Own Kidnapping Case: खुद के अपहरण की साजिश कर पिता से 30 लाख रुपये मांगने वाली छात्रा गिरफ्तार !

452

Own Kidnapping Case:खुद के अपहरण की साजिश कर पिता से 30 लाख रुपये मांगने वाली छात्रा गिरफ्तार !

इंदौर में मिली, दोस्त के साथ किराए का रूम लेकर रह रही थी

इंदौर। अपने अपहरण की साजिश रचने वाली मध्य प्रदेश के शिवपुरी की 19 वर्षीय छात्रा को कोटा पुलिस ने इंदौर से पकड़ लिया है, जिसे पुलिस कोटा लेकर आ रही है. विज्ञान नगर थाना अधिकारी सतीश चंद्र चौधरी का कहना है कि इंदौर पुलिस की मदद से इस पूरे मामले में उन्हें सफलता मिली है. यह लड़की इंदौर के बाहरी इलाके में रह रही थी. लड़की को देर रात कोटा लाया जाएगा. इसके बाद उससे पूछताछ की जाएगी. पुलिस को जिस युवक पर शक है, उसे भी गिरफ्तार किया जाएगाशिवपुरी की नर्सिंग छात्रा काव्या धाकड़ और उसके दोस्त हर्षित को इंदौर क्राइम ब्रांच ने पकड़ लिया। दोनों देवगुराड़िया की शिवाजी वाटिका कालोनी में छुपे थे। इसके पूर्व दोनों ने अमृतसर में लंगर खाकर कुछ दिन गुजारे। चार दिन पूर्व नया रूम लिया और पुलिस जा पहुंची।

download 1

बैराड़ (शिवपुरी) निवासी 20 वर्षीय काव्या धाकड़ ने 18 मार्च को अपहरण की साजिश कर पिता रघुवीर से 30 लाख रुपये मांगे थे। काव्या कोटा की कोचिंग क्लास से नर्सिंग की पढ़ाई कर रही थी। जांच में पता चला कि काव्या ने विदेश जाने के लिए दोस्त हर्षित के साथ साजिश की थी।

Fake Kidnapping Conspiracy Exposed : शिवपुरी की जिस लड़की के अपहरण का हंगामा हुआ, वो लड़की की ही साजिश!

शिवपुरी की लड़की के अपहरण केस में बड़ा खुलासा, विदेश जाने के लिए दोस्तों के साथ रची थी साजिश

इंदौर के भोलाराम उस्ताद मार्ग के एक होस्टल में हाथ-पैर बांध कर फोटो खींचे और पिता रघुवीर को भेज दिए । कोटा के विज्ञान नगर थाना की पुलिस ने तलाश की तो काव्या और हर्षित फरार हो गए। मंगलवार को पुलिस ने दोनों को इंदौर के देवगुराड़िया से पकड़ लिया।

गुरुद्वारा में रुके और लंगर खाकर दिन गुजारे

एडिशनल डीसीपी राजेश दंडोतिया के मुताबिक, पूछताछ में बताया कि दोनों अमृतसर गए थे। गुरुद्वारा में ही रुके और लंगर खाकर दिन गुजारे। चार दिन पूर्व देवगुराड़िया पहुंचे और शिवाजी वाटिका में रहने वाले सुरेंद्र के घर किराए का बोर्ड देख रूम ले लिया। संदिग्ध गतिविधियां देखकर मुखबिर ने पुलिस को खबर कर दी। शाम को टीम कालोनी में पहुंची और दोनों को पकड़ लिया। एडीसीपी के मुताबिक, कोटा पुलिस को सूचना दे दी है। दोनों की दस्तयाबी पर 20 हजार रुपये का इनाम घोषित था।

बरामदगी की सूचना मिलते ही एडिशनल पुलिस आयुक्त अमितसिंह, डीसीपी हंसराज सिंह पूछताछ करने पहुंचे। छात्रा ने अपहरण की साजिश कर पिता से फिरौती मांगना स्वीकार लिया। रोते हुए बोली, स्वजन डाक्टर बनने का दबाव बनाते थे। पढ़ाई में कमजोर थी। हर्षित से उसका प्रेम प्रसंग चल रहा था। भंवरकुआं क्षेत्र में पढ़ने के दौरान दोनों साथ रहे है। मां उसे कोटा में एडमिशन करवा कर लौट गई थी। वह भी कोचिंग नहीं गई और हर्षित के पास आ गई। पासपोर्ट के लिए आवेदन दिया और अपहरण की फर्जी सूचना दे दी।

ये है पूरा मामला : बता दें कि 18 मार्च को मध्य प्रदेश निवासी एक व्यक्ति ने कोटा शहर पुलिस को बेटी के अपहरण होने और फिरौती मांगने की शिकायत दी थी. परिवादी ने बताया था कि उसकी बेटी कोटा में नीट की तैयारी निजी कोचिंग से कर रही है और एक हॉस्टल में रहती है. यहां से उसका अपहरण हो गया है. अपहरण करने वाले ने बेटी की फोटो भेजकर 30 लाख रुपए की फिरौती मांगी थी. पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की तो यह मामला झूठा पाया गया. कोटा पुलिस को जांच में पता चला कि लड़की कोटा में महज 3 दिन रुकी थी. इसके बाद वह यहां से चली गई थी और इंदौर में रह रही थी. लड़की पिछले 8 महीने से पिता को किसी अन्य नंबर से कोचिंग की अटेंडेंस और टेस्ट के मार्क्स भेजा करती थी, ताकि उन्हें पता न चल सके.

Revenue Campaign: अब तक 1.25 लाख प्रकरणों का निराकरण,दतिया,शिवपुरी, सीहोर और खंडवा जिला अव्वल!