Sunday, April 21, 2019

Blog

हेमंत पाल

तीन दशक से ज्यादा समय से पत्रकारिता में संलग्न। नवभारत, नईदुनिया (इंदौर, भोपाल) और जनसत्ता (मुंबई) में कार्य किया। नईदुनिया में लम्बे समय तक चुनाव डेस्क प्रभारी। राजनीतिक और फिल्म और टीवी पत्रकारिता में परीचित नाम। देशभर के अखबारों और पत्रिकाओं में लेखन। राजनीतिक और फिल्म स्तंभकार। फिलहाल 'सुबह सवेरे' के इंदौर संस्करण में स्थानीय संपादक।


संपर्क : 9755499919

भाजपा और कांग्रेस दोनों को सेबोटेज का खतरा!

भाजपा और कांग्रेस दोनों को सेबोटेज का खतरा!

पश्चिम मध्यप्रदेश की मालवा-निमाड़ इलाके की 8 लोकसभा सीटों के लिए दोनों पार्टियों के अधिकांश उम्मीदवार घोषित हो गए! लेकिन, पर कांग्रेस और भाजपा दोनों के लिए जीत गले में फँसी हड्डी की तरह हैं! उम्मीदवारों को देखकर...

कांग्रेस को कहीं महँगी न पड़ जाए रियासतों की सियासत!

कांग्रेस को कहीं महँगी न पड़ जाए रियासतों की सियासत!

मीडियावाला.इन।सियासत में रियासतों का दखल आज भी कायम है। रियासतें चली गई, पर उनकी जगह सियासतों ने ली ली! वही अंदाज और वही ठसका कायम है! पर, इसका नतीजा भुगतना पड़ रहा है लोकतांत्रिक व्यवस्था और राजनीतिक पार्टियों...

आखिर खुल ही गई 'ताई' के पल्लू से इंदौर की चाभी!

आखिर खुल ही गई 'ताई' के पल्लू से इंदौर की चाभी!

मीडियावाला.इन। ये आशंका सही साबित हुई कि भारतीय जनता पार्टी ने इस बार इंदौर लोकसभा सीट से सुमित्रा महाजन 'ताई' को उम्मीदवार नहीं बनाएगी! पार्टी ने ये फैसला काफी पहले कर लिया था! इस राज को...

भाजपा के कितने टिकिट कटेंगे और कितने बचेंगे?

भाजपा के कितने टिकिट कटेंगे और कितने बचेंगे?

मीडियावाला.इन।  भाजपा को यदि मध्यप्रदेश की 29 लोकसभा सीटों पर अच्छा प्रदर्शन करना है, तो उसे आरएसएस की सर्वे रिपोर्ट को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए, जैसा कि उसने विधानसभा चुनाव के समय किया था! ऐसा किया गया...

'ताई' की उम्मीदवारी पर छाये संदेह के बादल! 

'ताई' की उम्मीदवारी पर छाये संदेह के बादल! 

अभी इस सवाल का जवाब दावे से नहीं दिया जा सकता कि भारतीय जनता पार्टी 'ताई' यानी सुमित्रा महाजन को 9वीं बार इंदौर से उम्मीदवार बनाएगी या नहीं! पार्टी ने उम्मीदवारों की कई लिस्ट जारी कर दी, पर...

भाजपा के पास मालवा-निमाड़ में जिताऊ चेहरे नहीं बचे!

भाजपा के पास मालवा-निमाड़ में जिताऊ चेहरे नहीं बचे!

मध्यप्रदेश की राजनीति में टोटका है कि जिस पार्टी की स्थिति मालवा-निमाड़ में अच्छी होती है, वही सरकार बनाती है! विधानसभा चुनाव में तो ये कई बार साबित भी हो चुका है! पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा ने...

सत्ता खोने की पीड़ा और भाजपा का आर्तनाद! 

सत्ता खोने की पीड़ा और भाजपा का आर्तनाद! 

जब से मध्यप्रदेश में कांग्रेस की कमलनाथ सरकार बनी है, भाजपा की रातों की नींद हराम है! छोटे कार्यकर्ता से लगाकर डेढ़ दशक तक सरकार चलाकर फुर्सत हुए शिवराजसिंह चौहान तक को हार पच नहीं रही! जिस दिन...

भाजपा को सत्ता में लाने के लिए संघ की कवायद!

भाजपा को सत्ता में लाने के लिए संघ की कवायद!

मीडियावाला.इन। मध्यप्रदेश के मालवा-निमाड़ के बारे में राजनीतिक जुमला है कि सत्ता की तिजोरी का ताला यहीं से खुलता है। ये इलाका संघ का गढ़ रहा है। लेकिन, इस बार विधानसभा चुनाव में सब उलट गया। 15 साल...

कमलनाथ की कार्यशैली:सख्त फैसले और सबको साथ लेकर चलने का अंदाज़

मीडियावाला.इन मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार को दो महीने हो गए! इन दौरान बहुत कुछ घट गया। सरकार के अंदर भी और बाहर भी! बहुमत के किनारे पर बैठी सरकार को गिराने के बहुत...

'ताई' की नौवीं दावेदारी पर 'भाई' का भी दावा!    

'ताई' की नौवीं दावेदारी पर 'भाई' का भी दावा!    

