Monday, March 25, 2019
भगोरिया एक उत्सव है जो होली का ही एक रूप है।

भगोरिया एक उत्सव है जो होली का ही एक रूप है।

भगोरिया एक उत्सव है जो होली का ही एक रूप है। यह मध्य प्रदेश के मालवा अंचल (धार, झाबुआ, खरगोन आदि) के आदिवासी इलाकों में बेहद धूमधाम से मनाया जाता है। भगोरिया केसमय धार, झाबुआ, खरगोन आदि क्षेत्रों के हाट-बाजार मेले का रूप ले लेते हैं और हर तरफ फागुन और प्यार का रंग बिखरा नजर आता है।

पूर्व में यह माना जाता था कि "भगोरिया हाट-बाजारों में युवक-युवती बेहद सजधज कर अपने भावी जीवनसाथी को ढूँढने आते हैं। इनमें आपसी रजामंदी जाहिर करने का तरीका भी बेहद निराला होता है। सबसे पहले लड़का लड़की को पान खाने के लिए देता है। यदि लड़की पान खा ले तो हाँ समझी जाती है। इसके बाद लड़का लड़की को लेकर भगोरिया हाट से भाग जाता है और दोनों विवाह कर लेते हैं। इसी तरह यदि लड़का लड़की के गाल पर गुलाबी रंग लगा दे और जवाब में लड़की भी लड़के के गाल पर गुलाबी रंग मल दे तो भी रिश्ता तय माना जाता है।"

यह प्रणय पर्व नहीं हैं इतिहास 

भगोरिया पर लिखी कुछ किताबों के अनुसार भगोरिया राजा भोज के समय लगने वाले हाटों को कहा जाता था। इस समय दो भील राजाओं कासूमार औऱ बालून ने अपनी राजधानी भागोर में विशाल मेले औऱ हाट का आयोजन करना शुरू किया। धीरे-धीरे आस-पास के भील राजाओं ने भी इन्हीं का अनुसरण करना शुरू किया जिससे हाट और मेलों को भगोरिया कहना शुरू हुआ। वहीं दूसरी ओर कुछ लोगों का मानना है क्योंकि इन मेलों में युवक-युवतियाँ अपनी मर्जी से भागकर शादी करते हैं इसलिए इसे भगोरिया कहा जाता है।

आनंद एवं उल्लास का पर्व-भगोरिया

होलिका दहन से ठीक एक सप्ताह पूर्व इस संभाग के आदिवासी अंचल में आनंद एवं उल्लास का प्रतीक बनकर भगोरिया पर्व आता है। होली की मस्ती व प्रकृति के इस दौरान बदलते स्वभाव के कारण भगोरिया और ज्यादा मादक भी बन जाता है । पलास फूलों से लद जाते हैं व महुआ झरने लगता है। रबी व खरीफ दोनों ही फसलों के साथ कृषि सत्र पूरा हो जाता है।

भगोरिया का कोई अधिकृत इतिहास नहीं है। बीती सदी के भगोरियों को सामने रखें तो इसमें तीन बड़े परिवर्तन हुए हैं। आरंभ में ये भगोरिया पुरूषार्थ प्रधान हुआ करते थे । शादी-ब्याह में जिस तरह शक्ति व पुरूषार्थ का प्रतीक तलवार लेकर दुल्हा-दुल्हन को ब्याहने जाता है। वे जिसे अब समाज केवल ब्याह की परंपरा भर मानता है। ये तलवारें व शस्त्र भगोरिए के अभिन्न अंग हुआ करते थे । होलिका दहन से एक सप्ताह पूर्व तब के नायक राजाओं के राज में सैनिक के रूप में तैनात आदिवासी अपनी पसंद को अधिकारपूर्वक व राजाश्रय में प्राप्त कर लेते थे । तब इसका स्वरूप लगभग स्वयंवर जैसा था । साहस, वीरता, पुरूषार्थ तब भगोरिये की मुख्य पहचान हुआ करते थे। अंग्रेजी साम्राज्य के साए में पनपी देशी रियासतों के दौर में भगोरिये में एक और बड़ा परिवर्तन हुआ । यह पर्व पुरूषार्थ से प्रणय पर्व में बदला। एक तरुण चाहत का स्थान दोनों की सहमति ने लिया । केवल लड़के की पसंद के स्थान पर लड़का-लड़की दोनों की सहमति भगोरिए की पहचान बनी। भगोरिए के इस स्वरूप ने महिला की महत्ता को आदिवासी जीवन में रेखांकित किया । यह वह दौर था जब आदिवासी समाज में वधू मूल्य की परम्परा स्थापित हो चुकी थी। जो व्यक्ति वधू का अधिक मूल्य देता था वह दुल्हन प्राप्त कर लेता था । कमजोर माली हालत वाले युवकों व अपनी पसंद का इजहार कर सकने वाली युवतियों के लिये भगोरिए का प्रणय - जीवन की मनपसंद राह बनकर आया।

