Blog

राकेश अचल

राकेश अचल ग्वालियर - चंबल क्षेत्र के वरिष्ठ और जाने माने पत्रकार है। वर्तमान वे फ्री लांस पत्रकार है। वे आज तक के ग्वालियर के रिपोर्टर रहे है।

IPS सचिन की सही जगह पुलिस ट्रेनिंग स्कूल

IPS सचिन की सही जगह पुलिस ट्रेनिंग स्कूल

मीडियावाला.इन। भारतीय पुलिस सेवा के 2007 बैच के अफसर सचिन अतुलकर MP पुलिस में मख्खियां मार रहे हैं. वे जाने माने बॉडी बिल्डर हैं। इन दिनों ग्वालियर रेंज में डीआईजी पद पर हैं। इस पद के लायक चूंकि कोई...

व्यवस्था बड़ी या नेतागीरी ?

व्यवस्था बड़ी या नेतागीरी ?

मीडियावाला.इन। सवाल बड़ा है ,लेकिन छोटे स्तर से उठाया जा रहा है.संयोग से ऐसे बड़े सवाल छोटे स्तर से ही किये जाने चाहिए किन्तु स्थानीय स्तर की विवशताएँ ऐसे सवाल करने की इजाजत नहीं देतीं और इसका खमियाजा पूरे...

बाइडन दृष्टि बनाम बाइडन पैकेज

बाइडन दृष्टि बनाम बाइडन पैकेज

मीडियावाला.इन। 'पैकेज ' का मतलब समझने में मुझे एक उम्र लग गयी .झूठ बोलना राजनीतिक कलाबाजी है लेकिन मै एकदम सफेद सच बोल रहा हूँ.मै पैकेज के बारे में कुछ साल पहले ही जान पाया.हमारे जमाने में ' पैकेज...

कोरोना से लड़िये,पुलिस से नहीं

कोरोना से लड़िये,पुलिस से नहीं

मीडियावाला.इन। देश में कोरोना की दूसरी लहर से निबटने के लिए लगाए जा रहे प्रतिबंध अवाम को पसंद नहीं है . जनता कोरोना  से निबटने के लिए किये गए इंतजामों को लागू करने के लिए सड़कों पर उतरी पुलिस से...

बेदम और अपमानित होती विधानसभाएं

बेदम और अपमानित होती विधानसभाएं

मीडियावाला.इन। आज आपको एक के साथ एक खबर यानि दो खबरें एक साथ पढ़ना होंगी. ये दोनों खबरें देश में लोकतंत्र के भावी चेहरे की झलक देने वाली हैं. पहली खबर बिहार की है.यहां की विधानसभा में पुलिस ने विधायकों...

परमवीर की भीरुता या बहादुरी

परमवीर की भीरुता या बहादुरी

मीडियावाला.इन। भारतीय पुलिस सेवा के 1988  बैच के अफसर परमवीर सिंह ने महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख पर प्रतिमाह सौ करोड़ की उगाही मांगने के आरोप  लगाकर बहादुरी का प्रदर्शन किया है या भीरुता का ये कहना न बहुत...

खुश होने के लिए चलो फिनलैंड चलें

खुश होने के लिए चलो फिनलैंड चलें

मीडियावाला.इन। खुश होइए  कि  हम खुश होने के मामले में हम एक छोटे से देश फिनलैंड से 138  पायदान पीछे है .फिनलैंड भारत के मुकाबले एक बहुत छोटा देश है ,भारत में फिनलैंड के बराबर के अनेक शहर हैं.अकेली...

धरती के हर कोने में लगता है ' डर '

धरती के हर कोने में लगता है ' डर '

मीडियावाला.इन। ' डर ' के बारे में कहा जाता है कि डर होता नहीं है ,उसे पैदा किया जाता है.मुझे भी लगता है कि डर एक उत्पाद की तरह है ,जिसे अलग-अलग तरीके से ,अलग-अलग रूप में पैदा किया...

हमारे शहर बिगाड़ू नेता

हमारे शहर बिगाड़ू नेता

मीडियावाला.इन। शहरों की शक्ल-सूरत बिगाड़ने वालों के साथ खड़े होने वाले नेताओं को आप क्या कहेंगे ?मै तो उन्हें सड़क बिगाड़ू नेता ही कहूंगा. ग्वालियर हाल ही में 'ईज आफ लिविंग ' के मामले में 34 वे नंबर पर...

सड़क किनारे से हटिये भगवान जी

सड़क किनारे से हटिये भगवान जी

मीडियावाला.इन। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के इस फैसले से गदगद हूँ कि अब पूरे उत्तर प्रदेश में सड़क किनारे से सभी पूजा स्थलों को हटाया जाएगा .हिन्दुस्तान में केवल उत्तर प्रदेश ही नहीं अपितु सड़क किनारे के पूजा...