30 सालों में हुए 8 लोकसभा चुनाव में प्रदेश की सबसे सुरक्षित सीटों में एक इंदौर सीट भी रही है। यहाँ की सांसद सुमित्रा महाजन (ताई) ही इस बार चुनाव लड़ेंगी या फिर किसी नए चेहरे को मौका दिया जाएगा,...

भाजपा के कई दिग्गजों की सीट खतरे में

मीडियावाला.इन। कांग्रेस को मध्यप्रदेश के विधानसभा चुनाव में जो सफलता मिली, उससे भाजपा की 12 लोकसभा सीटों पर भी सीधा असर पड़ा! इनमें से 8 पर तो कांग्रेस को काफी ज्यादा वोट मिले हैं! जबकि,...

भाजपा की आँख में खटकने लगे शिवराज?

भाजपा की आँख में खटकने लगे शिवराज?

शिवराजसिंह चौहान इन दिनों परेशान हैं। क्योंकि, वे जो भी कदम उठाते हैं, वो उल्टा पड़ जाता है। विधानसभा चुनाव में हार के बाद जो हालात बने हैं, वो शिवराजसिंह के लिए रास नहीं आ रहे! भाजपा की...

हार के कारणों को भाजपा अपनी चुनाव रणनीति में ही टटोले! 

हार के कारणों को भाजपा अपनी चुनाव रणनीति में ही टटोले! 

विधानसभा चुनाव के बाद भारतीय जनता पार्टी में नीम सन्नाटा है। शिवराजसिंह चौहान के अलावा कोई नेता ज्यादा बोल नहीं रहा! लेकिन, ये सन्नाटा सतही है। क्योंकि, जो शांति दिखाई दे रही है, वो ऊपरी है! पार्टी के...

सूदखोरों का ब्याज मरने पर मजबूर करता है किसानों को!

सूदखोरों का ब्याज मरने पर मजबूर करता है किसानों को!

मध्यप्रदेश की नई कमलनाथ सरकार ने अपना चुनावी वादा पूरा करते हुए किसानों के 2 लाख तक का कर्ज माफ़ कर दिया। ये अलग बात है कि इस घोषणा से कितने किसानों का कर्ज माफ़ हुआ और किसे...

दो चेहरे, दो फ़िल्में और असली राजनीति

दो चेहरे, दो फ़िल्में और असली राजनीति

सिनेमा की दुनिया हमेशा ही राजनीति से बचकर चलती है। क्योंकि, सिनेमा का मकसद सिर्फ लोगों का मनोरंजन होता है। लेकिन, इसे संयोग माना जाना चाहिए कि आने वाले दिनों में दो ऐसी फ़िल्में रिलीज हो रही है,...

दिग्विजय ‘इफेक्ट’ से प्रभावित है, कमलनाथ मंत्रिमंडल!... 

दिग्विजय ‘इफेक्ट’ से प्रभावित है, कमलनाथ मंत्रिमंडल!... 

मध्यप्रदेश की राजनीति का एक नया अध्याय शुरू हो गया। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपनी सरकार की टीम बनाकर प्रदेश के सामने रख दी। 28 सदस्यों की इस टीम में जातीय, क्षेत्र और अनुभव के साथ सबसे ज्यादा गुटों...

भाजपा की हार की कहानी मालवा-निमाड़ ने लिखी!

भाजपा की हार की कहानी मालवा-निमाड़ ने लिखी!

मध्यप्रदेश में हुए विधानसभा चुनावों में कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है, लेकिन इतनी बड़ी भी नहीं कि बहुमत जुटा ले! उसने अपने 4 बागी, जो निर्दलीय चुनाव जीते उनके अलावा बसपा और सपा विधायकों के सहयोग...

बदलाव का बड़ा कारण बनी दिग्विजय की नर्मदा यात्रा!

बदलाव का बड़ा कारण बनी दिग्विजय की नर्मदा यात्रा!

मीडियावाला.इन। सारे अनुमानों को झुठलाते हुए कांग्रेस ने मध्यप्रदेश में सरकार बना ली। डेढ़ दशक तक सरकार चलाने के बाद भी भाजपा को गद्दी छोड़ना ही पड़ी। राजनीति को समझने वाले कुछ जानकारों के अनुमान सही निकले, कुछ...

इंदौर के खामोश मतदाता के फैसले का अनुमान लगाइए!

इंदौर के खामोश मतदाता के फैसले का अनुमान लगाइए!

विधानसभा चुनाव का मतदान होने के बाद अब इस बात लगाए जा रहे हैं कि किस सीट पर किसका पलड़ा भारी है और क्यों? लोगों की बातचीत का विषय इस बात पर केंद्रित हो गया है कि इंदौर...

भाजपा में क्या नाराज नेताओं को मनाने वाले नहीं बचे?

भाजपा में क्या नाराज नेताओं को मनाने वाले नहीं बचे?

इस बार का विधानसभा चुनाव कई मामलों में कुछ अलग है। कांग्रेस और भाजपा दोनों ही पार्टियों में टिकट के लालायित नेताओं की संख्या इतनी ज्यादा रही कि स्थिति बगावत तक पहुँच गई! भाजपा ने 53 बागी उम्मीदवारों...