वर्तमान के आदिवासी युवा वर्ग में तेजी से शिक्षा व समझ का संचार हुआ है। उसके स्वप्नों ने भगोरिए से इत्तर भी सोचना शुरू किया है । वह नहीं चाहता की उसकी जीवन संगिनी बाजार में बिकने या दिखने वाली खूबसूरती भर हो। अब वह अपनी जीवनसाथी भगोरिए मेलों में नहीं तलाशता । अब वह भगोरिए का उपयोग अपने मन को आनंदित करने के लिये करता है। वह खूब संजता संवरता है। कहीं भी हो वहां से अपने भगोरिए में लौटता है। खूब ढोल बजाता है। बाँसूरी मादल बजाता है। नाचता गाता है। अपनी कमाई का बड़ा हिस्सा भगोरिए पर व्यय करता है वह भगोरिये का मुस्तैदी से इंतजार करता है परंतु उसे अपने प्रणय या जीवन का स्थाई हिस्सा नहीं बनाता है। दरअसल बदल चुके संदर्भों में भगोरिया एक बाजार बन चुका है। भगोरिया अब हाट नहीं रहा वह भगोरिया मेला बन चुका है। पर्व से हाट व हाट से मेले तक के सफर में भगोरिए का मूल रंग जिसे आनंद ही कहा जा सकता है, अब तक अक्षुण्य है। यह वह आनंद है जो प्रकृति की गोद में अपने शाश्वत रूप में खिलखिलाता है । एक पुरूष व एक स्त्री के बीच कोमलता का जो शाश्वत रिश्ता है उसका बिना लाग लपेट प्रतिनिधित्व करता है। यही वजह है कि विकसित दुनिया के लिये भी भगोरिया आकर्षण का केन्द्र है। क्योंकि भगोरिए में अब भी इतनी उर्जा है कि वह किसी को भी सहजता से मन के अंदर तक की आनंदमयी यात्रा करवा देता है।

कहा तो यह भी जाता कि भगोरिया भव अर्थात भगवान शंकर व गौरी अर्थात पार्वती के अनूठे विवाह की याद में उस विवाह की तर्ज पर भवगौरी अर्थात भगोरिया नाम से अब तक मनाया जाता है। भगवान शंकर का पुरूषार्थ व प्रणय ही इसी कारण से इसके मुख्य अवयव भी रहे हैं। बहरहाल आदिम संस्कृति की उम्र वे तेवर से जुड़े होने के कारण भगोरिया आदिवासी वर्ग की महत्वपूर्ण धरोहर है । इसे उतनी ही पवित्रता से देखा व स्वीकार किया जाना चाहिए। जिस पवित्रता के साथ किसी भी संस्कृति का वर्तमान अपने अतीत को स्वीकार करता है। इसी में भगोरिए के हर स्वरूप की सार्थकता भी है।

 

भगोरिया वर्ष 2019 
आलीराजपुर जिले के भगोरिया पर्व
14 मार्च गुरूवार : फुलमाल, सोंडवा, जोबट,
15
मार्च शुक्रवार : कठ्ठीवाड़ा, वालपुर, उदयगढ़,
16
मार्च शनिवार : नानपुर, उमराली,
17
मार्च रविवार : छकतला, सोरवा, आमखूंट, झीरण, कनवाड़ा और कुलवट
18 मार्च सोमवार : आलीराजपुर, आजादनगर, बडागुड़ा
19 मार्च मंगलवार : बखतगढ़, आम्बुआ,
20
मार्च बुधवार : चांदपुर, बरझर, बोरी, खट्टाली,

 

 

 

 

 

 

 

0 comments      

Add Comment


अनिल तंवर

विगत 45 वर्षों से आदिवासी अंचल के रीति रिवाज, जीवनशैली , त्योहार , मान्यताओं , लोककला का सजीव

छायांकन में रत .स्थानीय भीली बोली और क्षेत्र की भौगोलिक स्थिति की पूर्ण जानकारी तथा अंचल के रहवासियों

से जीवंत सम्पर्क.

देश विदेश की विभिन्न फोटोग्राफी प्रतियोगिताओं से अवार्ड और सम्मान प्राप्त

क्षेत्र के आदिवासियों की सभी गतिविधियों से सम्बन्धित स्वंय लिए गए लगभग 3 लाख छायाचित्रों का विशाल

संग्रहण

विभिन्न पत्र, पत्रिकाओं में आदिवासियों की ज्वलंत समस्याओं पर 250 से अधिक लेखों के प्रकाशन से उनकी

अनेक समस्या का निराकरण

क्षेत्र में पर्यावरण जागरूकता के विस्तार में सहभागी और आदिवासियों को लगभग 1000 पौधों का नि:शुल्क वितरण