Tuesday, October 23, 2018

Blog

हेमंत पाल

तीन दशक से ज्यादा समय से पत्रकारिता में संलग्न। नवभारत, नईदुनिया (इंदौर, भोपाल) और जनसत्ता (मुंबई) में कार्य किया। नईदुनिया में लम्बे समय तक चुनाव डेस्क प्रभारी। राजनीतिक और फिल्म और टीवी पत्रकारिता में परीचित नाम। देशभर के अखबारों और पत्रिकाओं में लेखन। राजनीतिक और फिल्म स्तंभकार। फिलहाल 'सुबह सवेरे' के इंदौर संस्करण में स्थानीय संपादक।


संपर्क : 9755499919

भाजपा की गलतियाँ ही कांग्रेस को सत्ता का मौका देगी! 

भाजपा की गलतियाँ ही कांग्रेस को सत्ता का मौका देगी! 

विधानसभा चुनाव की दुंदुभि बज चुकी है। मध्यप्रदेश के दो परंपरागत राजनीतिक प्रतिद्वंदी फिर आमने-सामने हैं। एक के पास डेढ़ दशक की सत्ता की ताकत है, तो दूसरे के पास प्रतिद्वंदी की खामियों की फेहरिस्त! इस चुनाव में...

ये हैं फ़िल्मी दुनिया के कुछ अच्छे चेहरे! 

ये हैं फ़िल्मी दुनिया के कुछ अच्छे चेहरे! 

सिनेमा की दुनिया पर अकसर तोहमत लगाई जाती है, कि यहाँ के स्वार्थी होते हैं। कोई किसी का साथ नहीं देता और चढ़ते सूरज का तिलक किया जाता है। कुछ मामलों में ये बात सही भी है! पर,...

कांग्रेस की राजनीति में दिग्विजयी धमाके की गूंज!   

कांग्रेस की राजनीति में दिग्विजयी धमाके की गूंज!   

मध्यप्रदेश में सियासी माहौल गरमा रहा है। पार्टियों में सही उम्मीदवार के लिए बार-बार पत्ते फैंटे जा रहे हैं। चुनाव की घोषणा के बाद से ही कांग्रेस और भाजपा के अलावा समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, सपाक्स, जयस...

रिटायर्ड नहीं, युवा जोश से भरी अनुभवी और युवा लोगों की पार्टी है 'सपाक्स'

रिटायर्ड नहीं, युवा जोश से भरी अनुभवी और युवा लोगों की पार्टी है 'सपाक्स'

मध्यप्रदेश में सपाक्स पार्टी के बढ़ते प्रभाव को कम करने के लिए प्रतिद्वंदी पार्टियां ये प्रचारित करने में लगी हैं कि ये रिटायर्ड लोगों का संगठन है। इस पार्टी में ज्यादातर वे सरकारी अफसर हैं, जो नौकरी के बाद...

बदलते दौर का अक्स है, ये नया सिनेमा

बदलते दौर का अक्स है, ये नया सिनेमा

बदलते हुए दौर में यदि सबसे पहले कहीं बदलाव देखना हो, तो सिनेमा में देखिए! ज़माने को तो बदलने में बरसों लग जाते हैं, पर सिनेमा का चेहरा चंद दिनों में अपने आपको बदल लेता है। एक ढर्रे पर...

इस बार कुछ अलग ही मूड में है,मालवा निमाड़ की राजनीति

इस बार कुछ अलग ही मूड में है,मालवा निमाड़ की राजनीति

मीडियावाला.इन।  मालवा-निमाड़ का राजनीतिक मूड मध्यप्रदेश राजनीति का संकेत देता है। ये वो इलाका है, जहाँ के बारे में कहा जाता है कि जो भी पार्टी यहाँ आगे रहती है, वही प्रदेश में सरकार बनाती है। ये इलाका...

ये है नायिका का नया ताना-बाना  

ये है नायिका का नया ताना-बाना  

पुरानी फिल्म 'खानदान' में एक गीत था 'तुम्हीं मेरे मंदिर, तुम्हीं मेरी पूजा, तुम ही देवता हो!' ये गीत सुनील दत्त और नूतन पर फिल्माया गया था। वास्तव में ये गीत पत्नी का पति के प्रति अगाध प्रेम...

मायावती और कांग्रेस के रिश्तों में दरार चुनाव में असर दिखाएगी!

मायावती और कांग्रेस के रिश्तों में दरार चुनाव में असर दिखाएगी!

मध्यप्रदेश में कांग्रेस को जो उम्मीद नहीं थी, वो हो गया। बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती ने कांग्रेस से चार महीने से चल रही बातचीत तोड़कर 22 सीटों पर अपने उम्मीदवार घोषित कर दिए। अब उनका एलान...

कांग्रेसी क्षत्रपों में खींचतान, भाजपा की चाल तो नहीं?

कांग्रेसी क्षत्रपों में खींचतान, भाजपा की चाल तो नहीं?

कांग्रेस और गुटबाजी मध्यप्रदेश में एक दूसरे पूरक हैं! जब भी कांग्रेस अपने चिर प्रतिद्वंदी भाजपा के खिलाफ कमर कसने की तैयारी करती थी, पार्टी तीन हिस्सों में बंटकर अपने-अपने सेनापतियों के पीछे खड़ी हो जाती थी। कांग्रेस के...

