Kissa-A-IAS: Ritika Jindal: विपरीत परिस्थितियों में 22 की उम्र में ऐसे बनी IAS 

828

Kissa-A-IAS: Ritika Jindal: विपरीत परिस्थितियों में 22 की उम्र में ऐसे बनी IAS 

यूपीएससी की परीक्षा में सफल होने और अधिकारी बनने के उद्देश्य से हर साल लाखों युवा यूपीएससी परीक्षा में शामिल होते हैं। लेकिन, उन लाखों में से केवल कुछ 800 से 1000 उम्मीदवार ही इस परीक्षा को पास कर अधिकारी बन पाते हैं। पंजाब के मोगा की रहने वाली रितिका जिंदल ऐसी ही है, जिन्होंने अपने जीवन में कई कठिनाइयों का सामना किया। इसके बावजूद परीक्षा पास कर ऑल इंडिया 88 रैंक हासिल करने में सफल रहीं।

IMG 20240602 WA0049

रितिका जिंदल ने मोगा से ही अपनी स्कूली शिक्षा पूरी की। वे कक्षा 12 वीं की नॉर्थ इंडिया टॉपर रही। उसके बाद रितिका जिंदल ने दिल्ली के श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स से ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की.यहां भी उन्होंने पूरे कॉलेज में 95% अंकों के साथ तीसरा स्थान हासिल किया था।

IMG 20240602 WA0048

सबके जीवन में कोई न कोई परेशानी होती है, लेकिन उन परेशानियों से कैसे लड़ता है, उसी से उसका भविष्य तय होता है। इस बात की मिसाल है रितिका जिंदल। पंजाब के मोगा की रहने वाली रितिका ने पहली बार यूपीएससी की परीक्षा दी, तब उनके पिता को मुंह का कैंसर था। उनके दूसरे प्रयास के समय उनके पिताजी फेफड़ों के कैंसर से पीड़ित थे और बाद में उनका निधन हो गया। इन सभी परेशानियों के बाद भी रितिका अपने लक्ष्य पर फोकस करती रहीं और सबसे कम उम्र (22) में IAS बनी।

IMG 20240602 WA0046

पंजाब की होने के कारण उन्होंने बचपन से लाला लाजपत राय और भगत सिंह जी की कहानियां पढ़ी सुनी, जिनसे वे बहुत प्रभावित हुईं। उनके मन में बचपन से ही समाज और देश के लिए कुछ करने का भाव था। 12वीं कक्षा में उन्होंने सीबीएसई में टॉप किया। उसके बाद रितिका के टीचर्स ने उन्हें मेडिकल की पढ़ाई करने की सलाह दी। लेकिन, वे IAS अधिकारी बनना चाहती थी और एमबीबीएस की डिग्री 5 साल की होती है। ऐसे में उन्होंने बीकॉम करने का निर्णय लिया और श्रीराम कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स में एडमिशन लिया। ग्रेजुएशन में उन्होंने 95% के साथ तीसरा स्थान प्राप्त किया।

IMG 20240602 WA0047

रितिका जिंदल बचपन से ही IAS अधिकारी बनना चाहती थीं। उन्होंने अपने कॉलेज के दिनों में ही यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी थी। ग्रेजुएशन के बाद, रितिका जिंदल यूपीएससी परीक्षा में पहली बार शामिल हुई। वे पहले प्रयास में तीनों चरणों को पास करने में सफल रहीं। लेकिन रितिका जिंदल फाइनल लिस्ट में कुछ अंकों से पीछे रह गईं। हालांकि, उन्होंने उम्मीद नहीं खोई और फिर से यूपीएससी परीक्षा में बैठने का फैसला किया। उन्होंने 2018 में अपने दूसरे प्रयास में यूपीएससी परीक्षा पास की और ऑल इंडिया 88वीं रैंक हासिल करने में कामयाब रहीं।

IMG 20240602 WA0050

जब रितिका ने आईएएस की तैयारी शुरू की, उस समय उनके पिता को मुंह का कैंसर था। उन्हें हर बार इलाज के लिए लुधियाना ले जाना पड़ता था। उस समय भी रितिका ने यूपीएससी के तीनों चरणों को पास कर लिया, लेकिन फाइनल लिस्ट में उनके कुछ नंबर कम रह गए। ऐसे में वे या तो अपनी असफलता पर अफसोस कर सकती थी या फिर से बाउंस बैक करती। उन्होंने दोबारा तैयारी शुरू कर दी। जब वे दूसरा प्रयास दे रही थी, तब उनके पिता फेफड़ों के कैंसर से पीड़ित थे। रितिका कहती हैं कि उन्हें उनके पिता से बहुत प्रेरणा मिली। दूसरे प्रयास में सफल होने की सूचना रितिका के पिता को मिली, तो वो उनके लिए बहुत गर्व का दिन था।

2018 में रितिका 22 साल की उम्र में 88 वीं रैंक हासिल कर सबसे कम उम्र की IAS अधिकारी बनी।

आईएएस की ट्रेनिंग के दौरान रितिका के माता-पिता की मृत्यु कैंसर के कारण हो गयी थी। आज रितिका हिमाचल के मंडी में एसडीएम के पद पर कार्यरत हैं। रितिका ने अपने जीवन में आई सभी परेशानियों का सामना करते हुए अपने लक्ष्य को हासिल किया और आज वे करोड़ों लोगों के लिए प्रेरणास्त्रोत बन गयी हैं।

रितिका से हमें यह प्रेरणा मिलती है कि जब हम लक्ष्य पर फोकस कर लें, तो सभी परेशानियों का सामना करते हुए भी हम अपने जीवन में सफल हो सकते हैं।

Author profile
Suresh Tiwari
सुरेश तिवारी

MEDIAWALA न्यूज़ पोर्टल के प्रधान संपादक सुरेश तिवारी मीडिया के क्षेत्र में जाना पहचाना नाम है। वे मध्यप्रदेश् शासन के पूर्व जनसंपर्क संचालक और मध्यप्रदेश माध्यम के पूर्व एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर रहने के साथ ही एक कुशल प्रशासनिक अधिकारी और प्रखर मीडिया पर्सन हैं। जनसंपर्क विभाग के कार्यकाल के दौरान श्री तिवारी ने जहां समकालीन पत्रकारों से प्रगाढ़ आत्मीय रिश्ते बनाकर सकारात्मक पत्रकारिता के क्षेत्र में महती भूमिका निभाई, वहीं नए पत्रकारों को तैयार कर उन्हें तराशने का काम भी किया। mediawala.in वैसे तो प्रदेश, देश और अंतरराष्ट्रीय स्तर की खबरों को तेज गति से प्रस्तुत करती है लेकिन मुख्य फोकस पॉलिटिक्स और ब्यूरोक्रेसी की खबरों पर होता है। मीडियावाला पोर्टल पिछले सालों में सोशल मीडिया के क्षेत्र में न सिर्फ मध्यप्रदेश वरन देश में अपनी विशेष पहचान बनाने में कामयाब रहा है।