CM Chauhan’s Statement: MP में 150 अफसरों पर अभियोजन की स्वीकृति जल्द

बेईमान और भ्रष्टाचारी नहीं बचेंगे-CM

465
(Samras Panchayats

CM Chauhan’s Statement: MP में 150 अफसरों पर अभियोजन की स्वीकृति जल्द

 

भोपाल : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश में करप्ट अफसरों पर कार्यवाही के मामले में कहा है कि वे विधानसभा को आश्वस्त करना चाहते हैं कि बेईमानी और भ्रष्टाचार करने वाला कोई नहीं बचेगा। जीरो टॉलरेंस की नीति ही रहेगी। हम लगातार कार्यवाही करेंगे। विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष डॉ गोविन्द सिंह और विधायकों के सवालों के जवाब देते हुए सीएम चौहान ने कहा कि अफसरों के विरुद्ध अभियोजन की स्वीकृति अभी 70 की अनुमति जारी की गई है। 150 प्रकरणों में अनुमति जारी करने की तैयारी हो रही है। कहीं-कहीं विधिक दिक्कतें होती हैं उनमें थोड़ा बहुत समय लगता है। विधि विभाग का अलग-अलग अभिमत होता है और फिर वह एक अलग समिति में आता है।

रोजगार की स्थिति की साफ
सदन में राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा के बाद जवाब देते हुए सीएम चौहान ने प्रदेश में रोजगार देने की जानकारी देते हुए कहा कि पटवारी 7000, शिक्षक 15700, उपयंत्री 2600, पेरा मेडिकल नर्सिंग स्टाफ 6500, फारेस्ट गार्ड, जेल वार्डन 2200, सहायक ग्रेड-3 स्टेनो 2700, पुलिस कांस्टेबिल 7500 की भर्ती हो चुकी है। 15 अगस्त तक 1 लाख से ज्यादा पदों पर भर्ती हो जाएगी, प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी। हम लगातार काम करने का प्रयास कर रहे हैं।

गोविन्द सिंह पर तंज
सीएम चौहान ने नेता प्रतिपक्ष गोविन्द सिंह पर तंज कसते हुए कहा कि मैं हमेशा से यह मानता रहा हूँ कि हमारे नेता प्रतिपक्ष गोविन्द सिंह कभी असत्य भाषण नहीं करते लेकिन मंगलवार का उनका भाषण पूरा असत्य का पुलिन्दा ही है।

कांग्रेस सरकार में ऐसे किया प्रताड़ित
सीएम चौहान ने कहा कि 15 महीने की सरकार में मंत्री नरोत्तम मिश्रा के आसपास के 18 लोग जेल में थे। खानदान के खानदान का तबादला कर दिया था। पार्षद मीणा की 60 दुकानें बुलडोजर चलाकर तोड़ दी गईं। राजू मीणा इछावर के मंडल अध्यक्ष के स्कूल पर बुलडोजर चलाया गया। मंत्री भूपेन्द्र सिंह की होटल नापी गई। पूर्व मंत्री संजय पाठक उस जमाने में कैसे निकले थे, यह मैं जानता हूँ।

सीएम चौहान ने कहा कि प्रदेश में माफियाओं पर बुलडोजर चलेंगे, दुराचारियों पर बुलडोजर चलेंगे। गुण्डागर्दी करने वालों पर बुलडोजर चलेंगे। उन्होंने राजनीति में कमर के नीचे वार किए जाने पर आपत्ति करते हुए कहा कि क्या मयार्दाएं और शालीनता की सारी सीमाएं तोड़ी जाएंगी।