बॉलीवुड के तो बस एक ही बप्पा

बॉलीवुड के तो बस एक ही बप्पा

इन दिनों पूरे देश में गणेशोत्सव मनाया जा रहा है। लेकिन, मुंबई और बॉलीवुड में गणेशजी का ज्यादा ही महत्व है। सामाजिक समरसता के मकसद से मनाए जाने वाले इस पर्व ने न केवल समाज में अपनी छाप छोड़ी, बल्कि...

'सपाक्स' की आहट से बदलती चुनावी राजनीति!

'सपाक्स' की आहट से बदलती चुनावी राजनीति!

दो साल पहले मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने पदोन्नति में आरक्षण के लिए बनाए कानून एवं नियमों को असंवैधानिक मानते हुए इसे निरस्त कर दिया था। इस निर्णय के खिलाफ प्रदेश सरकार के सुप्रीम कोर्ट में जाने से गैर-आरक्षित वर्ग के...

सोशल मीडिया ही तय करेगा, इस बार चुनाव नतीजे

सोशल मीडिया ही तय करेगा, इस बार चुनाव नतीजे

सोशल मीडिया ने राजनीतिक पार्टियों और नेताओं की परंपरागत पहचान और लोकप्रियता को पूरी तरह बदल दिया। हैशटैग-वॉर राजनीति का नया अखाड़ा बन गया। नेताओं और लोगों के बीच संचार में सोशल मीडिया असरदार माध्यम बन गया! इससे...

किस अखाड़े गढ़ी जा रही, भाजपा की अगली पीढ़ी! 

किस अखाड़े गढ़ी जा रही, भाजपा की अगली पीढ़ी! 

भोपाल में हुई भाजपा की राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा था कि अगले विधानसभा और लोकसभा चुनाव में भाजपा वंशवाद के आधार पर नहीं, बल्कि योग्यता के आधार पर उम्मीदवारों का...

विधानसभा चुनाव नहीं, ये भाजपा की अग्नि परीक्षा होगी!

विधानसभा चुनाव नहीं, ये भाजपा की अग्नि परीक्षा होगी!

इस बार का विधानसभा चुनाव कई मामलों में पिछले तीन चुनाव से अलग होगा! सबसे बड़ी अग्निपरीक्षा भारतीय जनता पार्टी के लिए होगी, जिसे मतदाताओं के सामने साबित करना होगा कि उसकी सरकार हर मोर्चे पर खरी उतरी...

मध्यप्रदेश में कांग्रेस को फ़ायदा देगा, छोटी पार्टियों का साथ!

मध्यप्रदेश में कांग्रेस को फ़ायदा देगा, छोटी पार्टियों का साथ!

कांग्रेस इस बार विधानसभा चुनाव में पूरा दम लगाकर भाजपा को सत्ता से बेदखल करने का कोई मौका छोड़ना चाहती! लेकिन, क्या वो अकेले दम पर ऐसा कर सकेगी? सवाल का जवाब 'हाँ' में नहीं ढूंढा जा सकता!...

ये चुनाव नहीं, छवियों का संघर्ष होगा!

ये चुनाव नहीं, छवियों का संघर्ष होगा!

मीडियावाला.इन। मध्यप्रदेश में चुनावी रंग अपना असर दिखाने लगा है। ख़बरों में राजनीति, बातचीत राजनीति और व्यवहार में भी राजनीति नजर आने लगी! जहाँ भी चर्चा के ठीये दिखाई देते हैं, विषय राजनीति ही होता है। लेकिन, मुद्दा...

घातक साबित न हो, कांग्रेस का अति-आत्मविश्वास!

घातक साबित न हो, कांग्रेस का अति-आत्मविश्वास!

मध्यप्रदेश में कांग्रेस इन दिनों अति-आत्मविश्वास से चूर नजर आ रही है। कांग्रेस के नेताओं की भाव-भंगिमाएं, बोल व्यवहार से लगाकर चेहरे के हाव-भाव दर्शा रहे हैं कि सत्ता के दरवाजे उनके लिए खुल गए! चुनाव तो बस उस...

दिग्विजय सिंह की 'पंगत' से पार्टी में 'संगत' भाव!

दिग्विजय सिंह की 'पंगत' से पार्टी में 'संगत' भाव!

दरअसल, 'पंगत में संगत' का फार्मूला मूलतः दिग्विजय सिंह का नहीं है। ये सिखों के महान गुरुओं की शिक्षा का हिस्सा है। उन्होंने ही बताया था कि इंसानियत के सिद्धांतों के मुताबिक संगत से ही बिना किसी धर्म,...

बंद तिजोरी है मध्यप्रदेश के 30 लाख नए मतदाता!  

बंद तिजोरी है मध्यप्रदेश के 30 लाख नए मतदाता!  

मीडियावाला.इन।     मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव की बिसात बिछ चुकी है। मतदाताओं को अपने पक्ष में करने के दांव-पेंच चले जाने लगे हैं। राजनीतिक पार्टियों का सबसे ज्यादा ध्यान उन युवा मतदाताओं पर है, जिनकी...

मध्यप्रदेश में भी इस बार भाजपा के सामने साझा विपक्ष?

मीडियावाला.इन। प्रदेश में लगातार तीन चुनाव जीतकर सत्ता पर काबिज भारतीय जनता पार्टी इस बार भी चुनाव में जीत का चौका लगाने का कोई मौका नहीं छोड़ना चाहती! जबकि, कांग्रेस इस बार पूरा दम लगाकर भाजपा को सत्ता से...