाम जिले के अलावा मंदसौर, धार, नीमच सहित राजस्थान के बांसवाड़ा, निम्बाहेड़ा आदि स्थानों के 74 जोड़ों ने दांपत्य जीवन में कदम रखा। पांडाल में युवक-युवतियां दूल्हा-दुल्हन की पौशाखों में नजर आई। कार्यक्रम की शुरुआत रविवार सुबह 9 बजे हजरत दादा गैब शाह वली रहमतुल्लाह अलैह (झाड़ी वाले बाबा) दरगाह पर परचम कुशाई (चादर पेश) के साथ उर्स की शुरुआत की गई। इस दौरान ओवेस मेटल एंड मिनरल प्रोसेसिंग लिमिटेड कंपनी की और से विवाह के दौरान वधुओं को आशीर्वाद स्वरूप चांदी की पायजेब, आलमारी, बिस्तर पेटी, बिस्तर और गृहस्थी का सामान भी भेंटकर विदाई दी। आयोजन समिति के सैयद मोहब्बत अली, सैयद अफसार अली, शाहीद अली, मुनफ्पत अली, मोहम्मद मियां और फिरोज भाई सहित अन्य सदस्यों ने पूरे समय वर-वधू के पक्षों की ओर से आए मेहमानों का ख्याल रखने और उनकी खिदमतगारी में जुटे रहें।

 

*दूल्हा-दुल्हन के अलावा परिजन भी थे उत्साहित!*

बता दें कि दरगाह परिसर को मंडप के तौर पर पिछले 15 दिनों से तैयार किया जा रहा था। ओवेस मेटल एंड मिनरल प्रोसेसिंग लिमिटेड कंपनी ने क्षेत्र में बड़े-बड़े डॉम और शामियाना के अलावा दूल्हा और दुल्हन के साथ आने वालों की खिदमत्गारी के अलावा उत्साह पूर्वक स्वागत और सत्कार किया। डॉम में बड़े-बड़े कूलर जहां शीतल हवा दे रहें थे, वहीं वेटर सभी को पानी पिलाने की व्यवस्था संभाले हुए थे। समारोह में पुख्ता बंदोबस्त और तैयारियों को देखकर दूल्हा-दुल्हन के अलावा परिजन में काफी उत्साह देखा गया। हिंदू रिती-रिवाज से विवाह पंडित संजय शिवशंकर दवे की मौजूदगी में पंडितों द्वारा कराया गया। सर्वधर्म सामूहिक विवाह समारोह के दौरान शुद्ध शाकाहारी विशाल भंडारे में वर-वधुओं के अलावा बड़ी संख्या में मेहमानों ने भोजन गृहण किया।