Intranasal Corona Vaccine : पहली स्वदेशी कोविड नेजल वैक्सीन 26 जनवरी को लांच! 

जानिए, किन अस्पतालों में यह उपलब्ध होगी और क्या होगी इसकी कीमत!

276

Intranasal Corona Vaccine : पहली स्वदेशी कोविड नेजल वैक्सीन 26 जनवरी को लांच! 

New Delhi :  भारत बायोटेक की देश में ही विकसित पहला इंट्रानेजल कोविड-19 टीका ‘इनकोवैक’ 26 जनवरी को लांच किया जाएगा। लोगों को इसकी खुराक देने के साथ इसकी शुरुआत होगी। कंपनी के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक कृष्णा इल्ला ने यह जानकारी दी। कोरोना ने दुनिया में जो तबाही मचाई, उसके बाद कोरोना के खिलाफ वैक्सीन को सबसे अहम हथियार माना गया है।

नाक के जरिए दी जाने वाली भारत बायोटेक की इंट्रानेजल कोरोना वैक्सीन INCOVACC की कीमत तय कर दी गई है। सरकार के अनुसार प्राइवेट अस्पतालों में इसकी एक डोज की कीमत 800 रुपए होगी। 5% जीएसटी भी देना होगा। निजी अस्पतालों को एक डोज के लिए 150 रुपए का एडमिनिस्ट्रेटिव चार्ज लगाने की भी मंजूरी है। इस प्रकार इस वैक्सीन की एक खुराक की कीमत फिलहाल लगभग 1000 रुपए होगी। वहीं सरकारी अस्पतालों में इस वैक्सीन की कीमत 325 रुपए होगी।

केंद्रीय विज्ञान-प्रौद्योगिकी मंत्रालय के सहयोग से तैयार देश की पहली इंट्रानेजल कोविड वैक्सीन विश्व की पहली नाक से दी जानी वाली वैक्सीन है। मंत्रालय के जैव प्रौद्योगिकी विभाग (DBT) और इसके लोक उपक्रम, जैव प्रौद्योगिकी उद्योग अनुसंधान सहायता परिषद (बाईरैक–बीआईआरएसी) ने भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड (BBIL) के साथ मिलकर विश्व का यह पहला इंट्रानेजल वैक्सीन तैयार करने में अपना योगदान दिया है।

केंद्र सरकार ने 23 दिसंबर 2022 को भारत बायोटेक की नेजल वैक्सीन को मंजूरी दी थी। यह वैक्सीन बूस्टर डोज के तौर पर लग सकेगी। नेजल वैक्सीन शुरुआत में प्राइवेट अस्पतालों में लग सकेगी। इस वैक्सीन को सरकार ने भारत के कोविड 19 वैक्सीनेशन प्रोग्राम में भी शामिल किया है। इससे पहले भारत के औषधि महानियंत्रक डीसीजीआई ने भारत बायोटेक की इंट्रा नेजल कोविड वैक्सीन को आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दी थी।

इस नेजल स्प्रे वैक्सीन को नाक के जरिए दी जाती है। यह नाक के अंदरूनी हिस्सों में इम्यून तैयार करती है। अंदरूनी हिस्सों में इम्यूनिटी तैयार होने से ऐसे बीमारियों को रोकने में ज्यादा असरदार साबित होती है, जो हवा के जरिए फैलती हैं। नेजल वैक्सीन के एक्सपर्ट का कहना है कि अन्य वैक्सीनों की तुलना में नेजल वैक्सीन बेहतर और कारगर साबित होगी। इसकी दो खुराक दी जाती हैं।

कौन लगवा सकते हैं वैक्सीन

यह वैक्सीन अभी 18 साल या उससे ज्यादा उम्र के लोगों को ही लगाई जाएगी। इसे बूस्टर डोज के तौर पर लगाया जाएगा। जो लोग दो डोज लगवा चुके हैं, वे ही ये वैक्सीन लगवा सकते हैं। हालांकि, इसे प्राइमरी वैक्सीन की मंजूरी भी मिली है। यानी, अगर कोई भी वैक्सीन नहीं ली है, तो भी इसे लगवा सकते हैं।