Marriage Became an Example : DC हेफ्शिबा और IAS उज्जवल की शादी बनी मिसाल

दफ्तर में बंटी मिठाई और अफसरों को परोसा गया सादा लंच

1381

Udipi (AP) : यहाँ की उपायुक्त (DC) हेफ्शिबा रानी कोरलापति ने पिछले दिनों हुबली में एक बेहद सादे समारोह में वैवाहिक जीवन में प्रवेश किया। उन्होंने IAS उज्ज्वल कुमार घोष से शादी की, जो बागलकोट में आयुक्त भूमि अधिग्रहण, पुनर्वास, ऊपरी कृष्णा परियोजना के रूप में तैनात हैं। अधिकारियों की इस शादी को एक मिसाल के रूप में देखा जा।

जब उज्जवल घोष बीदर जिला पंचायत के मुख्य कार्यकारी अधिकारी थे, तब हेफ्शिबा रानी वहाँ बसव कल्याण में सहायक आयुक्त के रूप में कार्यरत थी। बाद में जब वे कलबुर्गी में उपायुक्त बने, तो हेफ्शिबा कलबुर्गी की जिला पंचायत की मुख्य कार्यकारी अधिकारी थी। वहीं कहीं इन दोनों के बीच प्रेम का अंकुर पनपा, जो अब शादी के रूप में सामने आया। नए जोड़े ने पूरे कार्यालय में शादी की मिठाई बांटी।

WhatsApp Image 2022 02 13 at 7.28.41 PM 1

IAS आर विशाल, पीसी जाफर, सुनील पंवार और सुशीला ने गवाह के रूप में दोनों की शादी के दस्तावेजों पर हस्ताक्षर किए। धारवाड़ की उपायुक्त दीपा चोलन, BRTS के प्रबंध निदेशक राजेंद्र चोलन, मुख्य वन संरक्षक डी महेश कुमार और अन्य अधिकारियों ने नवविवाहित जोड़े को शुभकामनाएं दीं। उप-पंजीयक कार्यालय परिसर में अतिथियों के लिए दोपहर के भोजन का भी इंतजाम किया गया था।

शादी में मौजूद AP टाउनशिप एंड इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कॉरपोरेशन के मुख्य तकनीकी सलाहकार, हेफ़सिबा के पिता कोरलापति विजय कुमार ने कहा कि उन्हें खुशी है कि जोड़े ने एक साधारण समारोह में शादी करने का फैसला किया। 2009 बैच के IAS अधिकारी उज्जवल घोष ने पहले उत्तर कन्नड़ और कलबुर्गी जिलों में उपायुक्त के रूप में काम किया था। हेफ्शिबा रानी कोरलापति ने कलबुर्गी और चामराजनगर में मुख्य कार्यकारी अधिकारी और हुबली-धारवाड़ स्मार्ट सिटी स्पेशल पर्पस व्हीकल के प्रबंध निदेशक के रूप में भी काम किया। कुछ समय वे मेंगलुरु सिटी कॉरपोरेशन की कमिश्नर भी रहीं। उन्होंने 7 फरवरी को ही हुबली के उपायुक्त का पदभार ग्रहण किया है।

हेफ्शिबा रानी ने कहा कि दोनों ने एक महीने पहले ही छुट्टी आवेदन दिया था। फिर छुट्टी लेकर दोनों ने शादी कर ली। नव विवाहित जोड़े ने कहा कि हम शादी समारोह को बेहद सरल रखना चाहते थे, जो हमने किया। दोनों परिवारों के बुजुर्ग भी हमें आशीर्वाद देने के लिए मौजूद थे।