Monday, September 23, 2019
सरकार की पाक-दुविधा

सरकार की पाक-दुविधा

mediawala.in

भारत सरकार की यह दुविधा मेरी समझ के बाहर है। एक तरफ उसने पाकिस्तान को सबक सिखाने की ठान रखी है और दूसरी तरफ उसकी छोटी-सी कृपा पाने के लिए ववह गिड़गिड़ा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को 13-14 जून को शांघाई सहयोग संगठन की बैठक में भाग लेने जाना है। वे पाकिस्तान की हवाई सीमा में से उड़कर किरगिजिस्तान की राजधानी बिश्केक जाएंगे तो यह सफर चार घंटे में तय होगा और पाकिस्तान ने इजाजत नहीं दी तो उनका जहाज चक्कर लगाकर वहां आठ घंटे में पहुंचेगा। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भी 21 मई को बिश्केक जाते हुए पाकिस्तान की इजाजत मांगी थी और पाकिस्तान ने उन पर मेहरबानी करके इजाजत दे दी थी। इमरान खान अब मोदी पर भी यह मेहरबानी कर देंगे, ऐसी आशा मुझे हैं। मैं पूछता हूं कि इस मेहरबानी की आपको जरुरत क्या है ? आपके चार या आठ घंटे क्या इतने महत्वपूर्ण हैं कि आप अपना आत्म-सम्मान भी खो दें ? अकेले एयर इंडिया ने अप्रैल-मई महिने में पाकिस्तान की इस रास्ताबंदी के कारण 300 करोड़ रु. का नुकसान उठाया। पेट्रोल, रखरखाव व अन्य खर्चों में बढ़ोतरी हो गई। यह तो सिर्फ एक हवाई कंपनी का एक माह का घाटा है। यदि सभी कंपनियों का घाटा जोड़ा जाए तो यह हजारों करोड़ बैठेगा। इससे भी ज्यादा चिंता की बात हमारे किसानों की है। पाकिस्तान को बेचा जानेवाला खेती का माल हमारे बाजारों में सड़ रहा है। पाकिस्तान को हमारा 92 प्रतिशत निर्यात घट गया है। महाराष्ट्र में अंगूर 40 रु. किलो से घटकर 18 रु. किलो में बिक रहा है। 27 फरवरी को बालाकोट हुआ। हुआ सो हो गया। दोनों देशों का नाम मात्र का नुकसान हुआ। अब उसके बहाने हवाई मार्ग और व्यापार बंद करके ज्यादा नुकसान करने पर दोनों देशों के नेता क्यों आमादा हैं ? भारत और पाकिस्तान, दोनों को चाहिए कि वे अपना दिमाग ठंडा करें और अपने आपसी संबंधों को सहज बनाएं।  इस समय पाकिस्तान गहरी मुश्किलों में घिरा हुआ है। इसके बावजूद वह भारत के आगे घुटने नहीं टेकेगा। भारत भी बड़प्पन दिखाए और उसकी मजबूरी समझे। उसकी इस उदारता का असर वहां की फौज पर पड़े या न पड़े, पाकिस्तान के लोगों और नेताओं पर उसका असर पड़े बिना नहीं रहेगा। 

0 comments      

Add Comment


डॉ. वेदप्रताप वैदिक

  • डॉ॰ वेद प्रताप वैदिक (जन्म: 30 दिसम्बर 1944, इंदौर, मध्य प्रदेश) भारतवर्ष के वरिष्ठ पत्रकार, राजनैतिक विश्लेषक, पटु वक्ता एवं हिन्दी प्रेमी हैं। हिन्दी को भारत और विश्व मंच पर स्थापित करने की दिशा में सदा प्रयत्नशील रहते हैं। भाषा के सवाल पर स्वामी दयानन्द सरस्वती, महात्मा गांधी और डॉ॰ राममनोहर लोहिया की परम्परा को आगे बढ़ाने वालों में डॉ॰ वैदिक का नाम अग्रणी है।
  • वैदिक जी अनेक भारतीय व विदेशी शोध-संस्थानों एवं विश्वविद्यालयों में ‘विजिटिंग प्रोफेसर’ रहे हैं। भारतीय विदेश नीति के चिन्तन और संचालन में उनकी भूमिका उल्लेखनीय है। अपने पूरे जीवन काल में उन्होंने लगभग 80 देशों की यात्रायें की हैं।
  • अंग्रेजी पत्रकारिता के मुकाबले हिन्दी में बेहतर पत्रकारिता का युग आरम्भ करने वालों में डॉ॰ वैदिक का नाम अग्रणी है। उन्होंने सन् 1958 से ही पत्रकारिता प्रारम्भ कर दी थी। नवभारत टाइम्स में पहले सह सम्पादक, बाद में विचार विभाग के सम्पादक भी रहे। उन्होंने हिन्दी समाचार एजेन्सी भाषा के संस्थापक सम्पादक के रूप में एक दशक तक प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया में काम किया। सम्प्रति भारतीय भाषा सम्मेलन के अध्यक्ष तथा नेटजाल डाट काम के सम्पादकीय निदेशक हैं।