अवसरवादिता: राजनीति का मूलमंत्र

अवसरवादिता: राजनीति का मूलमंत्र

मीडियावाला.इन। राजनीति का मूल मन्त्र आखिर क्या है, अवसरवादिता या देशभक्ति-जनसेवा? आप कहेंगे कि देशभक्ति-जनसेवा तो पुलिस का ध्येय वाक्य है, ये राजनीति का मूलमंत्र कैसे हो सकता है? यदि आप यही कह रहे हैं तो आप...

शर्म आती है मगर आज ये कहना होगा,हाँ ! हम ग्वालियर वाले फिसड्डी हैं

शर्म आती है मगर आज ये कहना होगा,हाँ ! हम ग्वालियर वाले फिसड्डी हैं

मीडियावाला.इन। मुझे सच लिखने में कभी शर्म महसूस नहीं हुई ,मुझे पता है कि सच का स्वाद मीठा नहीं कसैला होता है .मै जिस शहर में आधी सदी से रह रहा हूँ उस शहर के किसी प्रतियोगिता में फिसड्डी  रहने...

चौरसिया से भाईजान तक कांग्रेस

चौरसिया से भाईजान तक कांग्रेस

मीडियावाला.इन। कांग्रेस बुरी तरह से गफलत में है. कांग्रेस को नहीं पता कि  वो किसके साथ रहे या किसका विरोध करे.? मध्यप्रदेश में महात्मा गांधी की हत्या के आरोपी नाथूराम गोडसे की प्रतिमा को माल्यार्पण करने वाले पूर्व पार्षद बाबूलाल...

मोदी टीकाकरण: महाजनो येन गत: स पंथ:

मोदी टीकाकरण: महाजनो येन गत: स पंथ:

मीडियावाला.इन। आज सचमुच मेरी खुशी का कोई ठिकाना नहीं है. हमारे परम लोकप्रिय  प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने आज कोरोना का टीका लगवाकर अपनी  ही पार्टी के उन नेताओं के दुष्प्रचार को गलत साबित कर दिया है...

फास्टैग के साथ इंडिया

फास्टैग के साथ इंडिया

मीडियावाला.इन। आपकी हार्डन पर शकंजा लगातार कसता जा रहा है. आज से पूरे भारत में राष्ट्रीय राजमार्गों का इस्तेमाल करने वाले लगभग सभी वाहन धारकों को फास्टैग लगाकर ही सफर करना पडेगा .फास्टैग लगाकर वाहन स्वामियों को जितना लाभ...

Traffic Warden बनकर क्या करेंगे सिंधिया जी ?

Traffic Warden बनकर क्या करेंगे सिंधिया जी ?

मीडियावाला.इन। राज्य सभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया संवेदनशील व्यक्ति हैं शायद इसीलिए वे अपने गृहनगर ग्वालियर के बिगड़े यातायात को सुधारने के लिए ' ट्रेफिक वार्डन ' बनने को तैयार हैं .उनकी मंशा स्वागत योग्य और अनुकरणीय है लेकिन सवाल...

पीछा करते सपनों की दुनिया

पीछा करते सपनों की दुनिया

मीडियावाला.इन। आज कुछ भी विवादास्पद नहीं लिखना चाहता .आज उन सपनों के बारे में लिख रहा हूँ जो आप,हम ,सब देखते हैं .सपनों की अपनी भाषा होती है.बहुत कम सपने होते हैं जो याद रह जाते हैं. जब हम...

ग्वालियर-चंबल में एकछत्र की होड़- सिंधिया बनाम तोमर

ग्वालियर-चंबल में एकछत्र की होड़- सिंधिया बनाम तोमर

मीडियावाला.इन। मध्यप्रदेश की राजनीति में साल भर पहले सुर्ख़ियों में आये ज्योतिरादित्य सिंधिया और केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के बीच परदे के पीछे से एक होड़ शुरू हो गयी है. ये होड़ है इस अंचल...

दिल्ली के बहाने चौरा-चौरी की याद

दिल्ली के बहाने चौरा-चौरी की याद

मीडियावाला.इन। दिल्ली में अविकल चल रहे किसान आंदोलन के दौरान ही महात्मा गाँधी के नेतृत्व में हुए चौरा-चौरी आंदोलन के भी ९८ साल पूरे हो गए हैं .इस लिहाज से दिल्ली का मौजूदा आंदोलन चौरा-चौरी के आंदोलन से भी...

' ट्रेक्टर-डेमोक्रेसी ' के मायने

' ट्रेक्टर-डेमोक्रेसी ' के मायने

मीडियावाला.इन। भारत के इतिहास में आज एक नया अध्याय जुड़ गया.आप इसे ' ट्रेक्टर -डेमोक्रेसी ' के नाम से पहचान सकते हैं. आजादी से पहले और आजादी के बाद भारत के किसानों के प्रतिरोध का ये सबसे बड़ा उदाहरण...